गेहूं के आटे से भी ज्‍यादा गुणकारी है ये आटा, एनर्जी से भरपूर और इम्यूनिटी के लिए बेस्ट

गेहूं के आटा के अलावा भी ऐसे कई आटे होते है जो हमारे सेहत के लिए गुणकारी होते है। आप भी इन अनाजों का आटा खाकर खुद को सेहतमंद रख सकते है।

आटा, गेहूं का आटा , जौ का आटा, ज्वार का आटा , बाजरे का आटा , हेल्दी आटा ,Flour, Wheat Flour, Barley Flour, Jowar Flour, Bajra Flour, Healthy Atta
तस्वीर के लिए साभार - Istock images 
मुख्य बातें
  • आयुर्वेद के अनुसार मैक्रो न्यूट्रिएंट्स और माइक्रो न्यूट्रिएंट्स भोजन का करना चाहिए सेवन
  • मल्टीग्रेन आटा स्वास्थ्य के लिए होता है बेहद फायदेमंद
  • यह रोग प्रतिरोधक क्षमता को बनाता है मजबूत

नई दिल्ली:  अधिकतर घरो में लोग गेहूं के आटे या उससे बनी चीजों का सेवन करते हैं, लेकिन खानपान और जीवनशैली में बदलवा की वजह से हमें अन्य पौष्टिक अनाज के आटे की रोटी खाने की आवश्यकता है। अधिकतर घरो में गेहूं का आटा इस्तेमाल किया जाता है। दूसरी तरफ कई घरों में गेहूं के आटे की रोटी के साथ मक्का बाजरा और अन्य अनाज की रोटी का सेवन भी लोग बड़े चाव से करते हैं।

जानकारों के मुताबिक फाइबर एवं अन्य पोषक तत्वों से भरपूर यह स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद होता है। आयुर्वेद के अनुसार खुद को सेहतमंद रखने के लिए हमें मैक्रो न्यूट्रिएंट्स और माइक्रो न्यूट्रिएंट्स यानी कार्बोहाइड्रेट्स, प्रोटीन, फैट, विटामिन और मिनरल्स से भरपूर भोजन का सेवन करना चाहिए। फाइबर या अन्य पोषक तत्वों से भरपूर यह ना केवल तेजी से वजन कम करने में कारगार होता है बल्कि आपको फिट रखने में भी मदद करता है। 

मक्के की रोटी

मक्के की रोटी और सरसो का साग बेहद पोपुलर पकवान है जो काफी लोग पसंद करते हैं। मक्के की रोटी ना केवल खाने में स्वादिष्ट होती है बल्कि स्वास्थ्य के लिए भी बेहद फायदेमंद होता है। इसमें फाइबर भरपूर मात्रा में पाया जाता है और साथ ही यह पाचनतंत्र को दुरुस्त रखने के साथ पेट संबंधी बीमारियों से निजात दिलाता है। 

इसमें ओमेगा 3 फैटी एसिड भरपूर मात्रा में पाया जाता है जो हार्ट को स्वस्थ रखने में मदद करता है। इसके अलावा यह हाई ब्लड प्रेशर की समस्या से निजात दिलाने में सहायक है। 

ज्वार का आटा

प्रोटीन, फाइबर और विटामिन से भरपूर ज्वार में ग्लूटन की मात्रा शून्य होती है। यह तेजी से वजन कम कर आपको हेल्दी रखने में मददगार होता है। साथ ही पाचनतंत्र को दुरुस्त कर पेट संबंधी बीमारियों से निजात दिलाता है और इनके संक्रमण से दूर रखने में कारगार होता है। 

जौ की रोटी

पोषक तत्वों से भरपूर जई का आटा आपको स्वस्थ रखने के लिए किसी वरदान से कम नहीं है। जौ में भरपूर मात्रा में फाइबर, प्रोटीन, लैक्टिक एसिड, सैलिसिलिक एसिड, फॉसफोरिक एसिड, पोटेशियम और कैल्शियम पाया जाता है। यह रक्त शर्करा को नियंत्रित कर ह्रदय संबंधी बीमारियों से निजात दिलाता है और आसानी से पच जाता है। यह त्वचा की रंगत बढ़ाने में भी कारगार होता है। 

रागी का आटा

फाइबर और अमीनो एसिड से भरपूर रागी स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद होता है। रागी में फाइबर अधिक मात्रा में पाया जाता है इससे आप लंबे समय तक पेट भरा हुआ महसूस कर सकते हैं। यह तेजी से वजन कम कर आपको फिट रखने में मदद करता है। न्यूट्रिशनिस्ट के अनुसार रागी का आटा मोटापा कम कर आपको ऊर्जावान बनाए रखने में मदद करता है और पाचन में सुधार कर क्रॉनिक हार्ट डिजीज से भी बचाता है।

चने की रोटी

चना हमारे शरीर को चुस्त और दुरुस्त रखने में सहायक है औरजो लोग शारीरिक श्रम करते हैं उनके लिए चना किसी रामबाण से कम नहीं है। लेकिन यदि आप अंकुरित चने या भुने हुए चने का सेवन नहीं कर पा रहे हैं तो रोजाना अपने रात या सुबह के खाने में चने की रोटी का सेवन कर सकते हैं। प्रोटीन से भरपूर यह शरीर की मांसपेशियों को मजबूत बनाने में मदद करता है तथा फेफड़ों को मजबूत बनाता है। 

मल्टीग्रेन आटा

आजकल मल्टीग्रेन आटा काफी प्रचलन में है। बाजार में आसानी से आपको यह मिल जाएगा। स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार मल्टीग्रेन आटा स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद होता है। यह रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बनाता है। गेहूं के आटे की तुलना में इसका ग्लाइसेमिक इंडेक्स अधिक होने के कारण यह शुगर को नियंत्रित करता है। क्योंकि यह कई अनाजों का मिश्रण होता है लिहाजा इसमें प्रचुर मात्रा में फाइबर होता है। 

Disclaimer: प्रस्तुत लेख में सुझाए गए टिप्स और सलाह केवल आम जानकारी के लिए हैं और इसे पेशेवर चिकित्सा सलाह के रूप में नहीं लिया जा सकता। किसी भी तरह का फिटनेस प्रोग्राम शुरू करने अथवा अपनी डाइट में किसी तरह का बदलाव करने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श जरूर लें।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर