क्‍या थिएटर की जगह ऑनलाइन र‍िलीज होनी चाहिए फ‍िल्‍में, अभ‍िनेता Pankaj Tripathi ने द‍िया ये जवाब

Pankaj Tripathi on online release of films: लॉकडाउन की वजह से कई फ‍िल्‍में ऑनलाइन र‍िलीज हो रही हैं। क्‍या ये ट्रेंड सही है। देखें पंकज त्र‍िपाठी का इस पर क्‍या कहना है।

Pankaj Tripathi on films releasing on ott platform than theatres due to covid 19 pandemic
Pankaj Tripathi   |  तस्वीर साभार: Twitter

मुख्य बातें

  • लॉकडाउन के चलते बॉलीवुड को हो रहा नुकसान
  • कई फ‍िल्‍में हो रही हैं ऑनलाइन र‍िलीज
  • क्‍या ये ट्रेंड सही है, इस पर पंकज त्र‍िपाठी ने द‍िया है जवाब

कोरोना वायरस के चलते हुए लॉकडाउन में दूसरी इंडस्‍ट्रीज के साथ बॉलीवुड को भी खासा नुकसान उठाना पड़ रहा है। एक तो शूट‍िंग नहीं हो पा रही है, वहीं तैयार फ‍िल्‍मों को थ‍िएटर में र‍िलीज करने का व‍िकल्‍प भी नहीं है। ऐसे में कई फ‍िल्‍मों के ऑनलाइन र‍िलीज होने की खबरें आ रही हैं। अमिताभ बच्चन और आयुष्मान खुराना-अभिनीत फिल्म गुलाबो सिताबो, विद्या बालन अभिनीत शकुंतला देवी और अक्षय कुमार-अभिनीत फिल्म लक्ष्मी बम जैसी फिल्मों ने सीधे ओटीटी पर रिलीज होकर पारंपरिक थिएटर रिलीज को दरकिनार किया है। लेकिन क्‍या ये सही है। 

क‍ितना सही फ‍िल्‍मों को ओटीटी पर लाना 

कोविड-19 प्रकोप के कारण हुए लॉकडाउन के चलते कई फिल्मों की डिजिटल रिलीज को अभिनेता पंकज त्रिपाठी सही या गलत निर्णय के रूप में नहीं देखते हैं। उनका कहना है कि उद्देश्य किसी भी माध्यम से अधिकतम लोगों तक पहुंचना है। 

पंकज का कहना है - मैं एक अभिनेता हूं। हमारा मुख्य उद्देश्य यह है कि हम सिनेमा बनाएं और हमारा प्रदर्शन किसी भी माध्यम से अधिकतम लोगों तक पहुंचे। बेशक, बड़े पर्दे का अनुभव अलग है।

वेब सारीज से जीता है दर्शकों का द‍िल

अभिनेता ने 'मिर्जापुर' में कालीन भैया और 'सेक्रेड गेम' गुरुजी का किरदार निभाकर लोगों का दिल जीता है। वह कहते हैं - सिनेमा थिएटरों में समुदाय के लोग एक साथ देखते हैं। छोटी स्क्रीन पर आप इसे अकेले देखते हैं। ऐसा नहीं है कि थिएटर नहीं खुलेंगे। हमने पहले भी बड़ी चीजें देखी हैं और (थिएटर) भी इससे बाहर आएंगे। अभिनय को लेकर बात करें तो पंकज त्र‍िपाठी कबीर खान की फिल्म '83' में एक अहम क‍िरदार में दिखाई देंगे।


 
अगली खबर