जॉर्डन के किंग को सत्‍ता से बेदखल करने की साजिश? पूर्व क्राउन प्रिंस 'नजरबंद', 20 गिरफ्तार

जॉर्डन के शाही परिवार में उथल-पुथल मचा हुआ है। यहां पूर्व क्राउन प्रिंस को 'नजरबंद' कर दिया गय है, जबकि 20 अन्‍य लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

जॉर्डन के किंग अब्‍दुल्‍ला द्वितीय
जॉर्डन के किंग अब्‍दुल्‍ला द्वितीय  |  तस्वीर साभार: AP, File Image

अम्मान : जॉर्डन के शाही परिवार में इन दिनों उथल-पुथल मचा हुआ है। पूर्व क्राउन प्रिंस और किंग अब्दुल्ला के सौतेले भाई हमजा बिन हुसैन की ओर से जारी एक वीडियो संदेश में कहा गया है कि उन्‍हें घर में नजरबंद कर दिया गया है। यह वीडियो ऐसे समय में सामने आया है, जबकि देश में 'सुरक्षा कारणों से' शनिवार को कई नामचीन हस्तियों को हिरासत में लिया गया है।

'वाशिंगटन पोस्‍ट' की एक रिपोर्ट के अनुसार, जॉर्डन में 'सुरक्षा और स्थिरता' के खतरे को देखते हुए शनिवार को करीब 20 लोगों गिरफ्तार किया गया। इसे किंग अब्‍दुल्‍ला द्वितीय को सत्‍ता से बेदखल करने की साजिश के तौर पर देखा जा रहा है। प्रशासन का कहना है कि वह इसकी जांच कर रहा है और तब तक अधिकारियों ने प्रिंस हमजा और उनकी मां क्‍वीन नूर को अम्‍मान स्थित अपने पैलेस में बने रहने के लिए कहा है। 

प्रिंस हमजा का वीडियो

प्रिंस हमजा ने हालांकि किसी भी तरह की साजिश में शामिल होने से इनकार किया है और कहा कि शासन में 'टूट, भ्रष्‍टाचार, अक्षमता' के लिए वह जिम्‍मेदार नहीं हैं। उन्‍होंने जोर देकर कहा कि देश के शासन में यह स्थिति बीते 15-20 वर्षों से है और हाल के कुछ सालों में स्थिति और खराब हुई है, जिसमें गिरफ्तारी, शासन की प्रताड़ना के डर से लोग खुलकर अपनी बात नहीं रख पा रहे हैं।

उन्‍होंने कहा कि देश के सैन्य प्रमुखों ने शनिवार उनके पास आकर उन्‍हें बताया कि उन्हें बाहर जाने, लोगों से बातचीत या मुलाकात की अनुमति नहीं हे। उन्‍हें उनका फोन और इंटरनेट सेवा भी बंद करने की जानकरी दी गई। प्रिंस हमजा के वकील ने यह वीडियो जारी किया है, जिसमें कहा गया है कि उन्हें उन बैठकों में शामिल होने की 'सजा' दी गई है, जिनमें किंग की आलोचना हुई थी।

अमेरिका का सहयोगी है जॉर्डन

जॉर्डन के शाही परिवार की यह घटना इसलिए भी हैरान कर रही है, क्‍योंकि मध्‍य-पूर्व के इस देश में उच्च स्तर के राजनीतिक लोगों की गिरफ्तारी नहीं के बराबर होती रही है। मध्‍य-पूर्व के अन्‍य देशों के मुकाबले जॉर्डन को अधिक उदारवादी समझा जाता है, जो अमेरिका का करीबी सहयोगी है। हालांकि कोरोना वायरस महामारी के बाद यहां खुफिया एजेंसी को अधिक ताकत दी गई है, जिसका मानवाधिकार सगंठनों ने विरोध भी किया है।

इन सबके बीच प्रिंस हमजा बिन हुसैन के 'नजरबंदी' के वीडियो ने दुनिया का ध्‍यान मध्‍य-पूर्व के देश के शाही खानदान में हो रहे उठापटक की ओर से आकर्षित किया है। इन सबके बीच अमेरिका, मिस्र, सऊदी अरब ने किंग अब्‍दुल्‍ला का पूरा समर्थन किया है और कहा कि उन्‍हें अपने देश की सुरक्षा और वहां स्थिरता बनाए रखने को लेकर 'जरूरी कदम' उठाने का पूरा अधिकार है।

कौन हैं प्रिंस हमजा

प्रिंस हमजा जॉर्डन के दिवंगत किंग हुसैन और उनकी चौथी पत्नी क्वीन नूर के सबसे बड़े बेटे हैं। उन्‍हें 1999 में जॉर्डन के क्राउन प्रिंस की उपाधि दी गई थी। वह तत्‍कालीन किंग हुसैन के चहेते थे। किंग उन्हें सार्वजनिक तौर पर अपनी 'आंखों का सुकून' कहते थे। हालांकि किंग हुसैन की मौत के बाद अब्‍दुल्‍ला द्वितीय जॉर्डन के शाह बने, जिन्‍होंने 2004 में प्रिंस हमजा की क्राउन प्रिंस की उपाधि छीन ली।

ब्रिटेन के हैरो स्कूल और रॉयल मिलिट्री एकेडमी, सेंडहर्स्ट से ग्रैजुएट प्रिंस हमजा जॉर्डन में एक लोकप्रिय शख्सियत हैं। उन्हें आम लोगों से जुड़े धार्मिक और विनम्र शख्स के तौर पर देखा जाता है। उन्होंने अमेरिका के हार्वर्ड विश्वविद्यालय से भी पढ़ाई की है और जॉर्डन की सेना में भी सेवा दे चुके हैं। उनकी गिनती किंग अब्‍दुल्‍ला द्वितीय की सरकार की नीतियों के आलोचकों के तौर पर होती है।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर