जानिए शरीर के अंदर जाते ही कैसे काम करेगी वैक्सीन, इस तरह खत्म होगा कोरोना

How COVID 19 Vaccine Will Work: साल 2021 खुशखबरी लेकर आया है। डीजीसीआई ने कोरोना की दो वैक्सीन कोविशिल्ड और कोवैक्सिन को आपात्कालीन इस्तेमाल के लिए मंजूरी दे दी है। जानिए कैसे काम करेंगी ये वैक्सीन...

Corona Vaccine
Corona Vaccine 

मुख्य बातें

  • डीजीसीआई ने कोरोना की दो वैक्सीन को अपात्कालीन इस्तेमाल के लिए मंजूरी दे दी है।
  • कोविशिल्ड सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने ऑक्सफर्ड एस्ट्राजेनिका की मदद से बनाई है।
  • कोवैक्सिन का निर्माण भारत बायोटेक ने किया है।

मुंबई. साल 2021 की शुरुआत अच्छी खबर से हुई। रविवार तीन जनवरी को डीजीसीआई ने कोरोना की दो वैक्सीन- कोविशिल्ड और कोवैक्सिन को अपात्कालीन इस्तेमाल के लिए मंजूरी दे दी है।  कोविशिल्ड सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने ऑक्सफर्ड एस्ट्राजेनिका की मदद से बनाई है। वहीं, कोवैक्सिन का निर्माण भारत बायोटेक ने किया है। 

दुनिया में कोरोना की वैक्सीन तीन तरह से बनाई गई है। पहली एमआरएनए, दूसरी वेक्टर व तीसरी प्रोटीन सब यूनिट। फाइजर और मॉडर्ना वैक्सीन एमआरएनए तकनीक से बनाई गई है। 

भारत की बात करें कोविशिल्ड वेक्टर वैक्सीन है। ये सर्दी के एक वायरस एडेनोवायरस के कमजोर वर्जन का इस्तेमाल कर बनाई गई है। यह वायरस चिम्पांजी में पाया जाता है। जेनेटिकली बदलाव कर इसे वैक्सीन लायक बनाया गया है। 

Dry Run Kick Starts for COVID-19 Vaccine in India; Emergency Nod for  Covishield Likely Next Week | The Weather Channel - Articles from The  Weather Channel | weather.com

शरीर में ऐसी करेगी काम 
कोरोना से लड़ने के लिए बनाई गई कोविशिल्ड शरीर में जाने के बाद स्पाइक प्रोटीन को पहचानेगा और उसके खिलाफ इम्युन रेस्पांस तैयार करेगा। इसके बाद वैक्सीन शरीर में एंटीबॉडी बनाएगी।

एंटीबॉडी के जरिए शरीर में इम्युन सिस्टम तैयार होगा, जो कोरोना वायरस के स्पाइक प्रोटीन को पहचानेगा। एंटीबॉडी बनाने के बाद शरीर में किलर टी-सेल एक्टिवेट होंगे, ये वायरस को खत्म करेंगे।  

Covishield and Covaxin against Covid-19: All you need to know about the  vaccines

ऐसे काम करेगी कोवैक्सिन
भारत बायोटेक द्वारा बनाई गई कोवैक्सिन के ट्रायल्स केवल भारत में ही हुए हैं। पहले और दूसरे फेज के क्लीनिकल ट्रायल्स में कोवैक्सिन का सेफ्टी और इम्युनोलॉजेनेसिटी डेटा काफी अच्छा रहा है। कोवैक्सिन के तीसरे फेज का ट्रायल फिलहाल चल रहा है। 

तीसरे फेज के ट्रायल में करीब 26,000 वॉलंटियर्स में से 13,000 वॉलंटियर्स को वैक्सीन का पहला डोज दिया जा चुका है। कोवैक्सिन न केवल शरीर में कोरोना के स्पाइक प्रोटीन को टारगेट करेगी बल्कि इम्युन सिस्टम भी डेवलप करेगी।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर