खो-खो खिलाड़ी की हत्या का मामला; ऑडियो क्लिप की मदद से आरोपी तक पहुंची पुलिस, फोन पर था दोस्त, सुनी थीं चीखें

Bijnor Case: उत्तर प्रदेश की बिजनौर पुलिस ने खो-खो खिलाड़ी के कथित हत्यारे को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने पीड़िता के दोस्त द्वारा साझा किए गए ऑडियो क्लिप की मदद से आरोपी को गिरफ्तार कर लिया।

murder
24 साल की थी महिला 

नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश पुलिस ने 24 वर्षीय राष्ट्रीय स्तर की खो-खो खिलाड़ी की कथित तौर पर हत्या करने के आरोप में एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है। लड़की का शव बिजनौर के एक रेलवे स्टेशन पर मिला था। पुलिस ने पीड़िता के एक दोस्त द्वारा शेयर किए गए ऑडियो क्लिप की मदद से आरोपी को गिरफ्तार किया। पुलिस के मुताबिक, घटना 10 सितंबर की दोपहर करीब 2 बजे की है जब दलित महिला नौकरी के लिए इंटरव्यू देकर घर लौट रही थी। रेलवे स्टेशन पर मजदूरी का काम करने वाले आरोपी शहजाद उर्फ हदीम ने उसे देखा और सीमेंट रेलवे स्लीपरों में खींचकर ले जाकर उसके साथ दुष्कर्म करने का प्रयास किया।

महिला उस समय दोस्त के साथ कॉल पर थी। उसने मदद के लिए चिल्लाने की कोशिश की तो आरोपी ने उसके ही दुपट्टे और रस्सी से उसका गला घोंट दिया। महिला के चुप रहने से पहले उसके दोस्त ने फोन पर मदद के लिए उसकी चीख-पुकार सुन ली। आरोपी महिला को उसी सीमेंट के स्लीपर पर छोड़कर उसका मोबाइल लेकर मौके से फरार हो गया। स्थानीय लोगों ने बाद में उसके शरीर को खून से लथपथ पाया और एक दांत गायब पाया। उसके परिवार का आरोप है कि उसके साथ रेप किया गया। आरोपी ने घर पहुंचने के बाद फोन बंद कर दिया था लेकिन उसकी आखिरी लोकेशन का पता लगाकर पुलिस उसके आवास पर पहुंच गई और उसे दबोच लिया। 

पुलिस ने घटनास्थल से एक जूता और एक शर्ट के दो टूटे बटन भी बरामद किए हैं, जो आरोपी के थे। पुलिस ने बताया कि आरोपी की शर्ट पर खून के धब्बे थे जिसे बाद में उसकी पत्नी ने धो दिया। महिला के दोस्त ने पुलिस के साथ कॉल रिकॉर्डिंग साझा की। इसी सबूत के आधार पर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस को आरोपी की पीठ पर नाखून के निशान भी मिले हैं जो कथित तौर पर लड़की ने उस समय दिए हों जब वह उस पर जबरदस्ती कर रहा था। यह पुष्टि करने के लिए नमूने पोस्टमॉर्टम के लिए भेजे गए हैं कि क्या नाखून के निशान महिला के डीएनए से मेल खाते हैं।

पुलिस के मुताबिक आरोपी शादीशुदा है और उसकी एक बेटी भी है। वह ड्रग एडिक्ट है। रेलवे स्टेशन से सामान चोरी करने के आरोप में उसके खिलाफ स्थानीय पुलिस स्टेशन में चार शिकायतें दर्ज हैं। मामले की जांच पहले राजकीय रेलवे पुलिस कर रही थी लेकिन बाद में इसे बिजनौर पुलिस को सौंप दिया गया। पुलिस अधीक्षक धर्मवीर सिंह ने इस मामले का खुलासा करने वाली टीम को तीन दिन के भीतर 25-25 हजार रुपए का इनाम देने की घोषणा की है। 

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर