Oxygen level in corona: शरीर में ऑक्‍सीजन की मात्रा बनाए रखने के तरीके, एक्‍सपर्ट से जानें क्‍या करें

how to control oxygen level in body: शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा पर्याप्त होना चाहिए जो हमारे शरीर के सुचार संचालन के लिए जरूरी होता है। इस लेख में दिए गए उपायों से आप ऑक्सीजन की मात्रा नियंत्रित रख सकते हैं।

how to control oxygen level,how to increase blood oxygen level,how to increase blood oxygen level at home,शरीर को ऑक्सीजन की जरूरत क्यों होती है,शरीर को ऑक्सीजन कितना होना चाहिए,शरीर को ऑक्सीजन बढ़ाने के उपाय,कोरोना वायरस ऑक्सीजन लेवल,कोरोना वायरस ऑक्सीजन
(तस्वीर के लिए साभार - Istock images) 

मुख्य बातें

  • हम ऑक्सीजन के बगैर जिंदा नहीं रह सकते,ऑक्सीजन सबसे जरूरी
  • शरीर के संचालन के लिए ऑक्सीजन की सहीं मात्रा जरूरी
  • शरीर में ऑक्सीजन (प्राणवायु) की मात्रा को नियंत्रित रखना जरूरी है

नई दिल्ली  : पिछले कुछ दिनों से कोरोना वायरस मरीजों की बढती संख्या और गंभीर स्थिति में ऑक्सीजन मिलने में हो रही कठिनाइयों के बारे में हर कोई जानता है। कोरोना संक्रमण से बचने के उपाय मास्क पहनना, सैनिटाइजर का इस्तेमाल करना, हाथों को पानी और साबुन से साफ रखना ये उपाय छोटे बच्चों से लेकर सिनियर सिटिजन तक सब लोग कर रहे हैं।

लेकिन अभी इसके अलावा एक समस्या सामने आ रही है। जैसे कि, शरीर में ऑक्सीजन (प्राणवायु) की मात्रा को नियंत्रित रखना जरूरी हो गया है। दीर्घ आयु का सम्बन्ध प्राणवायु से जुड़ा है। इसलिए ऑक्सीजन का हमारे जीवन में अधिक महत्त्व है। इस कारण नैसर्गिक उपाय योजना से अपने शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा को नियंत्रित करना जरूरी है।

1-नियमित रूप से व्यायाम और योगासन करें।

रोज 30 मिनट का वॉक करना जरूरी है। इससे शरीर का रक्त प्रवाह अच्छा रखने में मदत मिलती है।

योगासन - प्राणायाम की अहम होती है भूमिका

प्राणायाम में अनुलोम -विलोम प्राणायाम, दीर्घश्वसन प्राणायाम - इससे फेफडों का आरोग्य अच्छा रहता है।

आसनों में - सुखासन, पद्मासन, त्रिकोणासन, भुजंगासन, मार्जरासन, अधोमुखश्वानासन, मत्स्यासन, ये सभी आसन नित्य रोज नियमित करने से डायफ्राम की मांसपेशियों की ताकत अच्छी रहती है। प्राणायाम और योगासन करते वक्त जब हम नाक से सांस लेते हैं तो सांस की धीमी गति के कारण फेफड़ों में अधिक मात्रा में ऑक्सीजन अवशोषित होता है और शरीर की ऑक्सीजन/ प्राणवायु के स्तर में सुधार होता है।

2- पौष्टिक आहार का सेवन

- जैसे प्यास लगती है वैसे पानी पीते रहना चाहिए, क्योंकि पानी का रासायनिक सूत्र H2O होता है जिसमे हाइड्रोजन के 2 और ऑक्सिजन का 1 परमाणु होता है। इसलिए पानी के सेवन से बॉडी हायड्रेट रहती है और ऑक्सीजन की मात्रा शरीर में बनाए रखती है।

इसके अलावा, आम, आंवला,  निबू, पपीता, अनार,  तरबूज ये सब ऐसे फल हैं जो हमारी किडनी को साफ रखने में मदद करते हैं। विटामिन से भरपूर ये फल हमारे खून में ऑक्सीजन की मात्रा बढ़ने में सहायक होते हैं। तरबूज में भारी मात्रा में फायबर के साथ लायकोपेन, वीटा केरोटीन और विटामिन भरपूर पाए जाते हैं। इसके साथ एवोक्यडो, किशमिश/काला मनूका, खजूर, शरीर में खून की बढ़ोतरी और ऑक्सीजन  पेशियों तक पहुंचाने में उपयुक्त होते हैं, क्योंकि इसमें एंटी-ऑक्सिडेंट की भरपूर मात्रा पायी जाती है।

शतावरी, जलकुम्भी, समुद्री शैवाल भी खून में ऑक्सीजन की मात्रा बढ़ाने में काफी मददगार होते हैं। बीट रूट, लहसुन, हरी पत्तेदार सब्जियां और बीज खास करके फ्लेक्स सीड्स या अलसी के बीज, खास करके अक्रोड ये नियमित रूप में आहार में लेने से अनेक फायदे मिलते हैं। ऐसे पदार्थ ब्लड वेसल्स को रिलैक्स रखते हैं और शरीर में ऑक्सीजन भरपूर मात्रा में पहुंचाने का काम करते हैं।

3- घर में इनडोर प्लांट्स लगाएं 

 इनडोर प्लांट्स का काम घर को खूबसूरत बनाना ही नहीं होता बल्कि ये पौधे कार्बनडाइआक्साइड को लेकर हमें ऑक्सीजन देने का काम करते हैं।

इसलिए अपने घर मे मनीप्लांट, स्पाइडर, स्नेक प्लांट, एलोवेरा, तुलसी, डेजी, बम्बू आदि पौधों को लगाना चाहिए।

(इस लेख की लेखिका डॉ. ज्योत्स्ना कदम हैं जो  वेदिक्युअर हेल्थकेयर एंड वेलनेस की वरिष्ठ सलाहकार हैं) 

(डिस्क्लेमर-लेख में व्यक्त विचार लेखक के निजी हैं। टाइम्स नेटवर्क इन विचारों से इत्तेफाक नहीं रखता। )
 

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर