Hair care: क्या आप जानते हैं अपने बालों के आयुर्वेदिक प्रकार, बाल झड़ना और ड्राई हेयर से मिल सकता है छुटकारा

Know About Ayurvedic hair type: डायबिटीज, हृदय की समस्याओं समेत कई स्वास्थ्य समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए पारंपरिक तरीके के रूप में आयुर्वेद का उपयोग किया जाता रहा है।

Ayurvedic hair type
Know About Ayurvedic hair type 
मुख्य बातें
  • आयुर्वेदिक बालों के प्रकार जान उनका इलाज सही तरीके से कर सकते हैं।
  • जानिए आयुर्वेदिक बालों के प्रकार को जानने की आवश्यकता क्यों है
  • किस तरह कर सकते हैं इसकी पहचान।

आमतौर पर लोग अपने बालों को डैमेज, रफ, ड्राई या फिर घने, खूबसूरत कह कर उन्हें डिस्क्राइब करते हैं। लेकिन बहुत कम लोग होंगे जिन्हें अपने बालों का आयुर्वेदिक प्रकार पता होगा। वहीं कुछ लोग इससे बिल्कुल अंजान होंगे। बता दें कि भारत में आयुर्वेद प्राचीन समय से प्रचलित है और इसका उत्पन्न यही हुआ था। आयुर्वेद एक पारंपरिक तरीका है जिसके जरिए हम स्वस्थ रह सकते हैं। इससे डायबिटीज, दिल की बीमारी, मेंटल हेल्थ समेत कई स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों से छुटकारा पा सकते हैं।

वहीं इन दिनों बाल झड़ने की समस्या लोगों के बीच आम है। मानसून में यह समस्या लगभग सभी को होती है। सभी चाहते हैं कि उनके बाल जल्दी बढ़ें और उन्हें जैसा चाहे स्टाइल दे सकें। बालों के साथ अलग-अलग तरीके से एक्सपेरिमेंट करना लोगों खूब पसंद है। ऐसे में आप अपने आयुर्वेदिक बालों के प्रकार को जान गए तो इससे आपको काफी मदद मिल सकती है।

आपके आयुर्वेदिक बालों का प्रकार क्या है?
आयुर्वेद तीन जीवन शक्तियों पर आधारित है - वात, पित्त और कफ। ये किसी के शरीर की प्रवृत्ति की व्याख्या करते हैं और यह पहचानने में मदद करते हैं कि इनमें से कौन सा तत्व संतुलन से बाहर है, इसे सुधारने से स्थिति को रोकने या उपचार में मदद मिल सकती है। ये तत्व किसी व्यक्ति की बाल विशेषताओं को भी निर्धारित करते हैं। आपके मुख्य दोष के आधार पर, आपके आयुर्वेदिक बालों का प्रकार निर्धारित किया जाता है।

आयुर्वेदिक बालों के प्रकार को जानने की आवश्यकता क्यों है
आयुर्वेदिक बालों के प्रकार जाने बिना आप बालों को हेल्दी नहीं बना सकते हैं। इसके अलावा आप इनसे जुड़ी परेशानियों का सामना करते रहेंगे। इन सभी समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए जरूरी है कि आप आयुर्वेदिक प्रकार के बारे में अच्छी तरह जान लें। तब जाकर इसका इलाज बेहतर तरीके से कर पाएंगे।
 

किस तरह आप अपने आयुर्वेदिक बालों के प्रकार की पहचान कर सकते हैं?

बालों की बनावट, बालों की संरचना, बालों का रंग, स्कैल्प, नमी और यहां तक ​​कि बालों के आकार जैसे तरीके से आप आयुर्वेदिक प्रकारों का पता लगा सकते हैं। डॉक्टर इसकी बारे में जानकारी आसानी से हासिल कर लेते हैं, इसलिए वे बालों के इलाज करने में सक्षम होते हैं। वे उन समस्याओं को समझने के बाद इसका सही तरीके से इलाज कर पाते हैं। वहीं बालों के 
प्रकारों में सबसे आम समस्याएं इस प्रकार हैं....

वात दोष- ड्राई और थीन हेयर
पित्त दोष- फ्रिज़ी, उलझे बाल
कफ दोष- ऑयली और मोटे बाल, ऑयली स्कैल्प
ऐसा जरूरी नहीं कि किसी के पास एक ही तरह का दोष हो। शरीर में दो दोष हो सकते हैं, जो बालों की मिश्रित विशेषताओं के लिए अग्रणी होते हैं। हालांकि कुछ लोगों में दुर्लभ, समान रेशियों में तीनों दोष हैं।

(डिस्क्लेमर: प्रस्तुत लेख में सुझाए गए टिप्स और सलाह केवल आम जानकारी के लिए है, इसे पेशेवर चिकित्सा सलाह के रुप में नहीं लिया जा सकता। कोई भी स्टेप लेने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श जरूर कर लें।)

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर