Desi Ghee Ke fayde : देसी घी स्वास्थ्य के लिए है कितना फायदेमंद, इसका कोलेस्‍ट्रोल अच्‍छा या बुरा - जानें यहां

घी को खाद्य पदार्शों में सबसे शुद्ध और पवित्र माना जाता है, इसका उपयोग धार्मिक अनष्ठानों के साथ आहार में भी किया जाता है। लेकिन क्या हजारों वर्षों से घी के स्वास्थ्य लाभ को लेकर मान्यता सही है? पढ़ें र‍िसर्च।

is ghee bad for cholesterol, ghee benefits, ghee benefits for weight gain, ghee benefits for skin, how to take ghee for weight loss, ghee advantage, ghee disadvantage, ghee side effects, resaerch in ghee, ghee,
घी स्वास्थ के लिए कैसे है लाभकारी 

मुख्य बातें

  • गाय के दूध का घी होता है सबसे शुद्ध और ताकतवर।
  • अमेरिकन लाइब्रेरी ऑफ मेडिसिन ने आयुर्वेद में घी के लाभ को ठहराया सही और सटीक।
  • घी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बनाता है मजबूत और पाचन शक्ति में करता है सुधार

जब बच्चे छोटे होते हैं तो अक्सर घर के बड़े बुजुर्गों द्वारा बच्चों को डेयरी प्रोडक्ट्स जैसे घी, पनीर, दूध दही खिलाने पर जोर दिया जाता है। लेकिन बड़े होने के बाद इसका सेवन आपके लिए चिंता का विषय बन जाता है। जी हां अधिकतर लोगों का मानना है कि घी का सेवन शरीर में कोलेस्ट्रोल लेवल में वृद्धि करता है। वजन कम करने के लिए घी से दूरी बनाना लाजमी है, लेकिन क्या आप जानते हैं आयुर्वेद में घी का इस्तेमाल वजन कम करने के लिए किया जाता है।

कैलोरी, सैचुरेटिड फैट, कैल्शियम, विटामिन और प्रोटीन से भरपूर देशी घी ना केवल वजन कम करने में कारगार है बल्कि यह मसल्स को भी स्ट्रॉन्ग बनाता है। साथ ही गंभीर बीमारियों से निजात दिलाने व इनके संक्रमण से दूर रखने में भी कारगार होता है। हाल ही में अमेरिकन शोधकर्ताओं द्वारा घी को लेकर अध्ययन किया गया। ऐसे में आइए जानते हैं अध्ययन से जुड़ी महत्वपूर्ण बातें।

घी कैसे तैयार किया जाता है

भारत में लगभग हर घर में शुद्ध देशी घी का उपयोग और सेवन किया जाता है। मक्खन को मथ कर उसे गर्म कर घी बनाया जाता है। इसे गाय, भैंस और बकरी के दूध का बनाया जाता है। वहीं भारत में गाय के दूध के घी को अधिक ताकतवर और शुद्ध माना जाता है। फॉस्फोलिपिड्स की उपस्थिति के कारण घर पर बना शुद्ध देशी घी लंबे समय तक तरोताजा रहता है। यह बाजार में उपलब्ध घी से कई गुना अच्छा और ताकतवर होता है। हजारों वर्षों से आयुर्वेद में गाय के शुद्ध देशी घी का इस्तेमाल दवाई बनाने के लिए किया जाता है। वहीं सनातन धर्म में घी का धार्मिक अनुष्ठानों में पूजा पाठ, यज्ञ के लिए भी किया जाता है। घी को संस्कृत में घृत के रूप में जाना जाता है।

घी के बारे में आयुर्वेद क्या कहता है?

इसके लिए हम अमेरिकन लाइब्रेरी ऑफ मेडिसिन के लेखक हरि शर्मा, शियाओइंग झांग और चंद्रधर द्विवेदी द्वारा प्रकाशित एक लेख पर नजर डालते हैं। आपको बता दें चंद्रधर द्विवेदी, साउथ डकोटा स्टेट यूनिवर्सिटी में फार्माकोलॉजी के एक प्रतिष्ठित प्रोफेसर हैं। इन विशेषज्ञों द्वारा सीरम लिपिड स्तर और माइक्रोसोमल लिपिड पेरोक्सीडेशन पर घी के प्रभाव की जांच की गई। क्योंकि पिछले कई दशकों में एशियाई भारतीयों में कोरोनरी एर्टेनरी रोग यानि सीएडी के बढ़ते प्रसार में घी को फंसाया जा रहा है। विशेषज्ञों के मुताबिक घी की रैंकिंग फैटी एसिड और कोलेस्ट्रॉल ऑक्सीकरण उत्पादों के कारण काफी गिर गई है।

आयुर्वेद के अनुसार घी सेहत के लिए बेहद फायदेमंद होता है। यह जीवन जीने की क्षमता यानि दीर्घायु में मदद करता है और शरीर को कई गंभीर बीमारियों से निजात दिलाता है व इनके संक्रमण से दूर रखने में कारगार होता है।

  • यह रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बनाता है औऱ पाचन शक्ति में सुधार करता है। तथा शरीर को ओजस और ताकतवर बनाता है।
  • घी याद्दाश्त में सुधार करता है तथा मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र को मजबूत बनाता है।
  • घी वात और पित्त को शांत करता है तथा कफ बनने से रोकता है।

 द्विवेदी ने टाइम के साथ बातचीत के दौरान बताया कि घी का इस्तेमाल हर्बल दवा बनाने के लिए किया जाता है। घी सबसे पवित्र है और जब यह आपको दवा के साथ दिया जाता है, तो यह स्वास्थ्य लाभ के साथ आध्यात्मिक लाभ दोनों प्रदान करता है।

आध्यात्मिक पहलुओं के अलावा द्विवेदी ने बताया कि सैचुरेटिड फैट, कैल्शियम, विटामिन और प्रोटीन से युक्त घी का सेवन स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद होता हैं। उन्होंने कहा कि घी के साथ सब्जियां या अन्य खाद्य पदार्थ पकाने या खाने से अधिक पोषक तत्व प्राप्त होता है। ज्यादातर लोगों में खासकर बच्चों को घी का स्वाद बेहद पसंद होता है।

घी को लेकर शोधकर्ताओं ने किया शोध

  • ह्रदय के स्वास्थ पर घी के अच्छे व बुरे प्रभाव को जानने के लिए विशेषज्ञों द्वारा चूहों पर अध्ययन किया गया।
  • दो चूहों को भरपूर मात्रा में घी से युक्त खाद्य पदार्थ दिया गया। आपको बता दें एक सेट स्वस्थ जानवरों का था और दूसरा सेट हाइब्रेड चूहों का था, जो आनुवांशिक रूप से कुछ गंभीर बीमारियों का शिकार थे।
  • शोधकर्ताओं के मुताबिक स्वस्थ जानवरों में घी से युक्त खाद्य पदार्थों को अपने आहार में शामिल करने से ह्रदय रोग या कोलेस्‍ट्रोल के लेवल में वृद्धि नहीं देखी गई। वहीं दूसरे सेट में जो जानवर बीमारियों से ग्रस्त थे, उनमें घी से युक्त खाद्य पदार्थ का सेवन करने से खराब कोलेस्ट्रोल ट्राइग्लिसराइड्स के स्तर में वृद्धि देखी गई।
  • इससे साफ जाहिर होता है कि स्वस्थ व्यक्तियों में घी से युक्त खाद्य पदार्थ का सेवन स्वास्थ के लिए लाभकारी होता है। लेकिन ध्यान रहे खाना बनाने वाले तेल के स्थान पर घी का सेवन ना करें।

मनुष्यों पर किए गए शोध

  • भारत के ग्रामीण क्षेत्रों में किए गए शोध के मुताबिक उन पुरुषों में कोरोनरी और ह्रदय से संबंधित बीमारी काफी कम देखी गई जो अधिक मात्रा में घी का सेवन करते हैं।
  • अधिक मात्रा में घी का सेवन सीरम कोलेस्ट्रोल, ट्राइग्लिराइड्स, फॉस्फोलिपिड्स और कोलेस्ट्रोल एस्टर की मात्रा को कम करती है।
  • घी के सेवन से सोरायसिस से ग्रस्त मरीजों के लक्षणों में भी काफी सुधार देखे गए। आपको बता दें MAK-4 घी से युक्त हर्बल मिश्रण हाइपरलिपिडेमिक रोगियों में ऑक्सीकरण के लिए एलडीएल के प्रतिरोधक को बढ़ाता है तथा इन रोगियों में कुल कोलेस्ट्रोल, एचडीएल, एलडीएल या   ट्राइग्लिसराइड्स के स्तर पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है।
  •  घी से युक्त खाद्य पदार्थ रोग प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि करता है तथा याद्दाश्त को बढ़ाने और घाव भरने में कारगार होता है।

यह भी जानें

अध्ययन के दौरान शोधकर्ताओं के अनुसार सकारात्मक शोध, आयुर्वेदिक ग्रंथों में उल्लेखित घी के स्वास्थ्य लाभ और हजारों वर्षों से घी का आयुर्वेद में चिकित्सा के रूप में इस्तेमाल किए जाने का समर्थन करते हैं। आपको बता दें इस लेख में उल्लेखित घी के स्वास्थ्य लाभ केवल सामान्य सूचना के लिए है। यदि आप घी का सेवन किसी बीमारी के उपचार के लिए करना चाहते हैं तो सबसे पहले डॉक्टर से सलाह अवश्य लें।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर