Mustard oil benefits: सेहत के लिए कई मायनों में गुणकारी है सरसों का तेल, क्या कहती है हालिया रिपोर्ट

mustard oil benefits/sarso tel ke fayde: सरसों का तेल कई मायनों में सेहत के लिए गुणकारी होता है। हालिया रिपोर्ट सरसों तेल के कई लाभ का जिक्र करती है।

sarso tel ke fayde| mustard oil benefits in hindi,mustard oil benefits,पीली सरसों के तेल के फायदे,सरसों का तेल नाक में डालने के फायदे,सरसों का तेल नाक में डालने के फायदे,सरसों तेल के लाभ,सरसों तेल के फायदे बालों के लिए,सरसों तेल के फायदे बताइए,सरसों तेल
(तस्वीर के लिए साभार - iStock images) 

मुख्य बातें

  • सरसो का तेल पाचन शक्ति में सुधार करता है
  • सरसो के तेल में पका भोजन गुणकारी होता है
  • सरसो का तेल वजन कंट्रोल में सहायक होता है

नई दिल्ली: यह कहना गलत नहीं होगा कि कोरोना काल में लोगों की सेहत और फिटनेस को लेकर जागरूकता बढ़ी है। अब लोग खानपान को लेकर सतर्कता बरत रहे है। साथ ही फिटनेस को लेकर भी उनकी पहले के मुकाबले जागरूकता बढ़ी है ।  ऐसे में स्वास्थ्य के प्रति जागरूक भारतीयों के बीच सरसो तेल पसंदीदा तेल के रूप में उभरा है। बड़ी संख्या में लोग अब अपने आपको फिट रखने के लिए सरसों के तेल को तवज्जो दे रहे हैं।

सरसों तेल में खाना पकाना लाभकारी/sarso tel ke fayde

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स), नई दिल्ली और सेंट जॉन अस्पताल, बेंगलुरू के साथ हार्वर्ड स्कूल ऑफ मेडिसिन द्वारा किए गए एक ऐतिहासिक अध्ययन से पता चला है कि सरसों के तेल को प्राथमिक तौर पर खाना पकाने और डीप-फ्राइंग तेल के रूप में सेवन करने से कोरोनरी हृदय रोग से जुड़े जोखिम को 70 प्रतिशत से भी ज्यादा हद तक कम किया जा सकता है।

mustard oil benefits in hindi

यही वजह है कि आज के समय में डॉ. एस. सी. मनचंदा जैसे कई प्रख्यात हृदय रोग विशेषज्ञ स्पष्ट रूप से स्वस्थ हृदय और संवहनी प्रणाली के लिए कोल्ड-प्रेस्ड (कच्ची घानी के रूप में भी जाना जाता है) सरसों के तेल की सलाह देते हैं। पोषण विशेषज्ञ और आहार विशेषज्ञ भी इस बात को लेकर एकमत हैं कि सरसों का तेल स्वास्थ्यप्रद खाना पकाने के तेलों में से एक है, जिसे आप बाजार में पा सकते हैं।

  1. सरसो के तेल से पाचन दुरुस्त रहती है और भूख बढ़ाने में भी मददगार होता है।
  2. थियामाइन, फोलेट व नियासिन काफी मात्रा में होने की वजह से यह वजन घटना में सहायक होता है।
  3. इसकी मालिश से भी शरीर की अतिरिक्त चर्बी घटती है।
  4. सरसों का तेल कोलेस्ट्रॉल को संतुलित रखने में मददगार होता है. 
  5. सरसों के तेल की मालिश से शरीर की मांसपेशियां मजबूत होती हैं और ब्लड सर्कुलेशन बेहतर होता है। 
  6. यह त्वचा के रुखापन को खत्म करता है। 
  7. 3.सरसों के तेल का इस्तेमाल फंगल संक्रमण के लिए भी किया जाता है।  
  8. सरसों का तेल (Mustard Oil) दांत दर्द और पायरिया में भी फायदेमंद है। 
  9. सरसों का तेल हमें  कैंसर को पैदा करने वाले गुणों के लिए बचाता है क्योंकि सरसों के तेल में ग्लूकोसिनोलेट नामक तत्व होता है।

सरसो तेल प्राकृतिक विटामिन और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर

पुरी ऑयल मिल्स लिमिटेड (पी मार्क मस्टर्ड ऑयल के निमार्ता) के महाप्रबंधक (मार्कोम) उमेश वर्मा के मुताबिक हमारी कंपनी द्वारा आयोजित एक वेबिनार में बोलते हुए, सुश्री देवगन ने बताया था कि कोल्ड-प्रेस्ड सरसों का तेल कई मायनों में इसकी संरचना में एक आदर्श खाना पकाने का माध्यम है। इसमें आदर्श अनुपात में सभी सही फैटी एसिड होते हैं और यह प्राकृतिक विटामिन और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होता है।

सरसो तेल के फायदे हिंदी में

अपनी निर्माण प्रक्रियाओं में हम सरसों के तेल की इस प्राकृतिक संरचना को पूरी तरह से बरकरार रखने की कोशिश करते हैं, ताकि हमारे उपभोक्ता उन सभी पोषक तत्वों और स्वास्थ्य लाभों का आनंद उठा सकें, जिन्हें लेकर कोल्ड प्रेस्ड सरसों के तेल में वादा किया जाता समकालीन आहार और भोजन की आदतों ने ओमेगा-6 और ओमेगा-3 अनुपात में एक बड़ा असंतुलन पैदा कर दिया है और सरसों का तेल इसे ठीक करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है।

सरसों के तेल की खासियत 

  • सरसों के तेल जैसे पौधे आधारित (प्लांट बेस्ड) तेलों में फाइटोस्टेरॉल होते हैं, जो खराब कोलेस्ट्रॉल (एलडीएल) को शरीर में अवशोषित होने से रोकते हैं।
  • सरसों के तेल में विशेष रूप से शून्य ट्रांस फैटी एसिड (टीएफए) होता है ।
  • यह अपने सभी प्राकृतिक पोषक तत्वों को बरकरार रखता है।
  • कोल्ड-प्रेस्ड सरसों के तेल का प्रमुख लाभ यह है कि इसमें ओमेगा-6 और ओमेगा-3 का आदर्श अनुपात होता है।'
  • सरसों के तेल की खासियत यह है कि उच्च तापमान पर भी इसमें सभी पोषक तत्व स्थिर और बरकरार रहते हैं।
  • खाना पकाने के माध्यम के रूप में, सरसों का तेल अपने हाई स्मोकिंग प्वाइंट (लगभग 250 डिग्री सेल्सियस) के साथ भारतीय खाना पकाने के लिए आदर्श होता है, जिसके लिए लंबे समय तक उच्च लौ हीटिंग की आवश्यकता होती है। 
  • सरसो तेल  मोनोअनसेचुरेटेड फैटी एसिड (एमयूएफए) में समृद्ध है, जो स्वस्थ कोलेस्ट्रॉल संतुलन बनाए रखने में मदद करता है।
  • सरसो तेल में अल्फा लिनोलेनिक एसिड (एएलए) भी होता है, जो हृदय और रक्त वाहिकाओं को स्वस्थ रखता है।

पोषण विशेषज्ञ और आहार सलाहकार नेहा पटोदिया भी कविता देवगन से तहे दिल से सहमत हैं और इनका कहना है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने 5:4 (ओमेगा-6 से ओमेगा-3) के अनुपात की सिफारिश की है। कोल्ड-प्रेस्ड सरसों का तेल 1:1 के अनुपात के साथ इस बेंचमार्क के सबसे करीब आता है।

एक प्रमुख पोषण विशेषज्ञ और फिटनेस विशेषज्ञ रुजुता दिवेकर भी सरसों के तेल जैसे कोल्ड-प्रेस्ड पारंपरिक तेलों की जोरदार सिफारिश करती हैं।उनका मानना है कि यदि स्थानीय व्यंजनों को तैयार करने के लिए हजारों वर्षों से किसी विशेष क्षेत्र में तेल का उपयोग किया गया है, तो इसका मतलब है कि तेल उस क्षेत्र की स्वास्थ्य और आहार संबंधी जरूरतों के लिए फिट हो चुका है।

पोषण में सरसों का तेल मददगार

पोषण विशेषज्ञ और आहार विशेषज्ञ विजया अग्रवाल के अनुसार कि वनस्पति स्रोतों से निकाले गए तेल उचित पोषण के लिए महत्वपूर्ण हैं, क्योंकि उनमें ओमेगा-3 जैसे कुछ आवश्यक फैटी एसिड होते हैं, जिन्हें मानव शरीर द्वारा संश्लेषित नहीं किया जा सकता है।'  ऐसा ही एक फाइटोस्टेरॉल है अल्फा लिनोलेनिक एसिड (एएलए), जो हृदय रोग, उच्च रक्तचाप और एथेरोस्क्लेरोसिस के जोखिम को काफी कम करता है।

वजन घटना में सरसों तेल सहायक

डॉ. मंजरी चंद्रा, जो चिकित्सीय पोषण और नैदानिक डायटेटिक्स में विशेषज्ञता रखती हैं, कोल्ड प्रेस्ड सरसों के तेल को एक शक्तिशाली विषहरण एजेंट के रूप में देखती हैं, खासकर जब इसे सही खाद्य पदार्थों के साथ जोड़ा जाता है - विशेष रूप से बीटा कैरोटीन, लाइकोपीन, फ्लेवोनोइड्स, आइसोथियोसाइनेट्स जैसे स्वस्थ फाइटोकेमिकल्स से भरी सब्जियां आदि। सिमरन सैनी एक पोषण विशेषज्ञ और वजन घटाने के लिए एक सलाहकार के काम करतीं हैं, जो दैनिक आधार पर जीवनशैली से संबंधित स्वास्थ्य मुद्दों जैसे कि उच्च कोलेस्ट्रॉल के स्तर, उच्च रक्तचाप जैसे मुद्दों पर सलाह देती हैं, उनका भी सरसों के तेल में खासा विश्वास है। (IANS इनपुट के साथ )

डिस्क्लेमर: प्रस्तुत लेख में सुझाए गए टिप्स और सलाह केवल आम जानकारी के लिए हैं और इसे पेशेवर चिकित्सा सलाह के रूप में नहीं लिया जा सकता। किसी भी तरह का फिटनेस प्रोग्राम शुरू करने अथवा अपनी डाइट में किसी तरह का बदलाव करने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श जरूर लें।

 
 

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर