Afghanistan: बेहद डरावना होगा तालिबानी राज, चोरों-समलैंगिकों को दी जाएगी भयानक सजा, जज ने किया खुलासा

38 साल के तालिबान जज गुल रहीम ने इसकी झलक दी है कि तालीबान के राज में अफगानिस्तान में जीवन कैसा होगा। चोरों के हाथ-पैर काटे जाएंगे। समलैंगिकों को पत्थर मारकर मौत के घाट उतार दिया जाएगा।

Afghanistan
प्रतीकात्मक तस्वीर 

मुख्य बातें

  • तालिबान अफगानिस्तान में अपने नियंत्रण की बात कह रहा है
  • तालिबान का राज आने पर शरिया कानून लागू किया जाएगा
  • शरिया कानून के तहत ही अपराध करने पर सजा दी जाएगी

नई दिल्ली: तालिबान के एक जज ने इसकी एक भयानक झलक दी है कि इस्लामी ग्रुप के तहत जीवन कैसा होगा और देश पर उनका नियंत्रण वापस आने पर अफगानियों का भविष्य कैसा होगा। 38 साल के गुल रहीम ने मध्य अफगानिस्तान में अपने तालिबान नियंत्रित जिले में चोरों के हाथ और पैर काटने, महिलाओं को घर से निकलने के लिए परमिट जारी करना और समलैंगिक पुरुषों पर दीवारों को गिराने के बारे में बात की।

उन्होंने कहा कि अमेरिका के जाने के बाद तालिबान फिर से नियंत्रण कर सकता है और उनका उद्देश्य पूरे देश में शरिया कानून की सजा को लागू करना है। वो कहते हैं, 'यह हमारा लक्ष्य था और हमेशा रहेगा।' तालिबान का दावा है कि उन्होंने पहले ही अफगानिस्तान के 80 प्रतिशत हिस्से पर कब्जा कर लिया है क्योंकि नाटो ने देश से अपनी सेना वापस ले ली है।

चोर का हाथ काटा गया

रहीम ने जर्मन अखबार बिल्ड के साथ एक साक्षात्कार में मध्य अफगान प्रांत के करीब एक रिपोर्टर से बात करते हुए न्याय की अपनी दृष्टि का खुलासा किया। एक हालिया मामले के बारे में बोलते हुए उन्होंने कहा कि एक व्यक्ति ने एक घर से एक अंगूठी चुरा ली थी, इसलिए उसने आदेश दिया कि उसका हाथ काट दिया जाए। उन्होंने कहा, 'मैंने अंगूठी के मालिक से पूछा कि क्या चोर का पैर काट दिया जाए क्योंकि उसने न केवल अंगूठी चुराई बल्कि तोड़ दी, जिसका मतलब है कि उसने दो अपराध किए हैं। लेकिन घर का मालिक मान गया कि सिर्फ हाथ काटा जाएगा।'

छोटे अपराध में उंगली काट देते हैं

हाल ही में एक अन्य फैसले में उन्होंने आदेश दिया कि अपहरण और तस्करी करने वाले लोगों को फांसी दी जानी चाहिए। उन्होंने कहा, 'अपराध के आधार पर हम उंगलियों से शुरू कर सकते हैं। बदतर अपराधों के लिए हम कलाई, कोहनी या ऊपरी बांह काट देते हैं। सबसे बड़े अपराधों के लिए पत्थर मारकर या फांसी से मौत ही एकमात्र विकल्प है।' 

महिलाओं के लिए सख्त नियम

यह पूछे जाने पर कि तालिबान समलैंगिक पुरुषों के लिए क्या सजा मानता है, उन्होंने जवाब दिया कि केवल दो विकल्प हैं, या तो पथराव हो या फिर उसे उस दीवार के पीछे खड़ा होना पड़े जो उसके ऊपर गिर। दीवार आठ फुट से दस फुट ऊंची होनी चाहिए। तालिबान ने देश से अमेरिका के जाने के बीच क्षेत्र पर कब्जा कर लिया है और इस बीच कई महिलाएं छोड़ने की कोशिश कर रही हैं क्योंकि वो इस्लामी समूह के तहत जीवन जीने से डरती हैं। महिलाओं को स्कूल जाने की अनुमति होगी हालांकि उनकी शिक्षिका महिला हो और वे अनिवार्य हिजाब पहनती हों। 
 

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर