जलवायु परिवर्तन: उत्तरी गोलार्द्ध में रिकॉर्ड गर्मी से अमेरिका में आग से हुई तबाही पर चिन्ताएँ

संयुक्त राष्ट्र की मौसम एजेंसी ने आगाह करते हुए बताया कि अमेरिका के जंगलों में आग के कारण लोगों के हताहत होने और भारी तबाही के अलावा, करोड़ों लोगों के लिये वायु गुणवत्ता भी प्रभावित हुई है

US Woodfire
अमेरिका के जंगलों में लगी आग 

नई दिल्ली : विश्व मौसम संगठन ने कहा है कि उत्तरी गोलार्द्ध में अगस्त महीना अभी तक का सबसे गर्म रहा है. संगठन की ये ताज़ा रिपोर्ट मंगलवार को ऐसे हालात के बीच जारी की गई है जिनके कारण संयुक्त राज्य अमेरिका के पश्चिमी तटीय इलाक़ों में विनाशकारी जंगली आगों ने तबाही मचा रखी है.

विश्व मौसम संगठन की प्रवक्ता क्लेयर न्यूलिस ने कहा, “उत्तरी गोलार्द्ध ने अभी तक के सबसे रिकॉर्ड गर्म शुष्क मौसम का अनुभव किया है.”
अमेरिका के राष्ट्रीय समुद्री व वातावरणीय प्रशासन (एनओएए) द्वारा सोमवार रात जारी आँकड़ों के अनुसार उत्तरी गोलार्द्ध में अभी तक का सबसे रिकॉर्ड गर्म अगस्त दर्ज किया गया है.” आँकड़ों से पता चलता है कि जून से अगस्त महीनों में तापमान औसत तापमान से 1.17 डिग्री सेल्सियस ज़्यादा रहा.

2015 के बाद से 5 गर्मतर गर्मियाँ

मौसम संगठन की प्रवक्ता क्लेयर न्यूलिस ने कहा कि इस वर्ष से पहले 2016 और 2019 में भी रिकॉर्ड तापमान दर्ज किया गया था लेकिन वर्ष 2020 का अगस्त महीना तापमान के नज़रिये से उनसे भी आगे निकल गया. उत्तरी गोलार्द्ध में गर्मियों के सबसे गर्म पाँच मौसम 2015 के बाद ही दर्ज किये गए हैं.

प्रवक्ता ने एनओएए के आँकड़ों का हवाला देते हुए बताया कि वैश्विक स्तर पर अगस्त महीने में दूसरी बार सबसे ज़्यादा तापमान दर्ज किया गया जोकि 20वीं शताब्दी के औसत तापमान 15.6 डिग्री सेल्सियस से .94 डिग्री सेल्सियस ऊपर रहा. अमेरिका के पश्चिमी तटीय इलाक़े में वर्ष 2020 के दौरान लगी भीषण जंगली आगों का सिलसिला भी रिकॉर्ड स्तर पर रहा है. केवल कैलीफ़ोर्निया में ही लोगों और क़स्बों को आगों से बचाने के लिये लगभग 16 हज़ार अग्निशन कर्मचारियों को काम पर लगना पड़ा.

आग की लपटों से जूझते 16 हज़ार कर्मी

प्रवक्ता क्लेयर न्यूलिस ने कहा, “इस आग की वजह से ये मौसम बहुत विनाशकारी साबित हुआ है. जैसाकि हम जानते हैं, कैलीफ़ोर्निया, ओरेगॉन और वाशिंगटन राज्यों पर सबसे ज़्यादा गाज गिरी है, बड़े-बड़े इलाक़े राख में तब्दील हो गए, जिनके कारण सैकड़ों व हज़ारों लोगों को वहाँ से निकलना पड़ा जिसमें कुछ लोग हताहत भी हुए.”

संयुक्त राष्ट्र की मौसम एजेंसी ने आगाह करते हुए बताया कि इन आगों के कारण लोगों के हताहत होने और भारी तबाही के अलावा, करोड़ों लोगों के लिये वायु गुणवत्ता भी प्रभावित हुई है और आसमान पर नारंगी रंग का धुँधलका छा गया.

सैटेलाइट से मिली तस्वीरों में पश्चिमी प्रशान्त क्षेत्र के ऊपर धुएँ के बादल तैरते नज़र आते हैं जो लगभग 1300 मील यानी 2 हज़ार 92 किलोमीटर तक फैले हुए थे.

इस धुएँ के कारण इसके बिल्कुल दूसरी तरफ़ वाले छोर पर सुबह धुँधलके वाली रही क्योंकि सूरज को अपना प्रकाश ज़मीन तक पहुँचाने में मशक्कत करनी पड़ी और न्यूयॉर्क शहर के ऊपर भी गर्म कोहरे की एक चादर सी छाई रही.

कैलीफ़ोर्निया के पूर्वोत्तर इलाक़े में इस लगभग पूरे सप्ताह जारी रहे हालात का ज़िक्र करते हुए प्रवक्ता ने कहा कि ये सर्वाधिक ख़तरनाक स्तर दर्ज किया गया जो तेज़ रफ़्तार हवाओं और सूखे हालात का मिश्रण था.

विश्व मौसम संगठन की प्रवक्ता ने बताया कि वर्ष 2020 के दौरान अमेरिका में कुल 41 हज़ार 599 आगें दर्ज की गईं जिनमें से 36 हज़ार 383 मानवीय गतिविधियों के कारण लगीं. इन आगों के कारण देश में लगभग ढाई लाख एकड़ के बराबर इलाक़ा आग की भेंट चढ़ा.

अमेरिका के राष्ट्रीय इण्टर एजेंसी अग्नि केन्द्र के अनुसार, सबसे ज़्यादा आगें कैलीफ़ोर्निया में दर्ज की गईं जिनमें 7 हज़ार 72 मानव गतिविधियों का कारण भड़कीं.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर