कैंसर अस्पताल के लिए दिलीप साब ने जो मदद की, उसे भूल नहीं पाऊंगा : इमरान खान 

इमरान खान ने अपने एक ट्वीट में कहा, 'दिलीप कुमार के निधन का समाचार पाकर दुखी हूं। एसकेएमटीएच के लिए फंड जुटाने के लिए उन्होंने जो सहृदयता दिखाई थी, उसे मैं कभी भूल नहीं सकता।

 Pakistan PM Imran Khan pays attributes to dilip kumar
इमरान खान ने दिलीप कुमार को दी श्रद्धांजलि। 

नई दिल्ली : 'ट्रेजडी किंग' दिलीप कुमार के निधन से उनके करोड़ों प्रशंसक दुखी हैं। देश और दुनिया में उन्हें श्रद्धांजलि देने का तांता लगा हुआ है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने भी अभिनेता दिलीप कुमार को अपनी भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की है। बॉलीवुड के वरिष्ठ अभिनेता का 98 वर्ष की अवस्था में लंबी बीमारी के बाद मुंबई के हिंदुजा अस्पताल में बुधवार तड़के निधन हो गया। राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री सहित कई नेताओं ने दिवंगत अभिनेता के योगदान को याद करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि दी है।

मैं कभी उन्हें भूल नहीं सकता-इमरान खान
इमरान खान ने अपने एक ट्वीट में कहा, 'दिलीप कुमार के निधन का समाचार पाकर दुखी हूं। एसकेएमटीएच के लिए फंड जुटाने के लिए उन्होंने जो सहृदयता दिखाई थी, उसे मैं कभी भूल नहीं सकता। कैंसर अस्‍पताल के लिए शुरू के 10 फीसदी पैसे जुटाना सबसे मुश्किल चरण था लेकिन दिलीप कुमार के पाकिस्‍तान और लंदन में कार्यक्रमों ने इस पैसे का जुगाड़ करने में मदद की।'

'सर्वाधिक बहुमुखी प्रतिभा के अभिनेता थे दिलीप साब'
अपने एक दूसरे ट्वीट में इमरान ने कहा, 'इसके अलावा मेरी पीढ़ी के लिए दिलीप कुमार सबसे महान एवं सर्वाधिक बहुमुखी प्रतिभा के अभिनेता थे।'

बुजुर्ग अभिनेता बुधवार सुबह 7.30 बजे अस्पताल में दम तोड़ा। उनकी तबीयत पिछले कई दिनों से खराब थी। उनकी पत्नी सायरा बानों ने अभनेता को अस्पताल में भर्ती कराया था। अभिनेता के निधन पर बॉलीवुड, राजनीति, खेल सहित सभी क्षेत्रों की जानी-मानी हस्तियों ने उन्हें श्रद्धांजलि दी।

सभी क्षेत्रों की हस्तियों ने दी श्रद्धांजलि
दिलीप कुमार के पारिवारिक मित्र फैसल फारूकी ने वरिष्ठ अभिनेता के निधन का समाचार साझा किया। उन्होंने कहा, ' मुझे यह बताने में भारी दुख एवं पीड़ा हो रही है कि हमारे प्यारे दिलीप साब अब इस दुनिया में नहीं रहे। कुछ मिनट पहले वह हम सबको छोड़कर चले गए।' दिलीप कुमार को हिंदी की क्लासिक फिल्मों 'मुगले आजम', 'देवदास', 'नया दौर', 'गंगा जमुना' और 'राम और श्याम' के लिए विशेष तौर पर जाना जाता है। फिल्मों में उनके योगदान को देखते हुए सरकार ने उन्हें साल 1991 में पद्म भूषण और साल 2015 में पद्म विभूषण से सम्मानित किया। 

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर