PPF बनाम SSY: पीपीएफ या सुकन्या समृद्धि योजना, जानिए बेटियों के लिए कौन बेहतर निवेश स्कीम

बेटियों के भविष्य को लेकर हर मां-बाप बचत करते हैं। उनके सामने पीपीएफ और सुकन्या समृद्धि योजना दो बेहतर विकल्प हैं। यहां जानिए कौन आपके लिए बेहतर साबित होगा।

PPF or Sukanya Samriddhi Yojana, know which is better investment scheme for daughters
पीपीएफ और एसएसवाई में कौन बेटियों के लिए सबसे अच्छा है? (तस्वीर-istock) 

मुख्य बातें

  • सुकन्या समृद्धि योजना ब्याज दर के मामले में पीपीएफ से बेहतर है।
  • सुकन्या खाता 21 साल के बाद बंद करना पड़ता है।
  • पीपीएफ खाता मैच्योरिटी के बाद 5 साल के ब्लॉक में आगे बढ़ा सकते हैं। विस्तार से नीचे पढ़ें।

नई दिल्ली: जब बेटियों के लिए लॉन्ग टर्म बचत निवेश विकल्पों की बात आती है, तो माता-पिता अक्सर सार्वजनिक भविष्य निधि और सुकन्या समृद्धि योजना के बीच कंफ्यूज हो जाते हैं। किसका चयन करें? मां-बाप के लिए बेटियों की शिक्षा और शादी के सेविंग प्रमुख वित्तीय लक्ष्यों में से एक है। इसलिए दो विकल्पों के बीच सही चुनाव करना जरूरी है। माता-पिता को उस साधन को चुनने की जरुरत है जो अन्य बेनिफिट्स के साथ-साथ सबसे ज्यादा रिटर्न देता है।

सार्वजनिक भविष्य निधि (PPF)

पीपीएफ एक लोकप्रिय लॉन्ग टर्म निवेश विकल्प है जिसे छूट-छूट-छूट (EEE) टैक्स का दर्जा प्राप्त है। यह एक उच्च ब्याज दर प्रदान करता है और टैक्स बेनिफिट्स से भरा हुआ है। पीपीएफ पर दी जाने वाली ब्याज दर समान अवधि के अधिकांश अन्य निश्चित निवेश प्रोडक्ट्स की तुलना में अधिक है। योगदान, अर्जित ब्याज और रिटर्न आयकर अधिनियम के तहत टैक्स योग्य नहीं हैं। पीपीएफ में निवेश एकमुश्त या अधिकतम 12 किस्तों में किया जा सकता है। प्रत्येक वित्तीय वर्ष के लिए न्यूनतम निवेश की अनुमति 500 रुपए और अधिकतम 1.5 लाख रुपए है। वर्तमान ब्याज दर 7.1% प्रति वर्ष है और पीपीएफ खाते की मैच्योरिटी अवधि 15 वर्ष होती है।

सुकन्या समृद्धि योजना (SSY)

सुकन्या समृद्धि योजना बेटियों के लिए सबसे लोकप्रिय लॉन्गटर्म निवेश साधनों में से एक है। एक लड़की के लिए SSY खाता खोलने की सामान्य आयु-सीमा बच्चे के जन्म की तारीख से 10 वर्ष तक है। साथ ही, वह भारत की निवासी होनी चाहिए। बच्ची 18 साल की होने पर खाताधारक बन जाएगी। एक वित्तीय वर्ष में न्यूनतम 250 रुपए और अधिकतम 1.5 लाख रुपए का निवेश किया जा सकता है। पहले न्यूनतम योगदान 1,000 रुपए था। हालांकि, सरकार ने 2018 में इसे घटाकर 250 रुपए कर दिया। साथ ही, अर्जित ब्याज और मैच्योरिटी राशि को टैक्स से छूट दी गई है। सुकन्या समृद्धि योजना पर अब 7.6% ब्याज मिलता है।

PPF ब्याज दर बनाम SSY ब्याज दर

वर्तमान में, सुकन्या समृद्धि योजना में 7.6 प्रतिशत की उच्च ब्याज दर मिल रही है, जबकि पीपीएफ में डिपॉजिट पर ब्याज केवल 7.1 प्रतिशत है। इसलिए, दो योजनाओं की तुलना केवल ब्याज दरों या रिटर्न के संदर्भ में, सुकन्या समृद्धि योजना माता-पिता के लिए एक बेहतर विकल्प की तरह लगता है। याद रखें कि सरकार पीपीएफ और एसएसवाई समेत सभी छोटी बचत योजनाओं की ब्याज दरों में तिमाही आधार पर संशोधन करती है। हालांकि इस बात की गारंटी है कि आज जो ब्याज दर मिल रही है वह भविष्य में भी वही रहेगी यह नहीं कहा जा सकता, एसएसवाई ऐतिहासिक रूप से पीपीएफ की तुलना में अधिक ब्याज दर दे रही है। जब SSY की शुरुआत हुई है तब से वह PPF की तुलना में अधिक ब्याज दर ऑफर कर रही है है। यहां तक कि जब सभी बचत योजनाओं पर ब्याज दरों में गिरावट आई है, तब भी SSY बेहतर ब्याज दर दे रही है।

बेहतर कौन? पीपीएफ या सुकन्या समृद्धि योजना

सुकन्या समृद्धि योजना ब्याज दर के मामले में बेहतर है। लेकिन यह खाता खोलने के 21 साल पूरे होने के बाद अनिवार्य रूप से बंद करना होगा जो कि पीपीएफ खाते के लिए नहीं है क्योंकि इसे किसी भी संख्या के लिए प्रत्येक 5 साल के ब्लॉक में बढ़ाया जा सकता है। आप जितनी बार चाहते हैं। इसका मतलब है कि जहां कोई सीमित समय के लिए एसएसवाई योजना का लाभ उठा सकता है, वहीं पीपीएफ के मामले में नहीं है और कोई भी अपने पूरे जीवनकाल के लिए पीपीएफ खाता रख सकता है।

अगर दो योजनाओं में से किसी एक को चुनने की बात आती है, तो पीपीएफ उन लोगों के लिए एक बेहतर विकल्प होगा, जो अपनी बेटी के लिए 21 साल से अधिक समय तक पैसा जमा करना चाहते हैं, जबकि एसएसवाई एक बेहतर विकल्प हो सकता है, जो अपनी बेटी के 21 साल की होने तक उच्च रिटर्न प्राप्त करना चाहते हैं।

जानकारों के मुताबिक बेटी के नाम पीपीएफ और एसएसवाई दोनों खाते रखना सबसे अच्छा विकल्प है। कोई भी SSY खाते में बड़ी राशि जमा करने का विकल्प चुन सकता है जब तक कि वह उच्च ब्याज दर मिलता है और कुछ राशि  PPF खाते में रख सकता है ताकि SSY खाता 21 साल बाद बंद होने के बाद वे PPF खाते में जमा करना जारी रख सकें। 

दरअसल, जब बेटी पैसा कमाना शुरू कर देगी, तो वह पीपीएफ खाते में जमा भी कर सकती है और इसे अपने भविष्य के लिए जमा कर सकती है। यह भी याद रखने योग्य है कि, SSY खाते की मैच्योरिटी पर, किसी को किसी अन्य टैक्स-फ्री निवेश योजना में संचित राशि को फिर से निवेश करने में कठिनाई का सामना करना पड़ेगा क्योंकि अधिकतम राशि जो कोई भी किसी भी योजना (जैसे PPF) में निवेश कर सकता है। सेक्शन 80सी के तहत टैक्स सेविंग 1.5 लाख रुपए सालाना है। हालांकि, अगर आपको अपनी बेटी की शादी या उच्च शिक्षा जैसे उद्देश्यों के लिए संचित राशि की आवश्यकता होगी, तो SSY बचत उपयोगी साबित होगी।

पीपीएफ या एसएसवाई को लेकर एक्सपर्ट्स के विचार

एक्सपर्ट्स का मानना है कि सिर्फ एसएसवाई में ही लड़कियों के लिए अपना पूरा पैसा नहीं लगाना चाहिए। इसके बजाय, उन्हें पीपीएफ जैसे बचस स्कीम्स के लिए भी एक छोटा सा हिस्सा रखना चाहिए। पीपीएफ बच्चे के पूरे जीवन में भारी लचीलापन और तरलता भी प्रदान करता है। यही कारण है कि विशेषज्ञ लोगों को सुकन्या समृद्धि योजना में एक बड़ा हिस्सा निवेश करने की सलाह देते हैं और पीपीएफ की शुरुआत का लाभ उठाने के लिए पीपीएफ में भी एक छोटा हिस्सा रखने की सलाह देते हैं।

SSY के तहत, शून्य से 10 वर्ष की आयु के बीच की बेटी के माता-पिता या अभिभावक बच्चे के नाम पर खाता खोल सकते हैं। खाता खोलने की तिथि से 15 वर्षों तक मासिक या वार्षिक आधार पर जमा किया जा सकता है। 15 साल की अवधि के बाद निवेश नहीं किया जा सकता है, लेकिन खाते में अगले सात वर्षों तक ब्याज मिलता रहता है और 21 साल बाद मैच्योर होता है। कुछ शर्तों के अधीन, बच्चे के 18 वर्ष का होने के बाद ही कोई निकासी कर सकता है।

पीपीएफ और सुकन्या दोनों योजनाएं इनकम टैक्स अधिनियम की धारा 80 सी के तहत कटौती के लिए योग्य हैं और छूट-छूट और छूट वाले ब्रैकेट के अंतर्गत आती हैं। हालांकि दोनों ही लंबी अवधि के निवेश के बेहतरीन विकल्प हैं, एक्सपर्ट्स का यह भी मानना है कि मध्यम दरों पर गारंटीड रिटर्न देने वाले डेट इंस्ट्रूमेंट्स के अलावा माता-पिता को म्यूचुअल फंड जैसे इंस्ट्रूमेंट्स में भी निवेश करना चाहिए। अपने निवेश में विविधता लाना हमेशा एक अच्छा विचार है।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर