China India Standoff: चीन को अमेरिका ने दी नसीहत, कानून के दायरे में भारत के साथ सीमा विवाद सुलझाए

दुनिया
ललित राय
Updated Jun 01, 2020 | 23:59 IST

china india and ladakh issue: अमेरिका ने साफ कर दिया है कि चीन तो अंतरराष्ट्रीय नियम कानून का सम्मान करना ही होगा। वो अंतरराष्ट्रीय कानून के दायरे में भारत के साथ सीमा विवाद सुलझाने की ईमानदारी से कोशिश करे।

China India Standoff: चीन को अमेरिका ने दी नसीहत, भारत के साथ सीमा विवाद को कानून के दायरे में सुलझाए
नियमों के दायरे में सीमा विवाद सुलझाने के लिए चीन को नसीहत 

मुख्य बातें

  • लद्दाख में एलएसी के करीब चीनी सैनिकों के साथ भारतीय सैनिकों की तनातनी
  • भारत की तरफ से पांच हजार से ज्यादा सैनिकों की तैनाती की गई
  • अमेरिका ने चीन को लगाई झिड़की, अंतरराष्ट्रीय कानूनों का सम्मान करे जिनपिंग सरकार

नई दिल्ली। इस समय भारत की सीमा पर चीन की तरफ से तनाव बढ़ा है क्या उसके पीछे उसकी घबराहट है या सोची समझी चाल है या वो कोरोना के मुद्दे से ध्यान हटाने के लिए टकराव का रास्ता अख्तियार किया है। सोमवार को चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियान ने कहा कि सीमा पर हालात सामान्य हैं और दोनों देश संवाद के जरिए रास्ता निकाल सकते हैं। लेकिन अमेरिका ने चीन को कठघरे में खड़ा करते हुए नसीहत दी है। 

चीन को अमेरिकी नसीहत
फॉरेन अफेयर्स कमेटी के चेयरमैन एलियट एंजेल का कहना है कि एलएसी पर जिस तरह से भारत के साथ चीन आक्रामक अंदाज में पेश आ रहा है वह चिंताजनक है। अमेरिका पूरी तरह से नजर बनाए हुए है। दादागीरी के जरिए चीन पड़ोसी मुल्कों को दबाने की कोशिश कर रहा है। अंतरराष्ट्रीय नियमों के दायरे में वो किसी भी विवाद से निपटने के बारे में नहीं सोचता है। वो आगे कहते हैं कि चीन का टकराव भरा नजरिया नया नहीं है। वो अपनी ताकत के दम पर आगे बढ़ना चाहता है। लेकिन आज के युग में नियम और कानून का सम्मान हर किसी को करना होगा। 

कानूनी दायरे में भारत के साथ सीमा विवाद सुलझाए
दुनिया के सभी देश एक समान नियमों से बंधे हुए हैं। यहां पर शक्ति के इस्तेमाल से किसी भी चीज को सही नहीं ठहराया जा सकता है। चीन से अमेरिका अनुरोध करता है कि वो अंतरराष्ट्रीय नियमों का सम्मान करे इसके साथ ही भारत के साथ सीमा विवाद को कूटनीतिक और मौजूदा व्यवस्थाओं के तहत निराकरण करे। अमेरिका कहना है कि चीनी नजरिए  को आप कुछ देशों के संदर्भ में नहीं देख सकते हैं, बल्कि ताइवान, हांगकांग और दक्षिण चीन सागर में जो कुछ हो रहा है वो सबके सामने है।

अगली खबर