डेब्यू मैच में धमाल मचाने वाले तुषार देशपांडे की तेज गेंदबाज बनने की कहानी उन्हीं की जुबानी  

आईपीएल 2020
भाषा
Updated Oct 15, 2020 | 15:06 IST

आईपीएल में अपने पहले मैच में धमाकेदार प्रदर्शन के जरिए सुर्खियां बटोरने वाले तेज गेंदबाज तुषार देशपांडे ने बताया है कि कैसे वो बल्लेबाज बनते-बनते तेज गेंदबाज बन गए।

Tushar Deshpande
तुषार देशपांडे( साभार IPL/BCCI) 

मुख्य बातें

  • घरेलू क्रिकेट में मुंबई के लिए खेलते हैं तुषार देशपांडे
  • आईपीएल में दिल्ली कैपिटल्स के लिए अपने डेब्यू मैच में देशपांडे ने लिए 37 रन देकर 2 विकेट
  • तुषार ने बेन स्टोक्स का अहम विकेट हासिल करके दिल्ली के पक्ष में पलट दी बाजी

मुंबई: मुंबई के तेज गेंदबाज तुषार देशपांडे अपने करियर के शुरू में बल्लेबाज बनने के इरादे से शिवाजी पार्क जिमखाना गये थे लेकिन बल्लेबाजी के लिये लंबी कतार देखकर वह गेंदबाजों की कतार में खड़े हो गये और अब उन्हें अपने उस फैसले पर कोई मलाल नहीं है।

इस 25 वर्षीय गेंदबाज ने बुधवार की रात को इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) मैच में विषम पलों में शानदार गेंदबाजी करके दिल्ली कैपिटल्स को राजस्थान रॉयल्स पर 13 रन से जीत दिलाने में अहम भूमिका निभायी थी।

देशपांडे ने कहा, 'यह 2007 की बात है जब मैं तीन चार लड़कों के साथ कल्याण से शिवाजी पार्क जिमखाना में चयन के लिये गया था। बल्लेबाजों की लंबी कतार थी। उसमें 40-45 खिलाड़ी थे और 20-25 बल्लेबाज पैड पहनकर तैयार थे।'

उन्होंने एक मराठी चैट शो में कहा, 'गेंदबाजों की कतार में केवल 15-20 खिलाड़ी थे। दोपहर बाद तीन बजकर 30 मिनट का समय था और चयन छह से छह बजकर 30 मिनट तक ही होना था।'

देशपांडे ने कहा, 'मुझे लगा कि बल्लेबाजी के लिये लंबी कतार है और मुझे मौका नहीं मिलेगा लेकिन इसके साथ ही मैं खाली हाथ नहीं लौटना चाहता था और इसलिए मैं गेंदबाजों की कतार में खड़ा हो गया।'

इस तेज गेंदबाज आईपीएल के अपने पदार्पण मैच में 37 रन देकर दो विकेट लिये। अपने चयन ट्रायल की बात करते हुए देशपांडे ने आगे कहा, 'उस समय तक किसी ने यह नहीं कहा था कि मैं एक औसत लड़के की तुलना में अधिक तेजी से गेंद करता हूं। गेंदबाजों की कतार तेजी से आगे बढ़ रही थी और जब मेरी बारी आयी तो मुझे सौभाग्य से नयीं गेंद मिल गयी।'

उन्होंने कहा, 'मैंने अपना रन अप तय किया और गेंद डाली। यह बहुत अच्छी आउटस्विंग थी और टप्पा खाने के बाद बड़ी तेजी से आगे गयी। पैडी सर (पदमाकर शिवालकर) ने कहा, 'बहुत अच्छी गेंद की, फिर से ऐसी गेंद करो।' देशपांडे ने कहा, 'मुझे यह भी पता नहीं था कि वह कौन है लेकिन मैंने फिर से गेंद की। मैंने छह-सात गेंदें की और मुझे चुन लिया गया।'

देशपांडे बचपन से ही दिल्ली कैपिटल्स के अपने कप्तान श्रेयस अय्यर के साथ शिवाजी पार्क जिमखाना में अभ्यास करते रहे हैं। उन्होंने कहा, 'दूसरे ओर तीसरे दिन भी यही प्रक्रिया अपनायी गयी। पैडी सर और संदेश कावले सर ने मेरा मनोबल बढ़ाया और मैंने जिमखाना से खेलने का फैसला किया और इस तरह से तेज गेंदबाज बन गया।'

IPL(आईपीएल) 2020 से जुड़ी सभी अपडेट Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Cricket News (क्रिकेट न्यूज़) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर