जापान में आखिर क्यों बढ़ रहे हैं सुसाइड के मामले? सरकार को उठाना पड़ा है ये कदम

दुनिया
लव रघुवंशी
Updated Feb 25, 2021 | 15:54 IST

जापान में पिछले साल आत्महत्या करने वालों की संख्या में इतनी तेजी आई जो कि पिछले 11 सालों में सबसे ज्यादा है। इसी को रोकने के लिए जापान में मंत्रालय बनाया गया है।

suicide
प्रतीकात्मक तस्वीर 

नई दिल्ली: इस महीने की शुरुआत में देश में आत्महत्या की दर 11 साल में पहली बार बढ़ने के बाद जापान ने अकेलापन मंत्री नियुक्त किया। प्रधानमंत्री योशिहिदे सुगा ने तेजसुशी सकामोटो को ये पोर्टफोलियो आवंटित किया। देश में गिरती जन्म दर से निपटने और क्षेत्रीय अर्थव्यवस्था को पुनर्जीवित करने का प्रभार भी इन पर है। नई भूमिका लेने के बाद एक संवाददाता सम्मेलन में बोलते हुए सकामोटो ने कहा, 'मुझे उम्मीद है कि सामाजिक अकेलेपन और अलगाव को रोकने के लिए और लोगों के बीच संबंधों की रक्षा करने के लिए गतिविधियों को अंजाम दिया जाएगा।'

2020 में जापान में आत्महत्या की दर बढ़ गई। राष्ट्रीय पुलिस एजेंसी के आंकड़ों के अनुसार 20,919 लोगों ने अपनी जान ले ली। सकामोटो ने कहा कि प्रधानमंत्री  सुगा ने उन्हें राष्ट्रीय मामलों को संबोधित करने के लिए नियुक्त किया है, जिसमें महामारी के तहत महिलाओं की आत्महत्या की बढ़ती दर का मुद्दा भी शामिल है। सुगा ने मुझे इस मुद्दे की जांच करने और संबंधित मंत्रालय के साथ समन्वय करके एक व्यापक रणनीति को आगे बढ़ाने का निर्देश दिया है।

क्या हो सकते हैं कारण

आत्महत्या के मामलों में यह अचानक वृद्धि क्या बताती है और क्या कोरोना वायरस महामारी की इसमें कोई भूमिका है? अधिकांश विशेषज्ञों का मानना है कि जापान में आत्महत्याओं की बढ़ती समस्या देश की संस्कृति के अकेलेपन से जुड़ी है। देश की 20% से अधिक जनसंख्या 65 वर्ष से अधिक है। मध्यम आयु वर्ग और बुजुर्ग लोगों का एक बड़ा वर्ग बनाया है जो महसूस करते हैं कि उनके पास मदद और कंपनी के लिए कोई भी नहीं है। चूंकि अधिकांश ज्यादा उम्र वाले लोग अधिक सामाजिक नहीं होते हैं, उनमें से कई अकेले मर जाते हैं।

अधिक काम कर रहे लोग

जापान में काम करने वाले घंटे भी दुनिया में सबसे ज्यादा हैं, जो लोगों को अपने दोस्तों के साथ समय बिताने या शौक पूरा करने का मौका कम ही देते हैं। जबकि जापानी श्रम कानून यह तय करते हैं कि नौकरीपेशा व्यक्तियों को दिन में अधिकतम 8 घंटे या सप्ताह में 40 घंटे काम करना चाहिए, लेकिन वास्तव में ऐसा नहीं है। वास्तव में 2016 में किए गए एक सरकारी सर्वेक्षण के दौरान पाया गया था कि 25% से अधिक जापानी कंपनियां हर महीने 80 घंटे से अधिक काम कराती हैं और अतिरिक्त घंटों के लिए अक्सर भुगतान नहीं किया जाता है।

क्या महामारी के दौरान बिगड़े हालात?

हाँ, महामारी के कारण नौकरी का जाना और लगातार घर पर रहने ने संकट को और बदतर कर दिया। पुरुषों की तुलना में अधिक महिलाओं ने अपनी नौकरी खो दी, जबकि अन्य जिनके पास रोजगार था, वो काम के साथ घरेलू काम और बाल देखभाल में संतुलन बनाने में असफल रहे। 

सार्वजनिक प्रसारणकर्ता निप्पॉन होसो क्योकाई (NHK) द्वारा पिछले साल दिसंबर में जारी एक सर्वेक्षण में पाया गया कि अप्रैल के बाद से 26% महिला श्रमिकों ने 19% पुरुषों की तुलना में रोजगार की समस्याओं की सूचना दी। एनएचके द्वारा चलाए गए एक अलग सर्वेक्षण में सामने आया कि 28% महिलाओं ने 19% पुरुषों की तुलना में महामारी के दौरान घर के कामकाज पर अधिक समय बिताने की सूचना दी।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर