Coronavirus Effect on Blood Groups: इन 3 ब्‍लड ग्रुप वालों को कोविड का हो सकता है ज्‍यादा खतरा, शोध में सामने आई चौंकाने वाली बातें

Coronavirus and blood group: कोरोना वायरस के बारे में अधिक जानकारी जुटाने और इसका विभिन्‍न ब्‍लड ग्रुप पर पड़ने वाले असर को जानने के लिए एक अध्‍ययन किया गया। यह रिसर्च सर गंगा राम अस्पताल की ओर से की गई है।

Coronavirus effects on blood groups
Coronavirus effects on blood groups (pic: Istock) 
मुख्य बातें
  • अलग-अलग रक्‍त समूह के अनुसार वायरस का होता है असर
  • चुनिंदा ब्‍लड ग्रुप वालों में संक्रामण से लड़ने की क्षमता होती है कम
  • कोविड पॉजिटिव मामलों को अध्‍ययन में किया गया था शामिल

Coronavirus effects on blood groups: COVID-19 एक ऐसा संक्रामक रोग है जो सभी आयु वर्ग के लोगों को प्रभावित करता है। लेकिन कुछ कैटेगरी के लोग ऐसे भी हैं जिन्हें दूसरों की तुलना में संक्रमण होने का खतरा अधिक होता है। वायरस 60 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों में या फेफड़ों या हृदय रोग, मधुमेह या समझौता प्रतिरक्षा जैसी स्वास्थ्य स्थितियों के साथ गंभीर लक्षण पैदा करता है। इसके अलावा, कुछ अध्ययनों से पता चलता है कि यह खाख प्रकार के ब्‍लड ग्रुप यानि रक्त समूहों वाले लोगों के लिए अधिक संक्रामक हो सकता है।

सर गंगा राम अस्पताल (एसजीआरएच) की ओर से जारी किए गए एक नए अध्ययन से पता चलता है कि ब्‍लड ग्रुप ए, बी और आरएच + वाले लोग कोविड -19 संक्रमण के प्रति अधिक संवेदनशील होते हैं। जबकि रक्‍त समूह  O, AB और Rh- वालों को  संक्रमण का खतरा कम होता है।

पुरुष और महिला वर्ग पर किया गया अध्‍ययन 
फ्रंटियर्स इन सेल्युलर एंड इंफेक्शन माइक्रोबायोलॉजी जर्नल में प्रकाशित अध्ययन के निष्कर्षों के अनुसार, एक ही समूह की महिलाओं की तुलना में ब्लड ग्रुप बी वाले पुरुषों में संक्रमण का खतरा अधिक होता है। ब्लड ग्रुप एबी के मामले में 60 साल से कम उम्र के लोगों में संक्रमण का खतरा ज्यादा होता है। जबकि अध्ययन ने यह स्पष्ट किया कि रक्त समूह का संक्रमण के जोखिम से संबंध है, यह रोग की गंभीरता या मृत्यु दर के बारे में कुछ भी नहीं बताता है।

इन रक्‍त समूह वालों की रिकवरी में लगता है समय 
शोध से यह भी पता चलता है कि रक्त समूह ए और आरएच + प्रकार वाले लोगों को ठीक होने में अधिक समय लगता है। जबकि रक्त समूह ओ और आरएच- वाले लोग तेजी से ठीक हो सकते हैं। पिछले कुछ अध्ययनों में यह भी कहा गया है कि ब्लड ग्रुप ए वाले लोग कोविड -19 संक्रमण के प्रति अधिक संवेदनशील होते हैं।

कोरोना के बारे में अधिक जानकारी जुटाना था मकसद 
अध्ययन के बारे में एसजीआरएच के अनुसंधान विभाग की सलाहकार डॉ रश्मि राणा ने कहा कि कोरोनावायरस एक नया वायरस है। इसके बारे में बहुत सी चीजें ऐसी हैं जो अभी तक पता नहीं है। अध्ययन का उद्देश्य संक्रामक रोग के जोखिम या प्रगति में रक्त समूह की भूमिका के बारे में जानना था।

अध्‍ययन में शामिल की गई ये चीजें 
अध्ययन 2,586 COVID-19 पॉजिटिव मामलों पर आयोजित किया गया था।  जिन्हें 8 अप्रैल, 2020 से 4 अक्टूबर, 2020 के बीच SGRH में भर्ती कराया गया था।सभी मामलों में, ए, बी, ओ और एबी की क्रमशः 29.93 प्रतिशत, 41.80 प्रतिशत, 21.19 प्रतिशत और 7.98 प्रतिशत थी। इसके अलावा, 98.07 प्रतिशत मरीज जो इस अध्ययन का हिस्सा थे, वे आरएच-पॉजिटिव थे।
 

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर