पीएम मोदी के साथ द्विपक्षीय बातचीत में डोनाल्ड ट्रंप ने कहा, 'हम भारत के साथ जल्द ट्रेड डील करेंगे'

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने पीएम मोदी के साथ द्विपक्षीय बातचीत में कहा कि भारत और अमेरिका के बीच बहुत जल्द एक व्यापार सौदा होगा।

PM Narendra Modi, Donald Trump
PM Narendra Modi, Donald Trump  |  तस्वीर साभार: Twitter

मुख्य बातें

  • हाउडी मोदी कार्यक्रम में मुलाकात के दो दिन बाद दोनों नेताओं के बीच मुलाकात हुई
  • पीएम मोदी ने कहा- वह मेरा दोस्त है लेकिन वह भारत का भी अच्छा दोस्त है
  • ट्रंप ने कहा कि जल्द ही अमेरिका भारत के साथ एक व्यापार समझौते करेगा। इससे दोनों देशों के बीच आर्थिक संबंधों को और मजबूती मिलेगी

न्यूयॉर्क: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ द्विपक्षीय बातचीत के बाद मीडिया से बातचीत के दौरान कहा कि भारत और अमेरिका के बीच बहुत जल्द एक व्यापार सौदा होगा। ट्रंप ने कहा कि हम पहले एक बड़ी डील करेंगे, लेकिन बहुत जल्द हम एक व्यापार सौदा करेंगे। इस मौके पर पीएम मोदी के साथ विदेश मंत्री एस जयशंकर, केंद्रीय वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल, विदेश सचिव विजय गोखले और अन्य सरकारी अधिकारी मौजूद थे। अमेरिकी प्रतिनिधिमंडल में अमेरिकी विदेश मंत्री माइकल पोम्पिओ भी मौजूद थे।

मोदी ने मीटिंग में कहा कि मैं ट्रंप का शुक्रगुजार हूं, जिनकी वजह से ह्यूस्टन आया। वह मेरा दोस्त है लेकिन वह भारत का भी अच्छा दोस्त है। प्रधानमंत्री कार्यालय ने ट्वीट कर कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी और डोनाल्ट ट्रंप ने न्यूयॉर्क में यूएन सत्र के मौके पर मुलाकात की। हाउडी मोदी कार्यक्रम में मुलाकात के बाद दोनों नेताओं के बीच मुलाकात हुई। तीन दिनों से भी कम समय में दोनों नेता संयुक्त राष्ट्र महासभा सत्र से इतर मंगलवार को दूसरी बार मिले।

ट्रंप ने कहा कि जल्द ही अमेरिका भारत के साथ एक व्यापार समझौते करेगा। इससे दोनों देशों के बीच आर्थिक संबंधों को और मजबूती मिलेगी। दोनों देश व्यापार समझौते पर बातचीत कर रहे हैं और कई जटिल मुद्दों को दूर करने का प्रयास किया जा रहा है। ट्रम्प ने मीडिया कहा, 'हम इस पर अच्छा कर रहे हैं। मुझे लगता है कि जल्द ही हम व्यापार समझौता कर लेंगे। 

पीएम मोदी ने कहा कि जहां तक व्यापार का संबंध है मैं बहुत खुश हूं कि ह्यूस्टन में मेरी मौजूदगी में भारतीय कंपनी पेट्रोनेट ने 2.5 अरब डॉलर के समझौते पर हस्ताक्षर किए और इसका मतलब है कि आने वाले वर्षों में इससे 60 अरब डॉलर का व्यापार होगा और 50,000 नौकरियां पैदा होंगी जो मेरे हिसाब से भारत द्वारा की गई बड़ी पहल है।

द्विपक्षीय  बातचीत विशेषाधिकारों को समाप्त करने वाली अमेरिका की पृष्ठभूमि में आता है। भारत 5 जून को सामान्यीकृत प्रणाली वरीयताएं (जीएसपी) कार्यक्रम के तहत लाभ ले रहा था। जीएसपी 1974 से शुरू हुआ। यह सबसे बड़ी और सबसे पुरानी अमेरिकी व्यापार वरीयता योजना है और यह नामित लाभार्थी देशों के हजारों उत्पादों के लिए शुल्क मुक्त आयात की अनुमति देता है।

44 अमेरिकी सांसदों के एक द्विदलीय ग्रुप ने ट्रम्प प्रशासन से आग्रह किया कि वॉशिंगटन के मूव के बाद नई दिल्ली के लिए इस प्रोग्राम को बहाल किया जाए। इसके बावजूद, दोनों देशों ने अपने द्विपक्षीय और व्यापार संबंधों में विश्वास व्यक्त किया है।

इससे पहले, दोनों नेताओं ने संयुक्त रूप से रविवार को ह्यूस्टन में 'हाउडी मोदी' कार्यक्रम में 50,000 से अधिक लोगों की एक सभा को संबोधित किया था। दोनों नेताओं ने मेगा इवेंट के दौरान उनके द्वारा साझा किए गए करीबी व्यक्तिगत संबंध को दिखाने से परहेज नहीं किया जो मोदी के सम्मान में आयोजित किया गया था।


 

अगली खबर