दिलीप कुमार- अमिताभ भी नहीं तोड़ पाए बॉलीवुड के 'नत्‍थूलाल' का ये रिकॉर्ड, कभी मदरसे में कुरान पढ़ाते थे मुकरी

हिंदी सिनेमा के महान अभिनेता मुकरी का आज (5 जनवरी) जन्‍मदिन है। 5 जनवरी 1922 को रायगढ़ महाराष्ट्र के एक कोंकणी मुस्लिम परिवार में उनका जन्‍म हुआ था।

Legendary Actor Mukri
Legendary Actor Mukri 
मुख्य बातें
  • महान अभिनेता मुकरी का आज जन्‍मदिन है।
  • 5 जनवरी 1922 को रायगढ़ में पैदा हुए थे मुकरी।
  • फ‍िल्‍मों में आने से पहले वे एक पेशेवर काजी थे।

हिंदी सिनेमा के महान अभिनेता मुकरी का आज (5 जनवरी) जन्‍मदिन है। 5 जनवरी 1922 को रायगढ़ महाराष्ट्र के एक कोंकणी मुस्लिम परिवार में उनका जन्‍म हुआ था। पूरा नाम मोहम्‍मद उमर मुकरी था। मुकरी वो महान शख्सियत थे जिनके कंधों पर दर्शकों को हंसाने और गुदगुदाने का जिम्‍मा होता था। उन्‍होंने अपने इस काम को बखूबी निभाया या कहें कि ऐसा निभाया कि वो छा जाते थे ।

उन्‍हें एक्टिंग का जुनून था, हास्‍य कला का कौशल था और उसी के बल पर साल 1945 में दिलीप कुमार की फ‍िल्‍म प्रतिमा में उन्‍हें काम करने का पहली बार मौका मिला। दिलीप कुमार और मुकरी एक ही स्‍कूल में पढ़ा करते थे। फिल्मों में आने से पहले मुकरी एक पेशेवर काजी थे और दिलीप कुमार उन्‍हें सिनेमा में ले आए।

फिल्म शराबी में अमिताभ बच्चन का एक डायलॉग तो आपको याद ही होगा ‘भई वाह जवाब नहीं आपकी मूंछों का... मूंछें हों तो नत्थूलाल जी जैसी, वर्ना न हों...’, ये नत्‍थूलाल थे एक्‍टर मुकरी। शराबी, नसीब, मुक़द्दर का सिकंदर, लावारिस, महान, कुली, अमर अकबर अन्थोनी में मुकरी ने जो काम किया वो उन्‍हें अमर करता है। अमिताभ बच्‍चन के भी वह पसंदीदा सह कलाकार रहे। दोनों ने साथ 10 फ‍िल्‍मों में काम किया। कहा तो यह भी जाता है कि अमिताभ बच्चन ने मुकरी से लोगों को हंसाने के गुर सीखे थे।

दिलीप कुमार और अमिताभ ही नहीं, सुनील दत्त, राज कपूर, देवानंद, संजीव कुमार, प्राण से भी उनकी गहरी यारी रही। सिनेमा के 50 वर्षों में मुकरी ने करीब 600 फिल्मों में अपनी अदाकारी के जौहर दिखाए। मुकरी कुछ ऐसी फिल्में भी दे गए जिनमें से अगर उनके रोल को निकाल दिया जाय तो पूरी फिल्म लड़खड़ाने लगेगी। अगर ‘अमर, अकबर, अन्थोनी’ की कहानी से तय्यब अली को निकाल दिया जाय तो क्या बचा रह जाएगा। 

आज मुकरी हमारे बीच नहीं हैं लेकिन मदर इंडिया, बॉम्‍बे टू गोवा, गोपी, कोहिनूर, फरिश्‍ते, जादूगर जैसी फ‍िल्‍मों के लिए सदा उन्‍हें याद किया जाएगा। हिंदी फिल्मों में 600 से ज्यादा फिल्में करने का रिकॉर्ड एक्‍टर मुकरी के नाम दर्ज है। उनका यह रिकॉर्ड आज तक कोई नहीं तोड़ पाया है, हालांकि महिलाओं में ये रिकॉर्ड ललिता पंवार के नाम है जिन्होंने 750 फिल्में की थीं।

4 सितंबर 2000 को हार्ट अटैक और किडनी फेल होने के चलते मुंबई के लीलावती अस्‍पताल में उनका निधन हो गया था। जिस वक्‍त उन्‍होंने आखिरी सांस ली, उनके दोस्‍त दिलीप कुमार पत्‍नी सायरा बानो के साथ अस्‍पताल में उनके साथ थे। 

Times Now Navbharat पर पढ़ें Entertainment News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर