क्‍या आपने जोन डाइट के बारे में सुना है? यहां जानिए सबकुछ

Zone diet: बायोकेमिस्‍ट बैरी सियर्स द्वारा जोन डाइट को विकसित किया गया था, जिन्‍होंने 1995 में अपनी किताब द जोन प्रकाशित की थी।

zone diet
जोन डाइट 

कई अन्‍य आहार में से एक है, जो प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट और वसा के एक विशिष्‍ट अनुपात के साथ भोजन करने की सलाह देता है और उसे जोन डाइट के रूप में जाना जाता है। जोन डाइट नई नहीं है। बायोकेमिस्‍ट बैरी सियर्स द्वारा करीब तीन दशक पहले इसे विकसित किया गया था, जिन्‍होंने 1995 में अपनी किताब द जोन प्रकाशित की थी।

सूजन कम करने में माहिर

हेल्‍थलाइन ने एक आर्टिकल में कहा था कि सियर्स ने यह डाइट इसलिए विकसित की थी ताकि अपने परिवार के सदस्‍यों को दिल का दौरा पड़ने के कारण जल्‍दी होने वाली मौत से बचाएं। उन्‍होंने शरीर में सूजन कम करने की एक डाइट विकसित की- जो दिल का दौरा और स्‍ट्रोक का कारण है। 

सूजन से वजन भी बढ़ता है, जबकि जोन डाइट इंसुलिन रिलीज में स्पाइक्स को रोकने और इंसुलिन संवेदनशीलता को बनाए रखने के अलावा सबसे तेज दर से वसा खोने में मदद करने का दावा करता है। रिसर्च हालांकि, आहार, एंडोक्रिनोलॉजी और चयापचय के बीच संबंध के लिए वैज्ञानिक समर्थन की कमी का सुझाव देता है। 'वास्तव में, साहित्य की समीक्षा से पता चलता है कि जोन डाइट की परिकल्पना में वैज्ञानिक विरोधाभास हैं जो इसकी संभावित प्रभावकारिता पर निर्विवाद संदेह डालते हैं।' 2003 में हुई स्‍टडी अमेरिकी कॉलेज ऑफ न्‍यूट्रीशन के जर्नल में प्रकाशित हुई। 

जोन डाइट को कैसे फॉलो करें

जोन डाइट का अनुपात इस प्रकार है: कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाले 40 फीसदी कार्बोहाइड्रेट, 30 फीसदी प्रोटीन और 30 फीसदी मोनोअनसैचुरेटेड फैट होते हैं। यह जीवनभर के लिए नहीं बल्कि विशिष्‍ट चरणों में पालन करने के लिए डिजाइन किया गया है। 

डाइट के मुताबिक एक व्‍यक्ति को दिन में पांच बार भोजन करना चाहिए, तीन भोजन और दो नाश्‍ते के साथ, भोजन के बीच पांच घंटे से अधिक अंतराल नहीं होना चाहिए।

हाथ इस डाइट में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, जिससे हथेली के आकार और मोटाई का उपयोग प्रोटीन को मापने के लिए किया जाता है जबकि दो बड़े मुट्ठी अनुकूल कार्बोहाइड्रेट और एक मुट्ठी प्रतिकूल कार्बोहाइड्रेट को मापते हैं।

आप क्‍या खा सकते हैं

नई किताब द मेडिटेरेनियन जोन में, सियर्स जोन और मेडिटेरेनियन डाइट के हिस्से के रूप में खाए गए खाद्य पदार्थों में समानता दिखाती है। इसमें मछली, चिकन, टोफू, सोया पोरकेड्स, अंडे की सफेदी, कम वसा वाले पनीर, कम वसा वाले दूध और प्रोटीन के लिए दही, और एवोकैडो, नट्स, मूंगफली का मक्खन और तेल जैसे तेल या जैतून का तेल वसा के लिए शामिल हैं। कार्ब्स में जामुन, सेब, संतरे और आलूबुखारे, पालक, टमाटर, मशरूम और छोले जैसी सब्जियां और दलिया और जौ जैसे अनाज शामिल हैं।

ज्‍यादा चीनी वाले खाद्य पदार्थ, प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ, कार्बोनेटेड पेय से बचना चाहिए। चाय और कॉफी की खपत को कम से कम रखा जाना चाहिए।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर