चीन की वो रस्म, जिसमें छेड़छाड़, जबरन शराब पिलाकर दी जाती है लड़कियों को सेक्‍स एजुकेशन

चीन में सेक्‍स एजुकेशन के नाम पर सदियों शुरू की गई अजीबोगरीब परंपरा नावहुन आज भी जारी है, जो महिलाओं के खिलाफ यौन हिंसा को भी दर्शाती है।

चीन की वो रस्म, जिसमें छेड़छाड़, जबरन शराब पिलाकर दी जाती है लड़कियों को सेक्‍स एजुकेशन
चीन की वो रस्म, जिसमें छेड़छाड़, जबरन शराब पिलाकर दी जाती है लड़कियों को सेक्‍स एजुकेशन  |  तस्वीर साभार: Representative Image

मुख्य बातें

  • चीन के कई हिस्‍सों में शादी से जुड़ी यह परंपरा 221-207 BC से ही चली आ रही है
  • इसका मकसद दूल्‍हा-दुल्‍हन को एक-दूसरे के साथ सहज करना बताया जाता है
  • लड़कियां अब इसे पसंद नहीं कर रही हैं, वे इसके लिए कॉन्‍ट्रैक्‍ट भी करवा रही हैं

बीजिंग: यूं तो शादी-ब्‍याह में हर जगह कई तरह की रस्‍में होती हैं और हर समुदाय की अपने विशिष्‍ट पहचान वाले रीति-रिवाज एंव परंपराएं भी होती हैं, पर शादी के नाम पर अगर किसी लड़की के साथ छेड़खानी हो और उसे जबरन शराब तक पिलाई जाए तो यह वाकया किसी को भी हैरान कर सकता है। चीन के कई हिस्‍सों में यह परंपरा सदियों से चली आ रही है, जिसे अब खुद यहां की महिलाएं नापसंद करने लगी हैं।

महिलाएं करने लगी हैं नापसंद

चीन की इस अजीबोगरीब परंपरा को नावहुन कहा जाता है, जिसमें लोकगीतों के जरिये होने वाली दुल्‍हन और कई बार उसकी हमउम्र लड़कियों से भी भद्दे मजाक और छेड़खानी की जाती है। इसका कारण यूं तो सेक्‍स एजुकेशन और दूल्‍हा व दुल्‍हन को एक-दूसरे के साथ सहज बनाना बताया जाता है, लेकिन इसकी आड़ में महिलाएं अक्‍सर यौन हिंसा का शिकार भी होती हैं और यही वजह है कि इसे लेकर अब यहां आवाज भी उठने लगी है।

'वाट्सऑन वीबो' डॉट कॉम की एक रिपोर्ट के अनुसार, एक सर्वे में 70 प्रतिशत से अधिक लोगों ने चीन की इस परंपरा को मौजूदा दौर में पूरी तरह अप्रसांगिक व शर्मनाक बताया। वहीं एक अन्‍य ऑनलाइन सर्वे में 78.4 प्रतिशत से अधिक लोगों ने यह महिलाओं के खिलाफ अनादर को दर्शाता है। सिर्फ 5.2 लोगों ने कहा कि यह चीन की शादी की पारंपरिक रस्‍म है और इसे बहुत गंभीरता से नहीं लिया जाना चाहिए, जबकि 16.4 प्रतिशत लोगों ने कहा कि छेड़खानी स्वीकार करने लायक है या नहीं यह होने वाली दुल्‍हन और उसकी सहेलियों के रवैये पर निर्भर करता है।

गाया जाता है एक खास लोकगीत

चीन में शादी से पहले सेक्‍स एजुकेशन के नाम पर दुल्‍हन और उसकी सहेलियों से भद्दे मजाक का मेहमान भी खूब मजा लेते हैं। कई बार वे मेहमान दूल्‍हा-दुल्‍हन के मैरिज रूम तक पहुंच जाते हैं और उन्‍हें एक-दूसरे के गले मिलने और किस करने या सेक्‍स गेम के लिए भी बाध्‍य करते हैं। अगर कोई इससे मना करता है तो सबके सामने उसका मजाक बनाया जाता है। शादी का माहौल खराब न हो, इसलिए कपल्‍स ऐसा करने को राजी हो जाते हैं।

शादी से दौरान होने वाली नावहुन की इस रस्म में एक लोकगीत खास तौर पर गाया जाता है, जिसका हिन्‍दी में अनुवाद कुछ इस तरह है, 'पहले उसके हाथों को देखो, फिर उसके पैरों को देखो और तब उसकी कमर को देखो।' यह गीत दूल्‍हे को संबोधित करते हुए गाया जाता है, जिसमें दुल्‍हन के साथ मजाक किया जाता है। नावहुन रस्‍म के दौरान कई बार लड़कियों को जबरन शराब भी पिला दी जाती है और इस वक्‍त वे अपनी जिंदगी खुलकर जिएं।

लड़कियां करवाने लगी हैं अब कॉन्‍ट्रैक्‍ट

चीन के कई हिस्‍सों में यह परंपरा 221-207 BC से ही चली आ रही है, जब यहां हान साम्राज्य हुआ करता था। तब 12-13 साल की उम्र में शादियां हो जाया करती थीं। उस उम्र में दूल्हा-दुल्हन को यौन संबंधों के बारे में कम ही समझ होती थी और ऐसे में उन्‍हें सेक्स एजुकेशन देने तथा एक-दूसरे के के लिए यह तरीका अपनाया गया, लेकिन मौजूदा दौर में यह इसका कोई अर्थ नहीं रह गया है और महिलाएं इससे पीछे हटने लगी हैं।

चीन में शादी से जुड़ी इस परंपरा के कारण हादसे की रिपोर्ट्स भी सामने आ चुकी है, जिसमें दूल्‍हे ने जब दुल्‍हन व उसकी सहेलियों को छूने की कोशिश की तो घबराकर लड़की भाग खड़ी हुई और चौथी मंजिल से छलांग लगा दी। कई बार हालात इतने खराब हो जाते हैं कि शादी करने जा रहे जोड़े पहले ही अलग हो जाते हैं। यही यह है कि आजकल कई युवतियां शादी से पहले इसके लिए बकायदा कान्ट्रैक्ट करवा रही हैं कि शादी के दौरान इस तरह की रस्में नहीं होंगी, जिसमें उसे या उसकी दोस्तों को छुआ जाए या जबरन शराब पिलाई जाए। 

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर