Galwan Violence: भारतीय मीडिया हमारी दयालुता को समझने में नाकाम, चीनी भड़ास

चीन के बारे में कहा जाता है कि उसकी कथनी और करनी में अंतर होता है। दरअसल चीन ने करीब 8 महीने बाद गलवान से जुड़े वीडियो को जारी किया और भारत से कहा कि वो उसकी दयालुता का टेस्ट ना करे।

Galwan Violence: भारतीय मीडिया हमारी दयालुता को समझने में नाकाम, चीनी भड़ास
चीन ने पहली बार माना कि गलवान में उसके चार सैनिक मारे गए थे।(साभार- ग्लोबल टाइम्स) 

मुख्य बातें

  • चीन ने शुक्रवार को एक कथित वीडियो को गलवान का बताते हुए 20 भारतीय जवानों के शहीद होने का किया था दावा
  • चीन ने पहली बार अपने चार सैनिकों के मारे जाने की बात को भी स्वीकारा

नई दिल्ली। सार्वजनिक रूप से पहली बार स्वीकार करने के एक दिन बाद चीन का कहना है कि भारतीय मीडिया अलग तरह की तस्वीर पेश कर रहा है।   चीन ने शनिवार को भारतीय मीडिया पर आरोप लगाया कि वो झड़पों को गलत तरह से पेश कर रहा है चीन के बारे में भ्रम फैला रहा है और इस बात को समझने में नादानी कर रहा है कि हमारी तरफ से ईमानदारी और दयालुता को दिखाया गया। जून 2020 में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर भयंकर गैलवान घाटी में संघर्ष के दौरान पीपुल्स लिबरेशन आर्मी में लोग हताहत हुए थे।

भारतीय मीडिया पर चीनी भड़ास
चीन ने आधिकारिक तौर पर शुक्रवार को हताहतों का ब्योरा पेश करने के बाद भारतीय सैनिकों के साथ पिछले साल की सीमा संघर्ष में मारे गए चार जवानों के लिए शोक व्यक्त किया है, लेकिन कुछ भारतीय मीडिया और नेटीजन अब भी चीन के हताहत होने और चीन की रिहाई के समय पर संदेह कर रहे हैं। चीनी राज्य के मीडिया प्रकाशन ग्लोबल टाइम्स ने एक रिपोर्ट में कहा, "चीनी विशेषज्ञों ने आत्म-धोखे और चीन की दयालुता और ईमानदारी को समझने में विफलता के रूप में स्लैम को जारी रखा।"इसके अलावा, रिपोर्ट में दावा किया गया कि भारत ने उस समय यह आंकड़ा बढ़ा दिया जब चीन अपने सैनिकों की मौत का शोक मना रहा था।

भारतीय मीडिया दयालुता को समझने में भूल ना करे
इस रिपोर्ट के बाद सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर चीनी नागरिकों की तरफ से प्रतिक्रिया आने लगी जिसमें चीनी नागरिक शहीद हुए अपने सैनिकों के लिए शांति के लिए प्रार्थना कर रहे थे। लेकिन  इसके विपरीत, कुछ भारतीय मीडिया ने अभी भी सोशल मीडिया प्लेटफार्मों पर चीन की हताहतों की संख्या को बढ़ा दिया है, यह दावा करते हुए कि चीन ने 40 से अधिक मौतों का सामना किया और जानकारी के साथ फुटेज जारी करने में चीन के लिए तथाकथित आठ महीने की देरी की। 



14-15 जून 2020 की रात हुई थी झड़प
चीन ने शुक्रवार को एक कथित वीडियो जारी किया, जिसमें दावा किया गया था कि वो वीडियो उसी गलवान इलाके का है जहां भारतीय सेना के 20 जवान शहीद हो गए थे जो भारतीय क्षेत्र में आगे बढ़ते हुए पीएलए सैनिकों को पीछे धकेलने की कोशिश कर रहे थे। ग्लोबल टाइम्स ने वीडियो साझा करते हुए कहा था, 'जून में भारत के साथ गालवान घाटी सीमा पर हुए संघर्ष में चार पीएलए शहीद हो गए और इसके साथ ही चीनी सैनिकों की बहादुरी के बारे में विस्तार से पता चलता है।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर