Pre-eclampsia:प्री-एक्लेमप्सिया क्या है ,जानिए इसके लक्षण? कोविड संक्रमण से बढ़ता है प्री-एक्लेमप्सिया का खतरा

Pre-eclampsia Symptoms, Signs, Causes, Treatments: प्री-एक्लेम्पसिया गर्भवती महिलाओं में होनेवाली बीमारी है जिसमें दुनिया भर में 15 प्रतिशत गर्भवती महिलाएं उच्च रक्तचाप का शिकार होती हैं। 

  preeclampsia, what is preeclampsia, preeclampsia meaning in hindi, preeclampsia signs, preeclampsia causes, preeclampsia treatment, preeclampsia symptoms in hindi, preeclampsia causes in hindi, preeclampsia causes
(तस्वीर के लिए साभार - iStock images) 

मुख्य बातें

  • दुनिया भर में लगभग 15 फीसदी गर्भवती महिलाओं को यह बीमारी होती है
  • यह बीमारी दुनिया भर में मातृ और शिशु मृत्यु का प्रमुख कारण है
  • जो महिलाएं गर्भावस्था के दौरान कोविड संकमित होती हैं, उनमें प्री-एक्लेमप्सिया विकसित होने का काफी अधिक जोखिम होता है

Pre-eclampsia Symptoms, Causes​ : गर्भावस्था के दौरान गर्भवती महिला और उसके बच्चे का स्वस्थ रहना बेहद जरूरी है। गर्भावस्था के दौरान कई महिलाओं को प्री-एक्लेम्पसिया जैसी बीमारी का सामना करना पड़ता है जिसका असर बच्चे पर पड़ता है। दुनिया भर में लगभग 15 प्रतिशत गर्भवती महिलाएं उच्च रक्तचाप का शिकार होती हैं। 

प्री-एक्लेमप्सिया क्या है?
गर्भवती महिलाओं में हाई ब्‍लड प्रेशर, पेशाब में प्रोटीन आना जैसी स्थिति होती है।  पैरों, टांगों और बांह में सूजन आने की स्थिति को प्रीक्‍लैंप्‍सिया कहते हैं। जब य‍ह स्थिति गंभीर रूप ले लेती है तो उसे एक्‍लेम्‍पसिया कहा जाता है। यदि इसका समय रहते इलाज ना किया जाए तो मां और बच्चे की जान को खतरा हो सकता है।

एक आंकड़े के मुताबिक दुनिया भर में लगभग 15 फीसदी गर्भवती महिलाओं की बीमारी इससे होती है।  यह बीमारी दुनिया भर में मातृ और शिशु मृत्यु का प्रमुख कारण है। प्री-एक्लेमप्सिया गर्भावस्था के 20वें सप्ताह के बाद रक्तचाप में अचानक वृद्धि है।

प्री-एक्लेमप्सिया के लक्षण

  • उच्च रक्तचाप
  • सिरदर्द
  • चेहरे और हाथों में सूजन
  •  धुंधली दृष्टि
  •  सीने में दर्द 
  •  सांस लेने में तकलीफ

कोविड संक्रमण से बढ़ता है प्री-एक्लेमप्सिया का खतरा-सर्वे

एक नए अध्ययन के अनुसार, जो महिलाएं गर्भावस्था के दौरान कोविड संकमित होती हैं, उनमें प्री-एक्लेमप्सिया विकसित होने का काफी अधिक जोखिम होता है। अमेरिकन जर्नल ऑफ ऑब्सटेट्रिक्स एंड गायनेकोलॉजी में प्रकाशित अध्ययन से पता चला है कि गर्भावस्था के दौरान सॉर्स कोव 2 संक्रमण वाली महिलाओं में गर्भावस्था के दौरान संक्रमण के बिना प्रीक्लेम्पसिया विकसित होने की संभावना 62 प्रतिशत अधिक होती है।

वेन स्टेट यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन में आण्विक प्रसूति और आनुवंशिकी के प्रोफेसर रॉबटरे रोमेरो ने कहा कि यह जुड़ाव सभी पूर्वनिर्धारित उपसमूहों में उल्लेखनीय रूप से सुसंगत था। इसके अलावा, गर्भावस्था के दौरान सॉर्स कोव 2 संक्रमण गंभीर विशेषताओं, एक्लम्पसिया और एचईएलएलपी सिंड्रोम के साथ प्री-एक्लेमप्सिया की बाधाओं में उल्लेखनीय वृद्धि के साथ जुड़ा है।एचईएलएलपी सिंड्रोम गंभीर प्री-एक्लेमप्सिया का एक रूप है जिसमें हेमोलिसिस (लाल रक्त कोशिकाओं का टूटना), ऊंचा लिवर एंजाइम और कम प्लेटलेट काउंट शामिल हैं।

बीमारी दुनिया भर में मातृ और शिशु मृत्यु का प्रमुख कारण 

टीम ने पिछले 28 अध्ययनों की समीक्षा के बाद अपने निष्कर्ष प्रकाशित किए, जिसमें 790,954 गर्भवती महिलाएं शामिल थीं, जिनमें 15,524 कोविड -19 संक्रमण का निदान किया गया था।रोमेरो ने कहा कि ऐसेम्प्टोमैटिक और रोगसूचक दोनों तरह के संक्रमण ने प्री-एक्लेमप्सिया के खतरे को काफी बढ़ा दिया है।"फिर भी, प्री-एक्लेमप्सिया विकसित होने की संभावना रोगसूचक बीमारी वाले रोगियों में स्पशरेन्मुख बीमारी वाले लोगों की तुलना में अधिक है।" प्री-एक्लेमप्सिया फाउंडेशन के अनुमानों के अनुसार, यह स्थिति हर साल 76, 000 मातृ मृत्यु और 500,000 से अधिक शिशु मृत्यु के लिए जिम्मेदार है।

संक्रमित गर्भवती महिलाओं की बारीकी से निगरानी करनी चाहिए

शोधकतार्ओं ने कहा कि स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों को एसोसिएशन के बारे में पता होना चाहिए और प्री-एक्लेमप्सिया का जल्द पता लगाने के लिए संक्रमित गर्भवती महिलाओं की बारीकी से निगरानी करनी चाहिए। अमेरिकन जर्नल ऑफ ऑब्सटेट्रिक्स एंड गायनेकोलॉजी-मातृ-भ्रूण चिकित्सा में प्रकाशित एक अलग अध्ययन से पता चला है कि गर्भावस्था के दौरान एमआरएनए कोविड -19 वैक्सीन प्राप्त करने वाली महिलाएं अपने बच्चों को उच्च स्तर के एंटीबॉडी पास करती हैं। 36 नवजात शिशुओं, जिनकी माताओं को गर्भावस्था के दौरान फाइजर-बायोएनटेक और मॉडर्न कोविड -19 वैक्सीन प्राप्त हुई थी, उसके अध्ययन से पता चला कि 100 प्रतिशत शिशुओं में जन्म के समय सुरक्षात्मक एंटीबॉडी थे।

(एजेंसी IANS इनपुट के साथ)

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर