एमएस धोनी के साथ तुलना पर रोहित शर्मा ने तोड़ी चुप्पी, कहा-वो हैं अपने ढंग के एकलौते खिलाड़ी

Rohit Sharma on comparision with MS Dhoni: सुरेश रैना द्वारा रोहित शर्मा की एमएस धोनी के साथ तुलना किए जाने के मसले पर हिटमैन ने चुप्पी तोड़ते हुए अपनी राय प्रशंसकों के साथ साझा की है।

MS Dhoni Rohit Sharma
एमएस धोनी और रोहित शर्मा  |  तस्वीर साभार: Twitter

मुख्य बातें

  • रोहित शर्मा ने ट्विटर पर प्रशंसकों के साथ सेशन में दिए कई रोचक सवालों के जवाब
  • रोहित ने बताया क्रिकेट से हुई थी कितने रुपये की पहली कमाई
  • रोहित ने बताया चहल से दिन में कितनी बार होती है फोन पर बातचीत

मुंबई: टीम इंडिया की सीमित ओवरों की टीम के उपकप्तान रोहित शर्मा को कुछ दिन पहले सुरेश रैना ने टीम इंडिया का दूसरा एमएस धोनी करार दिया था। रैना ने धोनी से रोहित की तुलना करते हुए कहा था कि दोनों की कप्तानी का तरीका एक जैसा है। ऐसे में अब रोहित ने प्रशंसकों से ट्विटर पर रूबरू होते हुए कहा है कि धोनी अपने ढंग के एकलौते खिलाड़ी हैं और उनके जैसा और कोई खिलाड़ी नहीं हो सकता। 

रोहित शर्मा ने सवाल जवाब के दौरान सुरेश रैना द्वारा उनकी तुलना एमएस धोनी के साथ किए जाने के बारे में कहा कि उनके जैसे खिलाड़ी के साथ उनकी तुलना नहीं करना चाहिए। उन्होंने कहा, हां, मैंने सुरेश रैना के कमेंट के बारे में सुना है। धोनी अपने जैसे एकलौते खिलाड़ी हैं और कोई उनके जैसा नहीं होना चाहिए। मुझे लगता है कि इस तरह की तुलना नहीं होनी चाहिए। हर खिलाड़ी व्यक्तिगत तौर पर अलग होता है। सबकी अपनी अलग-अलग खूबियां और कमजोरियां होती हैं।


  
क्रिकेट से 50 रुपये की हुई थी पहली कमाई 

उनसे जब ये पूछा गया कि उन्हें क्रिकेट से कितने रुपये की पहली कमाई हुई थी। तो उन्होंने इसका जवाब देते हुए कहा, क्रिकेट से मेरी पहली कमाई चेक के रूप में नहीं नगद मिली थी। मैंने 50 रुपये अपनी सोसायटी के करीब स्थानीय मैच खेलते हुए जीते थे और ये राशि दोस्तों के साथ सड़क के किनारे बिकने वाले वड़ापाव खाने में खर्च हुए थे। 

कितनी बार चहल करते हैं कॉल?
एक प्रशंसक ने चर्चा के दौरान रोहित से पूछा कि युजवेंद्र चहल आपको एक दिन में कितनी बार कॉल करते हैं तो उन्होंने इसका जवाब देते हुए कहा, जब मैं घर पर होता हूं तब चहल मुझे कॉल नहीं करता है। जब हम दौरों पर होते हैं तो एक साथ काफी वक्त गुजारते हैं और उस दौरान मस्ती करते हैं। लेकिन जब हम दौरे पर नहीं होते हैं तब हम एक दूसरे से दूर रहकर लुत्फ उठाते हैं। 

अगली खबर