तालिबान के साथ जारी बातचीत पर अमेरिकी NSA बोले- हम उस पर भरोसा नहीं करते

Afghanistan Crisis Updates : अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जेक सुलेविन ने सोमवार को कहा कि तालिबान के साथ बातचीत जारी है लेकिन उनका देश इस संगठन पर भरोसा नहीं करता है।

NSA Sullivan  says america US does not trust Taliban
अमेरिकी एनएसए ने बताया कि तालिबान के साथ उनकी बातचीत हो रही है।  |  तस्वीर साभार: ANI

मुख्य बातें

  • अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जेक सुलेविन ने तालिबान के साथ बातचीत पर बयान दिया है
  • सुलेविन का कहना है कि तालिबान के साथ उनकी हर रोज बातचीत हो रही है, वार्ता का दायरा काफी बड़ा है
  • उन्होंने कहा कि तालिबान को लेकर किसी को भ्रम में नहीं रहना चाहिए, उनका देश उस पर भरोसा नहीं करता है

वाशिंगटन : अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जेक सुलिवन ने कहा है कि उनका देश सुरक्षा एवं राजनीतिक माध्यमों के जरिए प्रतिदिन तालिबान के साथ बातचीत कर रहा है। इसके अलावा काबुल एयरपोर्ट से नागरिकों को निकालने के लिए अमेरिका अपने सहयोगी देशों एवं साझीदारों के साथ परामर्श भी कर रहा है। हालांकि, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार ने यह भी कहा कि अमेरिका तालिबान पर भरोसा नहीं करता है। उन्होंने कहा कि तालिबान को लेकर हमें किसी भ्रम में नहीं रहना चाहिए। सुलविन ने कहा कि अफगानिस्तान से अभी हजारों लोगों को बाहर निकालना है।

हम रोजाना तालिबान के साथ बातचीत कर रहे-सुलेविन
ह्वाइट हाउस में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए सुलेविन ने जोर देकर कहा, 'हम रोजाना तालिबान के साथ बातचीत कर रहे हैं। यह बातचीत सुरक्षा एवं राजनीतिक दोनों चैनलों के जरिए हो रही है। तालिबान के साथ क्या बातचीत चल रही है, मैं इसके विवरण में नहीं जाना चाहता। हालांकि, इस बातचीत का दायरा बड़ा है, विस्तृत मुद्दों पर वार्ता चल रही है।' यह पूछे जाने पर कि क्या राष्ट्रपति जो बाइडन भी तालिबान के साथ बातचीत करेंगे। 

तालिबान के साथ बातचीत का दायरा काफी बड़ा
इस सवाल पर एनएसए ने कहा कि 'अभी इस बारे में नहीं सोचा जा रहा है।' सुलेविन ने बताया कि अफगानिस्तान से नागरिकों को निकालने जाने को लेकर अमेरिका अपने सहयोगी देशों और साझीदारों के साथ राय-मशविरा कर रहा है। साथ ही काबुल से निकाले जा रहे नागरिकों पर भी उसकी नजर है। उन्होंने कहा, 'हम यह रोजाना कर रहे हैं। हमें लगता है कि हमें इससे फायदा हुआ है।' एनएसए ने बताया कि तालिबान के साथ जो बातचीत हो रही है उसका दायरा काफी बड़ा है। काबुल की मौजूदा स्थितियां और एयरपोर्ट पर क्या चल रहा है, यह सभी बातचीत का हिस्सा हैं। अमेरिकी और अन्य देशों के नागरिक काबुल एयरपोर्ट कैसे पहुंच रहे हैं, इस बारे में भी तालिबान से वार्ता हो रही है। एनएसए ने कहा कि तालिबान के साथ हमारी बातचीत आगे भी जारी रहेगी। 

हैरिस ने कहा-लोगों को निकालने पर हो जोर
इस बीच, अमेरिका की उपराष्ट्रपति कमला हैरिस ने कहा कि अमेरिका को अफगानिस्तान से अमेरिकियों और अफगान लोगों को निकालने पर अपना ध्यान केन्द्रित रखना चाहिए। हैरिस ने सिंगापुर में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि अमेरिका को अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की वापसी संबंधी सवालों से विचलित नहीं होना चाहिए। जब उनसें पूछा गया कि उन्हें क्या लगता है कि वापसी अलग तरीके से की जानी चाहिए थी, तो उन्होंने कहा, ‘यह कोई सवाल नहीं है कि क्या हुआ है और इसका एक मजबूत विश्लेषण होना चाहिए, लेकिन अभी यह कोई सवाल ही नहीं है और हमारा ध्यान अमेरिकी नागरिकों, हमारे साथ काम करने वाले अफगान लोगों और महिलाओं और बच्चों सहित कमजोर लोगों को निकालने पर है।’

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर