कश्‍मीर में सियासी हलचल से PAK में बेचैनी, परमाणु हथियार को लेकर अब इमरान खान ने दी 'गीदड़भभकी'

जम्मू कश्‍मीर को लेकर भारत में सियासी हलचल के बीच पाकिस्तान में बेचैनी देखी जा रही है। विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी के बाद अब प्रधानमंत्री इमरान खान ने कश्मीर और परमाणु हथियार को लेकर बयान दिया है।

कश्‍मीर में सियासी हलचल से PAK में बेचैनी, परमाणु हथियार को लेकर अब इमरान खान ने दी 'गीदड़भभकी'
कश्‍मीर में सियासी हलचल से PAK में बेचैनी, परमाणु हथियार को लेकर अब इमरान खान ने दी 'गीदड़भभकी'  |  तस्वीर साभार: AP, File Image

मुख्य बातें

  • पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने एक बार फिर कश्‍मीर का जिक्र किया है
  • इमरान खान ने एक इंटरव्‍यू में कश्‍मीर और परमाणु हथियारों को लेकर बात की
  • उन्‍होंने कहा कि कश्‍मीर मसला सुलझने तक पाकिस्‍तान को परमाणु हथियार की जरूरत है

इस्‍लामाबाद : कश्‍मीर को लेकर रह-रहकर राग अलापने वाले पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने अब एक बार फिर इस पर बात की है और इसे परमाणु हथियारों से भी जोड़ा है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा है कि जब तक कश्‍मीर का मसला है, पाकिस्‍तान को इसकी जरूरत है। एक बार कश्मीर का मसला निपट जाए तो पाकिस्‍तान को परमाणु हथियारों की जरूरत नहीं रह जाएगी।

भारत के कदम से पाक में बेचैनी

इमरान खान का यह बयान ऐसे समय में आया है, जबकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्‍यक्षता में 24 जून को नई दिल्‍ली में होने वाली एक बैठक के लिए कश्‍मीर के आठ दलों के 14 नेताओं को आमंत्रित किया गया है। इसके बाद से जम्‍मू कश्‍मीर में विधानसभा चुनाव को लेकर सियासी हलचल तेज होती नजर आ रही है, ज‍बकि भारत सरकार के इस कदम के बाद पाकिस्‍तान में बेचैनी देखी जा रही है।

इमरान खान से पहले पाकिस्‍तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने बौखलाहटभरे अंदाज में कहा था कि पाकिस्‍तान, कश्मीर के विभाजन और उसकी जनसांख्यिकी बदलने के भारत के किसी भी कदम का विरोध करेगा और उसने इस मामले को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद सहित अन्‍य अंतरराष्ट्रीय मंचों पर उठाया है तथा भारत के संभावित कदमों को लेकर अवगत कराया गया है।

भारत से सहमा PAK!

अब इमरान खान ने एक इंटरव्‍यू में कहा है कि पाकिस्तान के पास जो परमाणु हथियार हैं, वह उसकी प्रतिरोधक क्षमता हैं और देश की सुरक्षा के लिए जरूरी हैं। इमरान खान ने HBO पर प्रसारित एक इंटरव्‍यू में पाकिस्‍तान के परमाणु हथियार कार्यक्रम को लेकर कहा, 'जहां तक मैं जानता हूं कि यह आक्रामक चीज नहीं है।' भारत का नाम लिए बगैर पाक पीएम ने कहा, 'कोई भी देश जिसका पड़ोसी सात गुना बड़ा है, वह चिंतित रहेगा।'

इमरान खान से हाल ही में आई उस अंतरराष्‍ट्रीय रिपोर्ट को लेकर सवाल किया गया था, जिसमें कहा गया है कि पाकिस्‍तान में परमाणु हथियार दुनिया में किसी भी देश के मुकाबले सर्वाधिक तेजी से बढ़ रहे हैं। पाक पीएम ने दावा किया कि उन्‍हें इसकी जानकरी नहीं है कि ऐसी रिपोर्ट कहां से आ रही है और उन्‍हें इसकी भी 'पुख्‍ता जानकारी' नहीं है कि पाकिस्‍तान का परमाणु शस्‍त्रागार वास्‍तव में बढ़ रहा है या नहीं।

पाकिस्‍तान को क्‍यों चाहिए परमाणु हथियार?

इमरान खान ने यह भी कहा कि वह हमेशा से परमाणु हथियार के खिलाफ रहे हैं और एक बार कश्‍मीर का मसला सुलझ जाने के बाद पाकिस्‍तान को इसकी जरूरत नहीं रह जाएगी। परमाणु हथियारों को पाकिस्‍तान की सुरक्षा के लिए 'अहम' करार देते हुए इमरान खान ने कहा, 'भारत के साथ हमारी तीन बार जंग हो चुकी है और जब से हमारे पास परमाणु हथियार हैं, दोनों देशों के बीच अब तक कोई युद्ध नहीं हुआ है।'

कश्‍मीर का जिक्र करते हुए पाक पीएम ने कहा, 'जिस समय कश्‍मीर के मुद्दे का समाधान हो जाएगा, दोनों पड़ोसी देश सभ्‍य लोगों की तरह रहेंगे। हमें परमाणु हथियारों की जरूरत नहीं रह जाएगी।' उन्‍होंने यह भी कहा कि परमाणु बम बन जाने के बाद भारत के साथ सीमा पर झड़प हुई है, लेकिन युद्ध नहीं हुआ है।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर