आज से बदल गए रेल टिकट रिजर्वेशन नियम, ट्रेन चलने से 5 मिनट पहले भी मिलेगा कंफर्म बर्थ, जानें डिटेल

Rail ticket reservation rules changed : भारतीय रेलवे ट्रेनों के प्रस्थान समय से 30 मिनट से 5 मिनट पहले दूसरा आरक्षण चार्ट तैयार कर रही है। इस दौरान टिकट बुक किया जा सकता है।

Rail ticket reservation rules changed from today 10 October
रेल टिकट आरक्षण नियम में बदलाव 

नई दिल्ली: भारतीय रेलवे ने आज (10 अक्टूबर) से रेल टिकट आरक्षण नियम (Railway ticket reservation rules) बदलाव कर दिया है। अब ट्रेनों के स्टेशन से चलने से 5 मिनट पहले भी रिजर्वेशन मिल जाएगा। क्योंकि भारतीय रेलवे ने प्रस्थान समय से आधे घंटे पहले दूसरा आरक्षण चार्ट तैयार करने की कोरोना वायरस महामारी के पहले के सिस्टम को बहाल करने का फैसला किया है। गौर हो कि कोरोनो वायरस महामारी के मद्देनजर नियमित यात्री ट्रेन सेवाएं 25 मार्च से ही रद्द हैं। सिर्फ स्पेशल ट्रेनें ही चलाई जा रही हैं। यह संख्या धीरे बढ़ाई जा रही है।  सबसे पहले 12 मई को 30 स्पेशल ट्रेनों का परिचालन शुरू किया गया था। अब यह संख्या बढ़कर 310 हो गई है। इसके अलावा 40 क्लोन ट्रेनें भी चलाई जा रही है। और नई ट्रेनें चलाने पर विचार किया जा रहा है।

  1. स्टेशनों से ट्रेनों के निर्धारित प्रस्थान समय से 30 मिनट पहले दूसरा आरक्षण चार्ट (Second reservation charts) तैयार किया जाएगा। कोरोना वायरस महामारी से पहले यह सामान्य था। लेकिन जब भारतीय रेलवे ने महामारी के बीच स्पेशल यात्री ट्रेनें शुरू कीं, तो निर्धारित प्रस्थान समय से दो घंटे पहले दूसरा आरक्षण चार्ट तैयार किया जा रहा था।
  2. रेलवे स्टेशन से ट्रेन छूटने के 5 मिनट पहले भी कंफर्म सीटें उपलब्ध होंगी, क्योंकि भारतीय रेलवे ने प्रस्थान समय से आधे घंटे पहले दूसरा आरक्षण चार्ट तैयार करने की कोविड पूर्व सिस्टम को बहाल करने का फैसला लिया है। आज से ये चार्ट निर्धारित प्रस्थान समय से 30 मिनट से लेकर 5 मिनट के बीच तैयार किए जाएंगे, इस दौरान टिकट बुक किए जा सकते हैं।
  3. ट्रेन के निर्धारित प्रस्थान से कम से कम चार घंटे पहले पहला चार्ट तैयार किया जाता है। अगर सीटें रद्द होने के कारण खाली हो जाती हैं, तो उन्हें दूसरे चार्ट की तैयारी तक पीआरएस काउंटरों और ऑनलाइन के जरिये बुक किया जा सकता है।
  4. रिफंड नियमों के प्रावधानों के अनुसार, इस दौरान टिकट रद्द भी किए जा सकते हैं।
  5. शुरुआत में महामारी के दौरान समय बदल गया था, टिकट केवल ऑनलाइन उपलब्ध थे। रेलवे स्टेशनों पर भीड़ से बचा जा रहा था और इसका उद्देश्य लोगों को गैर जरूरी यात्रा से रोकना था।

भारतीय रेलवे कई स्पेशल ट्रेनें चला रहा है और त्योहारी सीजन से पहले, रेलवे देश भर में और अधिक विशेष ट्रेनें शुरू करने की योजना बना रहा है। रेलवे बोर्ड ने हाल ही में 39 नई स्पेशल ट्रेनों के लिए जोन को मंजूरी दी है। रेल मंत्रालय ने कहा कि इन सेवाओं को शुरुआती सुविधाजनक तारीख से स्पेशल सेवाओं के रूप में पेश किया जाएगा।

रेलवे बोर्ड द्वारा स्वीकृत 39 ट्रेनों में से अधिकांश एसी एक्सप्रेस, दुरंतो, राजधानी, और शताब्दी की कैटेगरी की हैं। मंत्रालय के अनुसार, परिचालन जल्द ही शुरू हो जाएगा लेकिन इन अतिरिक्त ट्रेनों के संचालन की तारीख अभी घोषित नहीं की गई है।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर