Budget 2022: बजट को आसानी से समझने के लिए जानें इन शब्दों के अर्थ, नहीं आएगी कोई दिक्कत

बिजनेस
डिंपल अलावाधी
Updated Feb 01, 2022 | 07:47 IST

Union Budget 2022-23: अगर आप बजट में इस्तेमाल होने वाले इन शब्दों का अर्थ समझ लेंगे तो आपको वित्त मंत्री का बजट भाषण आसानी से समझ आ जाएगा।

Union Budget 2022-23: Budget terms you should know
Budget 2022: बजट को आसानी से समझने के लिए जानिए इसकी पूरी ABCD (Pic: iStock) 
मुख्य बातें
  • केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण कुछ ही देर में आम बजट पेश करेंगी।
  • कोरोना काल में इस बजट का महत्व और भी बढ़ गया है।
  • बजट को समझने के लिए आपको कुछ शब्दों का अर्थ पता होना चाहिए।

Budget 2022: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Finance Minister Nirmala Sitharaman) आज यूनियन बजट पेश करेंगी। बजट को समझना हर किसी के लिए आसान नहीं होता। बजट से जुड़े कई शब्दों के बारे में ज्यादातर लोग नहीं जानते हैं। ऐसे में अगर आप निम्नलिखित शब्दों को समझ लें, तो आपके लिए बजट समझना भी आसान हो जाएगा।

सकल घरेलू उत्पाद (Gross domestic product, GDP)
किसी देश की सीमा में एक निर्धारित समय में तैयार सभी वस्तुओं और सेवाओं के कुल बाजार मूल्य को सकल घरेलू उत्पाद यानी जीडीपी कहा जाता है।

राजकोषीय घाटा (Fiscal deficit)
जब उधार को छोड़कर कुल व्यय, कुल राजस्व से अधिक हो जाता है, तो उसे राजकोषीय घाटा कहा जाता है। यह सरकार की हर साल अपनी आय और व्यय के बीच के अंतर को पाटने के लिए कुल अतिरिक्त उधारी है।

राजस्व घाटा (Revenue Deficit)
राजस्व व्यय और राजस्व रिसीप्ट के बीच के अंतर को राजस्व घाटा के रूप में जाना जाता है। यह वर्तमान व्यय पर सरकार की वर्तमान प्राप्तियों की कमी को दर्शाता है।

Budget 2022: भारतीय बजट के बारे में ये रोचक तथ्य क्या जानते हैं आप?

प्रत्यक्ष कर (Direct Tax)
प्रत्यक्ष कर वे हैं जो सीधे व्यक्तियों और संगठनों की आमदनी पर लगते हैं। उदाहरण के लिए, आयकर, कॉर्पोरेट कर आदि।

अप्रत्यक्ष कर (Indirect Tax)
अप्रत्यक्ष कर वस्तुओं और सेवाओं पर लगाए जाते हैं। जब ग्राहक सामान और सेवाएं खरीदते हैं, तो वे इसका भुगतान करते हैं। इनमें उत्पाद शुल्क, सीमा शुल्क आदि शामिल हैं।

कर राजस्व (Tax revenue)
यह सरकार के लिए आय का प्राथमिक स्रोत है। सरकार अपने खर्च को या तो व्यक्तियों या कंपनियों की आय पर सीधे कर लगाकर या लोगों द्वारा खरीदी गई वस्तुओं और सेवाओं पर कर लगाकर (अप्रत्यक्ष कर) पूरा करती है।

Budget 2022: क्या एफडी में निवेश करने वालों को वित्त मंत्री देंगी तोहफा? 1 फरवरी को होगा ऐलान

गैर-कर राजस्व (Non-tax revenue)
यह करों के अलावा सरकार के लिए राजस्व का स्रोत है। इसमें ब्याज प्राप्तियां, स्पेक्ट्रम नीलामी और विनिवेश सहित अन्य चीजें शामिल हैं।

न्यूनतम वैकल्पिक कर (Minimum Alternative Tax, MAT)
न्यूनतम वैकल्पिक कर एक न्यूनतम कर है जिसे एक कंपनी को भुगतान करना होता है, भले ही वह शून्य कर सीमा के अंतर्गत हो।

वित्त वर्ष (Financial Year)
वित्त वर्ष एक वित्तीय साल होता है, जो कि 1 अप्रैल से शुरू होकर 31 मार्च तक चलता है।

Budget 2022: किसानों को खुश करने की तैयारी में सरकार, आय बढ़ाने के लिए हो सकते हैं बड़े ऐलान

कर निर्धारण साल (Assessment Year)
कर निर्धारण साल या असेसमेंट वर्ष किसी वित्तीय साल का अगला साल होता है।  जैसे अगर वित्तीय वर्ष 1 अप्रैल 2021 से 31 मार्च 2022 है, तो कर निर्धारण वर्ष 1 अप्रैल 2022 से 31 मार्च 2023 तक होगा। 

मुद्रास्फीति (Inflation)
मुद्रास्फीति या महंगाई किसी अर्थव्यवस्था में उत्पादों और सेवाओं की कीमतों में होने वाली बढ़ोतरी को कहा जाता है।

अंतरिम बजट (Interim Budget)
यह हर साल पेश होने वाले पूर्ण बजट से अलग होता है। अंतरिम बजट एक खास समय के लिए होता है, जो सिर्फ चुनावी साल में ही पेश किया जाता है। यह चुनावी वर्ष में नई सरकार के गठन तक खर्चों का इंतजाम करने के लिए पेश किया जाता है।

Times Now Navbharat पर पढ़ें Business News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर