11 दिन के संघर्ष में इजरायल और फिलिस्तीन को इतना हुआ नुकसान, एक संदेश भी

दुनिया
ललित राय
Updated May 21, 2021 | 12:15 IST

इजराइल और फिलिस्तीन में सीजफायर हो चुका है। लेकिन पिछले 11 दिनों में जो तबाही हुई है उसका ठीक ठीक अंदाजा अभी नहीं लग सका है, हालांकि दोनों को जबरदस्त नुकसान हुआ है।

11 दिन के संघर्ष में इजरायल और फिलिस्तीन को इतना हुआ नुकसान, एक संदेश भी
शु्क्रवार को इजराइल और फिलिस्तीन में सीजफायर हुआ लागू 

मुख्य बातें

  • इजराइल और फिलिस्तीन के बीच संघर्ष में दोनों देशों पर असर
  • गाजा में मकानों के साथ साथ बिजली संयंत्रों को खासा नुकसान
  • इजरायली उद्योगों पर भी असर, कोरोना काल में दोहरी मार

इजराइल और फिलिस्तीन के बीच 11 दिन तक चलने वाला संघर्ष समाप्त हो चुका है। लेकिन अपने पीछे तबाही का मंजर छोड़ चुका है और आर्थिर तौर पर बर्बादी भी। 11 दिन पहले जब गाजा की तरफ से हमास ने रॉकेट से हमला किया तो एक बात साफ थी कि इजराइल चुप नहीं बैठेगा और जवाबी कार्रवाई करेगा। इजराइल की तरफ से जवाबी कार्रवाई भी गई और उसके निशान गाजा की दीवारों पर देखे जा सकते हैं तो अंतहीन दुख उन लोगों को सालता रहेगा जिन्होंने अपनों को खो दिया। यहां पर हम बताएंगे कि दोनों मुल्कों को कितना नुकसान हुआ। 

गाजा इलाके में जबरदस्त नुकसान
गाजा के आवास मंत्रालय ने गुरुवार को कहा कि 16,800 आवास इकाइयों को नुकसान पहुंचा है। उनमें से, १,८०० जीने के लिए अनुपयुक्त हो गए थे और एक हजार पूरी तरह से नष्ट हो गए थे।गाजा पट्टी के बिजली वितरण संयंत्र के प्रवक्ता मोहम्मद थाबेट ने कहा कि निवासियों को शत्रुता से 12 घंटे पहले की तुलना में 3-4 घंटे बिजली मिलने का अनुमान था।हमास मीडिया कार्यालय ने अनुमान लगाया कि बमबारी से कारखानों और पट्टी के औद्योगिक क्षेत्र और अन्य औद्योगिक सुविधाओं को नुकसान हुआ है, साथ ही ऊर्जा क्षेत्र को 22 मिलियन डॉलर का नुकसान हुआ है।गाजा के कृषि मंत्रालय ने लगभग 27 मिलियन डॉलर के नुकसान का अनुमान लगाया है जिसमें ग्रीनहाउस, कृषि भूमि और पोल्ट्री फार्म शामिल हैं।

संयुक्त राष्ट्र और सहायता समूहों ने कहा कि फिलिस्तीनियों के पास अब पानी की सुविधाओं तक सीमित या कोई पहुंच नहीं है।सहायता समूह सेव द चिल्ड्रेन के देश निदेशक जेसन ली ने कहा, "गाजा में परिवार और हमारे कर्मचारी हमें बता रहे हैं कि वे ब्रेकिंग पॉइंट पर हैं।अब बुनियादी आपूर्ति और बिजली कम चल रही है, इस मानवीय तबाही को और बढ़ा रही है।"

इजराइली उद्योगों पर असर
केंद्रीय सांख्यिकी ब्यूरो ने कहा कि कोरोनोवायरस महामारी के कारण पहली तिमाही में इज़राइल की अर्थव्यवस्था में 6.5% की कमी आई है, और अर्थशास्त्रियों ने चेतावनी दी है कि इज़राइल और फिलिस्तीनी आतंकवादियों के बीच लड़ाई स्वास्थ्य संकट से इसकी आर्थिक सुधार को रोक सकती है।इज़राइल के निर्माता संघ ने 13 मई को कहा कि 11-13 मई के बीच अर्थव्यवस्था को नुकसान 540 मिलियन शेकेल ($ 166 मिलियन) तक पहुंच गया क्योंकि देश के दक्षिण और केंद्र में गाजा से तीव्र रॉकेट आग लग गई थी। उस आंकड़े में कारखानों को कोई नुकसान नहीं हुआ।

इसके अध्यक्ष रॉन तोमर ने पिछले सप्ताह कहा था कि इजराइल का इजराइल उद्योग आग की चपेट में है और श्रमिकों की कम संख्या के साथ उत्पादन जारी है।इजराइल के केंद्रीय बैंक, वित्त मंत्रालय और निर्माता संघ ने कहा कि उनके पास अभी तक गाजा से रॉकेटों से होने वाले पूर्ण आर्थिक नुकसान पर अप-टू-डेट डेटा नहीं है।व्यापार और शिपिंग सूत्रों ने कहा है कि कुछ टैंकरों को रॉकेटों के कारण अन्य इजराइली बंदरगाहों की ओर मोड़ना पड़ा, जिससे ईंधन की डिलीवरी में देरी हुई।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर