दिल्ली एयरपोर्ट पर उतरने वाले यात्रियों के लिए खास क्वारंटीन गाइडलाइंस, यहां पढ़ें

Important quarantine guidelines: दिल्ली एयरपोर्ट पर उतरने वाले हवाई यात्रियों के लिए क्वारंटीन संबंधी कुछ खास गाइडलाइंस जारी की गई हैं।

दिल्ली एयरपोर्ट पर उतरने वाले यात्रियों के लिए खास क्वारंटीन गाइडलाइंस, यहां पढ़ें
दिल्ली एयरपोर्ट पर उतरने वाले यात्रियों के लिए गाइडलाइंस 

मुख्य बातें

  • इंटरनेशनल फ्लाइट से आने वालों के लिए सात दिन इंस्टीट्यूशनल और उसके बाद सात दिन होम क्वारंटीन
  • दिल्ली- एनसीआर में रुकने वालों को डबल स्क्रीनिंग से गुजरना होगा
  • गर्भवती महिलाओं, गंभीर रूप से बीमार लोगों को छूट मिलेगी।

नई दिल्ली। कोरोना काल में भारत में घरेलू उड़ानें जारी हैं। इस संबंध में दिल्ली एयरपोर्ट पर उतरने वाली हवाई यात्रियों के लिए महत्वपूर्ण क्वारंटीन गाइडलाइंस जारी की गई हैं। अगर कोई शख्स इंटरनेशल फ्लाइट से यहां आता है और वो दिल्ली एनसीआर में रहना चाहता है तो उसे आवाश्यक तौर पर हेल्थ स्क्रीनिंग से गुजरना होगा इसके लिए एयरपोर्ट पर तैनात स्वास्थ्य अधिकारियों द्वारा प्राइमरी स्क्रीनिंग की व्यवस्था की गई है। एयरपोर्ट की तरफ से जारी गाइडलाइन में साफ-साफ लिखा गया है कि सरकार के आदेश के तहत 7 दिनों का इंस्टीट्यूशन क्वॉरंटीन सभी पैसेंजर के लिए जरूरी है। इसका खर्च यात्री को खुद वहन करना होगा। यह अंडरटेकिंग वहां के ओवरसीजन मिशन में जमा होने के बाद ही बुकिंग कंफर्म होता है।

विदेशी यात्रियों के लिए  सात दिन इंस्टीट्यूशनल क्वारंटीन
इंटरनेशनल फ्लाइट से दिल्ली पहुंचने वाले पैसेंजर को 7 दिनों के लिए इंस्टीट्यूशनल क्वारंटीन पर जाना होगा। इसका खर्च उन्हें खुद वहन करना होगा। इसके बाद उन्हें सात दिनों के लिए होम क्वारंटीन होना होगा। बता दें कि एयर बबल के तहत भारत और अमेरिका, फ्रांस, जर्मनी, संयुक्त अरब अमीरात के बीच अंतरराष्ट्रीय उड़ान शुरू की गई है। हालांकि यह कुछ हफ्तों के लिए ही है। ज्यादातर फ्लाइट दिल्ली, मुंबई और बेंगलुरू के बीच है। इन सबके बीच दिल्ली एयरपोर्ट की तरफ से क्वारंटीन संबंधी गाइडलाइंस जारी है। 

दिल्ली एनसीआर में रुकने वालों के लिए डबल स्क्रीनिंग
घरेलू उड़ानों से आने वाले यात्रियों के लिए अनिवार्य रूप से थर्मल स्क्रीनिंग से गुजरना होगा। ऐसे यात्रियों को एयरपोर्ट से बाहर जाने की इजाजत होगा जिनमें कोरोना के लक्षण नहीं होंगे। लेकिन उन्हें सात दिन तक होम क्वारंटीन में रहना होगा। लेकिन जो लोग दिल्ली एनसीआर में रुकना चाहेंगे उनकी डबल स्क्रीनिंग होगी। इसका अर्थ यह है कि प्राइमरी स्क्रीनिंग के साथ साथ दिल्ली सरकार की हेल्थ स्क्रीनिंग से गुजरना होगा। 



इन्हें मिलेगी रियायत
अगर कोई महिला गर्भवती है या अगर किसी के परिवार में किसी की मौत हो गई हो तो या कोई गंभीर रूप से बीमार है तो उसे छूट मिलेगी। अगर कोई बच्चा यात्रा कर रहा हो और उसकी उम्र 10 साल से कम हो  तो उसके माता-पिता को भी क्वॉरंटीन की पाबंदियों से छूट है।

अगली खबर