जो बिडेन के लिए भी आसान न होगा भारत को नजरंदाज करना, चीन है बड़ी वजह

दुनिया
ललित राय
Updated Jan 16, 2021 | 20:00 IST

क्या जो बिडेन के आने से भारत और अमेरिका के संबंध ट्रंप रीजिम से अलग होंगे या संबंधों को और नई ऊंचाई मिलेगी। इसे समझना जरूरी है।

जो बिडेन के लिए भी आसान न होगा भारत को नजरंदाज करना, चीन एक बड़ी वजह
जो बिडेन अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति 

मुख्य बातें

  • 20 जनवरी को जो बिडेन अमेरिकी राष्ट्रपति पद की शपथ लेंगे
  • जो बिडेन के साथ ही दुनिया के दूसरे मुल्कों के प्रति अमेरिका के रुख में होगा बदलाव
  • भारत,अमेरिका और चीन के रिश्ते करेंगे जो बिडेन का लिटमस टेस्ट

नई दिल्ली। अमेरिका में 20 जनवरी से सत्ता का चेहरा बदल जाएगा। व्हाइट हाउस में डोनाल्ड ट्रंप की जगह अब डेमोक्रेट्स राष्ट्रपति जो बिडेन होंगे। आमतौर पर अमेरिका में जब सत्ता परिवर्तन होता है तो पूरी दुनिया की नजर होती है कि अगला प्रशासन किस तरह से आर्थिक, अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर आगे बढ़ेगा। आमतौर पर यह कहा जाता है कि यूएस में सत्ता किसी की भी हो उनके लिए अमेरिका फर्स्ट की नीति सर्वोच्च होती है। कोई भी अमेरिकी राष्ट्रपति हो उसके लिए अमेरिकी का हित कहां सधता है वो ही मुख्य होता है और उसके हिसाब से दूसरे देशों के संबंध में फैसले किए जाते हैं। अब सवाल यह है कि ट्रंप के समय जिस तरह से अमेरिका और भारत के रिश्ते में गर्मी आई थी क्या वो आगे भी जारी रहेगा। 

आर्थिक रिश्ते भारत- अमेरिकी संबंध को करेंगे प्रभावित
जानकार कहते हैं कि मोटे तौर पर अमेरिका के सामने कमोबेश आर्थिक मोर्चे पर वही चुनौतियां है जो दूसरे मुल्कों के साथ है, अगर बात कृषि क्षेत्र की करें तो अमेरिका चाहता है कि सब्सिडी का मुद्दा विकासशील देशों के पक्ष में ना हो। दरअसल अमेरिका को इस बात का डरह है कि अगर विकासशील देश अपने किसानों को सब्सिडी देंगें तो उसके कृषि उत्पादों के निर्यात पर असर पड़ेगा और इस संबंध में जो बिडेन का रिश्ता भारत के साथ ट्रंप शासन की तरह रहेगा। लेकिन जिस तरह से चीन के साथ तनातनी है उसके चलते कृषि मामले में भारत के लिए रुख नरम हो सकता है। 
BRICS Summit
भारत और अमेरिका के बीच चीन
इसके साथ ही सुरक्षा के मुद्दे पर और चीन की विस्तारवादी नीति रोकने के लिए भारत का साथ अमेरिका के लिए जरूरी है जैसे दक्षिण चीन सागर में शी जिनपिंग आक्रामक रुख अपनाते रहे हैं उसे देखते हुए अमेरिका के लिए जरूरी है वो जापान के साथ साथ भारत के साथ बेहतर संबंध स्थापित करे ताकि हिंद महासागर में चीन के आक्रामक रवैये को रोका जा सके। क्योंकि हिंद महासागर में चीन जितना कमजोर होगा उसका असर दक्षिण चीन सागर पर दिखाई देगा। इसके साथ ही उत्तर कोरिया के साथ चीन की गलबगहियां जितनी ज्यादा बढ़ेगी उसकी वजह से भारत और अमेरिका के रिश्ते में और मजबूती आएगी। 

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर