Malala Yousafzai's Husband: मलाला यूसूफजई ने रचाया निकाह, जानिए कौन हैं उनके शौहर, क्या करते हैं

दुनिया
रवि वैश्य
Updated Nov 10, 2021 | 09:02 IST

नोबल शांति पुरस्‍कार विजेता मलाला यूसुफजई (Malala Yousafzai) ने ब्रिटेन में निकाह रचा लिया है, उन्होंने मंगलवार को असर मलिक के साथ अपने नए जीवन की शुरुआत की, यहां जानें कौन हैं उनके शौहर।

 Who is Asser Malik
शेयर की गई तस्वीरों में मलाला और उनके पति असर मलिक काफी खुश नजर आ रहे हैं 

नई दिल्ली: नोबेल पुरस्कार विजेता और शिक्षा कार्यकर्ता मलाला यूसुफजई ने बर्मिंघम में एक छोटे से समारोह में शादी कर ली है और उन्होंने इसे अपने जीवन में एक "कीमती" दिन करार दिया। नोबेल पुरस्कार विजेता ने अपने ऑफिशियल ट्विटर हैंडल पर शेयर की गई तस्वीरों में मलाला और उनके पति असर मलिक काफी खुश नजर आ रहे हैं।

अब लोगों के जेहन में ये सवाल आ रहा है कि आखिर मलाला के पति असर मलिक कौन  हैं ( Who is Asser Malik)?

जियो न्यूज (Geo News) की खबर के मुताबिक असर मलिक पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (PCB) में General Manager High Performance है। वह अपने लिंक्डइन प्रोफाइल के अनुसार, मई 2020 में ऑर्गनाईजेशन में शामिल हुए।

मलिक ने पहले पाकिस्तान सुपर लीग (PSL) फ्रेंचाइजी मुल्तान सुल्तान्स के साथ एक ऑपरेशनल मैनेजर (operational manager) के रूप में काम किया है और उन्होंने एक खिलाड़ी प्रबंधन एजेंसी (player management agency) भी चलाई है उन्होंने 2012 में लाहौर यूनिवर्सिटी ऑफ मैनेजमेंट साइंसेज (LUMS) से अर्थशास्त्र और राजनीति विज्ञान में स्नातक की डिग्री प्राप्त की।

असर मलिक बने मलाला यूसफजई के शौहर

गौर हो कि मलाला यूसुफजई ने शादी रचा ली है उन्होंने ब्रिटेन के बर्मिंघम स्थित अपने घर पर परिवार की मौजूदगी में असर मलिक के साथ निकाह किया। उन्होंने बर्मिंघम स्थित घर में उनकी शादी के मौके पर एक छोटे से समारोह का आयोजन किया गया। मलाला ने एक ट्वीट में शादी समारोह की तस्वीरें साझा करते हुए कहा कि आज मेरे जीवन में एक अनमोल दिन है। असर और मैंने जीवनसाथी बनने के लिए शादी के बंधन में बंध गए। हमने अपने परिवारों के साथ बर्मिंघम में घर पर ही एक निकाह समारोह मनाया। कृपया हमें अपनी दुआओं से नवाजें। हम आगे की यात्रा के लिए साथ चलने के लिए उत्साहित हैं। 

तालिबानियों ने 2012 में मलाला को गोली मार दी थी

मलाला ने निकाह समारोह की अपनी तस्वीरें ट्विटर पर भी पोस्ट की हैं, जिसमें उन्हें अपने पति असर, साथ ही अपने माता-पिता, जियाउद्दीन यूसुफजई और तूर पेकाई यूसुफजई के साथ देखा जा सकता है। तालिबानियों ने नौ अक्टूबर 2012 को लड़कियों की शिक्षा और शांति के लिए आवाज उठाने के लिए उन्हें गोली मार दी थी, तालिबानी आतंकी उस बस पर सवार हो गए जिसमें मलाला अपने साथियों के साथ स्कूल जा रही थीं। साल 2014 में मलाला को शांति का नोबेल पुरस्कार मिला था। 
 

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर