Faridabad Property ID: फरीदाबाद में सभी प्रॉपर्टी को मिलेगा क्यूआर कोड, स्‍कैन करने से मिलेगी पूरी जानकारी

Faridabad Property ID: फरीदाबाद के घरों और दुकानों समेत सभी प्रॉपर्टी के बाहर अब क्यूआर कोड वाली प्रॉपर्टी आईडी प्लेट लगाई जाएगी। नगर निगम में अभी शिकायतों का निपटारा हो रहा है, यह प्रक्रिया पूरी होने के बाद स्टील के क्यूआर कोड वाली प्रॉपर्टी आईडी प्लेट हर घर पर लगवाई जाएगी। इससे प्रॉपर्टी मालिक और नगर निगम दोनों को सहूलियत मिलेगी।

Faridabad Municipal Corporation
फरीदाबाद में अब क्‍यूआर कोड से होगी प्रॉपर्टी की पहचान   |  तस्वीर साभार: Twitter
मुख्य बातें
  • हर प्रॉपर्टी पर लगेगी क्यूआर कोड वाली आईडी प्लेट
  • नगर निगम के सर्वे में मिली शहर के अंदर 5.5 लाख प्रॉपर्टी
  • क्यूआर कोड स्‍कैन करने से मिल जाएगी पूरी जानकारी

Faridabad Property ID: फरीदाबाद के घरों और दुकानों समेत सभी प्रॉपर्टी के बाहर अब क्यूआर कोड वाली प्रॉपर्टी आईडी प्लेट लगाई जाएगी। नगर निगम ने इसकी तैयारी पूरी कर ली है। निगम द्वारा हालही में एक निजी कंपनी द्वारा कराए गए सर्वे के अनुसार निगम क्षेत्र में करीब 5.5 लाख ऐसी प्रॉपर्टी मौजूद हैं, जिनकी आईडी बन चुकी है। अब प्लेट पर प्रॉपर्टी आईडी नंबर के साथ क्यूआर कोड भी दिया जाएगा। इस क्यूआर कोड को स्कैन करने से हाउस टैक्स समेत प्रॉपर्टी से संबंधित सभी जानकारी मिल जाएगी।

नगर निगम अधिकारियों के अनुसार, इस सर्वे से पहले नगर निगम क्षेत्र में करीब 2.8 लाख ऐसी प्रॉपर्टी थी, जिनकी आईडी बनी हुई थी। वहीं नए सर्वे में अब निगम के अंदर 5.5 लाख संपत्तियां हो गई हैं। सर्वे पूरा होने के बाद निगम द्वारा अब इन सभी प्रॉपर्टी होल्‍डर को रि-असिस्मेंट नोटिस भेजा जा रहा है। जिसमें कहा जा रहा है, इस सर्वे में अगर कोई गलती हो तो उसे दूर कर लें।

अब तक मिल चुकी 4000 से ज्‍यादा शिकायतें

सर्वे करने वाली याशी कंपनी के प्रभारी सौरभ ने बताया कि, नई प्रॉपर्टी आईडी बनने के बाद अभी तक करीब एक लाख लोगों को बिल भेजे गए हैं। इसमें से 4000 से ज्‍यादा लोगों की शिकायतें भी हमें मिल चुकी हैं, जिसे ठीक किया जा रहा है। यह प्रक्रिया पूरी होने के बाद स्टील के क्यूआर कोड वाली प्रॉपर्टी आईडी प्लेट हर घर पर लगवाई जाएगी। इससे प्रॉपर्टी मालिक और नगर निगम दोनों को सहूलियत मिलेगी। लोग खुद अपनी प्रॉपर्टी के टैक्स को क्यूआर कोड स्‍कैन कर देख सकेंगे और ऑनलाइन भर सकेंगे। साथ ही निगम कर्मी भी क्यूआर कोड को स्कैन कर मौके पर ही मालिक को बिल दे सकेंगे। इसके अलावा नगर निगम अब सीवर-पानी और संपत्ति कर का बिल भी मोबाइल पर मैसेज से भेजेगा। इसके लिए सभी संपत्तिधारकों के मोबाइल नंबर को अपडेट किया जा रहा है, जिससे भविष्य में कर संबंधी सूचना मैसेज से लोगों को मिल सके।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर