सुशील कुमार के वकील ने कोर्ट से उसके लिए स्पेशल अलग सेल की मांग क्यों रखी, ये है कारण

क्राइम
Updated Jun 02, 2021 | 21:01 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

Sushil Kumar: सागर राणा हत्या मामले में गिरफ्तार पहलवान सुशील कुमार के वकील ने कोर्ट से मांग की कि अगर उन्हें न्यायिक हिरासत में भेजा जाता है तो उनके लिए विशेष अलग सेल होना चाहिए।

Sushil Kumar
सुशील कुमार 

मुख्य बातें

  • 23 साल के पहलवान सागर राणा की हत्या के मामले में गिरफ्तार हुए सुशील कुमार
  • अदालत ने सुशील कुमार को न्यायिक हिरासत में भेजा
  • दिल्ली पुलिस ने सुशील कुमार की 3 और दिन की हिरासत मांगी थी

नई दिल्ली: छत्रसाल स्टेडियम में 23 साल के पहलवान सागर राणा की हत्या के मामले में दिल्ली पुलिस गुरुवार को पहलवान सुशील कुमार को रोहिणी कोर्ट लेकर आई। दिल्ली पुलिस ने सुशील कुमार की तीन दिन की हिरासत बढ़ाने की मांग वाली याचिका दायर की। हालांकि अदालत ने पहलवान सुशील कुमार को न्यायिक हिरासत में भेज दिया और हिरासत बढ़ाने की दिल्ली पुलिस की याचिका को ठुकरा दिया। 

इससे पहले दिल्ली पुलिस की ओर से पेश हुए प्रोसिक्यूटर अतुल श्रीवास्तव ने कहा कि पहलवान सुशील कुमार द्वारा पहने हुए कपड़े और कथित अपराध में इस्तेमाल किए गए हथियार को बरामद करने और उन्हें फिर से हरिद्वार ले जाने की आवश्यकता है। इसके लिए उनका हिरासत में होना जरूरी है।

पुलिस हिरासत का विरोध

वहीं पहलवान सुशील कुमार की ओर से पेश हुए वकील प्रदीप राणा ने हिरासत बढ़ाने की पुलिस की याचिका का विरोध करते हुए कहा कि पुलिस को उनसे पूछताछ के लिए पर्याप्त समय दिया गया है। प्रदीप राणा ने मांग की कि पहलवान सुशील कुमार को न्यायिक हिरासत में भेजने पर विशेष अलग सेल उपलब्ध कराई जाए, क्योंकि उन्हें बड़े गिरोहों से खतरा है।

प्रदीप राणा ने अदालत को बताया कि सुशील 'खूंखार अपराधी नहीं' है, बल्कि 'परिस्थितियों का शिकार है।' उन्होंने कहा, 'सुशील ने एक बार नहीं, बल्कि दो बार देश को गौरवान्वित किया। वह हमारे देश के एकमात्र व्यक्ति हैं जिन्होंने ऐसा किया। उन्हें राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार, पद्म भूषण आदि से सम्मानित किया गया है। लेकिन जांच एजेंसी शायद ही उनकी व्यक्तिगत स्वतंत्रता की परवाह कर रही है।'

हिरासत बढ़ाने का को आधार नहीं: सुशील के वकील

वकील ने कहा कि उन्होंने ऐसा मामला कभी नहीं देखा जिसमें पुलिस अभी भी आरोपी के कपड़े खोजने की कोशिश कर रही थी।मैंने इस एप्लिकेशन को पढ़ा है। हिरासत के लिए एक भी आधार नहीं दिखाया गया है। पिछले 10 दिनों में आप (पुलिस) एक डंडा बरामद करने में असमर्थ रहे हैं। पुलिस रिमांड तब तक नहीं दिया जा सकता जब तक कि आवेदन में कोई विशेष कारण न हो या केस डायरी द्वारा इसका खुलासा न किया गया हो। 11 में से 9 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है और कई को न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। 

गिरफ्तारी से पहले फरार रहे सुशील कुमार

अंतरराष्ट्रीय पहलवान को सह आरोपी अजय कुमार के साथ 23 मई को बाहरी दिल्ली के मुंडका इलाके से गिरफ्तार किया गया था। वे गिरफ्तारी से बच रहे थे और विवाद के बाद लगभग तीन सप्ताह से फरार चल रहे थे। सुशील कुमार और उसके साथियों ने पहलवान सागर धनखड़ और उसके दो मित्रों के साथ दिल्ली के छत्रसाल स्टेडियम में कथित तौर पर मारपीट की थी। सागर ने बाद में दम तोड़ दिया था।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर