Exclusive: सुबह 9.30 बजे पिया जूस, 10.10 बजे की आत्महत्या, AIIMS की रिपोर्ट में बताया Sushant की मौत का कारण

Sushant Singh Rajput Forensic report: सुशांत सिंह राजपूत के निधन के एक साल बाद एम्स के मेडिकल बोर्ड की प्रारंभिक रिपोर्ट सामने आई है। जानिए क्या लिखा है रिपोर्ट में...

Sushant Singh Rajput
Sushant Singh Rajput 

मुख्य बातें

  • सुशांत सिंह राजपूत के निधन को एक साल पूरा हो गया है।
  • एक साल बाद एम्स के मेडिकल बोर्ड ने अपनी रिपोर्ट सीबीआई फॉरेंसिक टीम को सौंप दी है।
  • सुशांत सिंह राजपूत ने 14 जून 2020 को सुबह लगभग 10 बजकर 10 मिनट में आत्महत्या की है।

मुंबई. सुशांत सिंह राजपूत की मौत को आज एक साल पूरे हो गए हैं। साल भर बाद एम्स के मेडिकल बोर्ड की प्रारंभिक रिपोर्ट सामने आई है। रिपोर्ट में ये कंफर्म किया गया है कि सुशांत की मौत आत्महत्या से हुई है। 

सीबीआई द्वारा गठित एम्स की फॉरेंसिक टीम की रिपोर्ट के मुताबिक सुशांत सिंह राजपूत ने 14 जून 2020 को सुबह लगभग 10 बजकर 10 मिनट में आत्महत्या की है। उन्होंने 9.30 बजे पानी और अनार का जूस पीया था। 

रिपोर्ट के मुताबिक उन्होंने अपने घर के नौकर से ये दो चीज मंगाई थी। जूस और पानी को मुंह से गॉल ब्लैडर तक जाने में कुछ वक्त लगा है। इसके अलावा सुशांत के शरीर में चोट के कोई निशान नहीं है। इसके अलावा शरीर में शराब भी नहीं है।    

SSR death anniversary: From Rhea Chakraborty's arrest to Kangana Ranaut's  claims, here's a timeline | Bollywood - Hindustan Times

ये है मौत का कारण
फॉरेंसिक रिपोर्ट के मुताबिक सुशांत की मौत का कारण एस्फिक्सिया बताया गया है। एस्फिक्सिया तब होता है जब आपके शरीर को आपको पास से बाहर रखने के लिए पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं मिलती है।

रिपोर्ट में ये भी कहा गया है कि यदि सुशांत ने शराब या सिगरेट पी होती तो एस्फिक्सिया के कारण उनकी मौत का पता लगाना आसान नहीं होती। वहीं, गर्दन पर निशान लटकने के कारण है।

Shweta Singh Kirti posts a throwback picture of Sushant Singh Rajput |  Filmfare.com

सीबीआई को सौंपी रिपोर्ट
एम्स के मेडिकल बोर्ड के सदस्य डॉक्टर सुधीर गुप्ता ने कहा, 'हमने अपनी जांच रिपोर्ट सीबीआई को सौंप दी है। एम्स का मेडिकल बोर्ड मुंबई पहुंचा था और उसने क्राइम सीन को रीक्रिएट किया ताकि गर्दन के निशान की जांच कर सके।'

सुधीर गुप्ता के मुताबिक, 'हमारी टीम में सात डॉक्टर थे। हमारी टीम की पांच से छह घंटे तक मीटिंग चली। इसमें सभी ने सर्वसम्मति से फैसला किया कि उनकी मौत एस्फिक्सिया के कारण हुई है, जो एक सुसाइड है।'

Times Now Navbharat पर पढ़ें Entertainment News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर