Vaccine for corona: भारत में 2021 की पहली तिमाही के भीतर ‘अप्रूव्ड’ कोरोना वायरस वैक्सीन होगी: रिपोर्ट

Coronavirus vaccine Update: कोरोना से निजात पाने के लिए विश्वस्तर पर दवा बनाई जा रही है। रिपोर्ट के मुताबिक 2021 की पहली तिमाही में भारत में कोरोना की अप्रूव वैक्सीन बन जाएगी।

Coronavirus vaccine
Coronavirus vaccine, तस्वीर के लिए साभार- iStock 

मुख्य बातें

  • भारत में साल 2021 की पहली तिमाही के भीतर कोरोना वैक्सीन बन सकती है
  • रिपोर्ट के मुताबिक 2021 की पहली तिमाही में भारत में कोरोना की अप्रूव वैक्सीन बन जाएगी
  • भारत में तीन COVID-19 टीकों का परीक्षण किया जा रहा है 

नई दिल्ली: एक रिपोर्ट में दावा किया गया है कि भारत में साल 2021 की पहली तिमाही के भीतर कोरोना वैक्सीन बन जाएगी। वॉल स्ट्रीट रिसर्च और ब्रोकरेज फर्म, बर्नस्टीन रिसर्च से गुरुवार को जारी रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) को पहला टीका देने के लिए पूरी तरह से तैयार है। भारत साझेदारी की मदद से चार में से 2 वैक्सीन एक्सेस करने में कामयाब हो जाएगा।  

 ऑक्सफोर्ड एस्ट्राजेनेका को इसी साल के अंत तक अप्रूवल  

ऑक्सफोर्ड / एस्ट्राजेनेका का वायरल वेक्टर वैक्सीन और नोवावैक्स का प्रोटीन सब-यूनिट वैक्सीन इसी साल के अंत तक अप्रूवल पा सकती हैं। वैश्विक रूप से चार उम्मीदवार हैं जो साल 2020 के अंत या 2021 की शुरुआत तक अप्रूवल यानी अनुमोदन के करीब हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि चरण 1 और 2 परीक्षणों के डेटा इन दोनों उम्मीदवारों के लिए 'सुरक्षा की दृष्टि से और एक प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया प्राप्त करने की वैक्सीन की क्षमता के लिए आशाजनक दिखते हैं।  

भारत में तीन COVID-19 टीकों का परीक्षण किया जा रहा है 

सीरम इंस्टीट्यूट द्वारा निर्मित ऑक्सफोर्ड COVID-19 वैक्सीन का चरण 2 नैदानिक ​​परीक्षण बुधवार को भारती विद्यापीठ के मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल, पुणे में शुरू हुआ। अस्पताल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने पुष्टि की कि दो स्वयंसेवकों के महत्वपूर्ण स्वास्थ्य मानदंड,  जिन्हें भारत में पहली गोली मिली, कोविशिल्ड करार दिया गया,  वे सामान्य हैं।  एक महीने के बाद खुराक को दोहराया जाएगा। गुरुवार को चिकित्सा संस्थान में तीन और स्वयंसेवकों को वैक्सीन दी गई। वर्तमान में, भारत में SARS-CoV-2 वायरस के खिलाफ तीन वैक्सीन उम्मीदवारों की जांच की जा रही है। 

सीरम 2021 में COVID-19 टीकों की 600 मिलियन खुराक की आपूर्ति कर सकता है 

दुनिया में सबसे बड़ा वैक्सीन निर्माता सीरम इंस्टीट्यूट,  2021 में 600 मिलियन खुराक और 2022 में 1 बिलियन खुराक की आपूर्ति कर सकता है। जिसमें से 400 से 500 मिलियन ‘2021 में भारत में गवी की फर्म की प्रतिबद्धताओं के संदर्भ में उपलब्ध होना चाहिए। रिपोर्ट में यह भी अनुमान लगाया गया है कि सरकारी और निजी बाजार के बीच वैक्सीन की मात्रा 55:45 होगी। इस महीने की शुरुआत में, SII ने घोषणा की है कि कोविशिल्ड (Covishield) वैक्सीन की कीमत अधिकतम अमेरिकी डॉलर  3 प्रति डोज़ होगी और इसे गावी (GAVI) के COVAX एडवांस मार्केट कमिटमेंट सहित 92 देशों को उपलब्ध कराया जाएगा। 

तीन अन्य भारतीय कंपनियां कर रही हैं कोविड टीके पर काम  

रिपोर्ट में कम से कम तीन अन्य भारतीय फार्मा कंपनियों- Zydus Cadila, Bharat Biotech और Biological E  को भी सूचीबद्ध किया गया है जो अपने स्वयं के वैक्सीन उम्मीदवारों पर काम कर रही हैं और वर्तमान में चरण 1 और 2 मानव परीक्षणों में हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत हर साल विभिन्न वैक्सीन की लगभग 2.3 बिलियन खुराक का उत्पादन करता है।  

निम्न और माध्यम आय वाले देशों का भी ख्याल  

न सिर्फ भारत बल्कि और भी निम्न और माध्यम आय वाले देशों का ख्याल भी एस आई आई रख रही है। सीरम इन देशों के लिए कोविड-19  टीकों की 100 मिलियन खुराक तक के निर्माण और वितरण में तेजी लाने के लिए गावी, और बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन के साथ साझेदारी की है।  

आज भारत की तरफ दुनिया के और भी देश आशा की नजरों से देख रहे हैं। दुनियाभर में करीब 200 कोविड-19 वैक्सीन वर्क में हैं और कम से कम 7 कैंडिडेट तीसरे चरण के क्लिनिकल ट्रायल में पहुंच गए हैं।  

  
 

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर