ऑस्ट्रेलिया ने पारित किया ऐतिहासिक कानून, अब फेसबुक और गूगल को न्यूज के लिए देना होगा पैसा

दुनिया
किशोर जोशी
Updated Feb 25, 2021 | 09:15 IST

ऑस्ट्रेलिया की संसद ने एक ऐतिहासिक कानून को पारित कर दिया है जिसके बाद फेसबुक और गूगल जैसी दिग्गज टेक कंपनियों को न्यूज के लिए पैसा देना होगा।

Australia passes landmark law requiring tech companies, like Facebook, Google to pay for news
FB और गूगल विवाद, ऑस्ट्रेलिया ने पारित किया ऐतिहासिक कानून 

मुख्य बातें

  • फेसबुक और गूगल के साथ चल रहे विवाद के बीच ऑस्ट्रेलिया का बड़ा कदम
  • ऑस्ट्रेलिया ने पारित किया नया ऐतिहासिक कानून
  • फेसबुक औऱ गूगल जैसी दिग्गज टेक कंपनियों को देने होंगे न्यूज के लिए पैसे

सिडनी: ऑस्ट्रेलिया की संसद ने गुरुवार को ऐतिहासिक कानून पारित किया, जिसके तहत वैश्विक डिजिटल दिग्गजों को स्थानीय समाचार सामग्री के लिए भुगतान करना होगा। ऑस्ट्रेलिया के इस कदम पर दुनिया भर की नजर बनी हुई थी। कानून को बड़ी आसानी से पारित कर दिया। फेसबुक और Google ने स्थानीय मीडिया कंपनियों को भुगतान करने वाली नीति का विरोध किया था।

कानून साबित होगा मॉडल!

नए कानून ने गूगल और फेसबुक के लिए स्थानीय कंटेंट सौदों में लाखों डॉलर का निवेश करने का मार्ग प्रशस्त किया है। यह कानून दुनिया भर में नियामकों के साथ कंपनियों के झगड़े को सुलझाने के लिए एक मॉडल साबित हो सकता है। गूगल अब अपने "शोकेस" प्रोडक्ट  पर दिखाई देने वाली समाचार सामग्री के लिए भुगतान करेगा और फेसबुक को अपने "समाचार" प्रोडक्ट पर दिखाई देने वाले प्रदाताओं का भुगतान कर सकता है। इस कानून को इस वर्ष के अंत में ऑस्ट्रेलिया में लागू किया जाना है।

टेक कंपनियों ने किया था विरोध

नियामकों ने उन कंपनियों पर आरोप लगाया था, जो ऑनलाइन विज्ञापन पर हावी होती हैं, वे मुफ्त में अपनी सामग्री का उपयोग करते हुए पारंपरिक समाचार संगठनों से पैसा वसूलने की कोशिश करते हैं। दिग्गज टेक कंपनियों ने शुरू से ही कानून का जमकर विरोध किया था, क्योंकि उन्हें डर था कि इससे उनके बिजनेस मॉडल को खतरा होगा। विशेष रूप से, कंपनियों ने उन नियमों पर आपत्ति जताई जिनमें मीडिया कंपनियों के साथ बातचीत को अनिवार्य बना दिया और एक स्वतंत्र ऑस्ट्रेलियाई मध्यस्थ को एक मौद्रिक निपटान लागू करने का अधिकार दिया गया।

फेसबुक ने कही थी ये बात

 कोषाध्यक्ष जोश फ्राइडेनबर्ग ने एक बयान में कहा, "महत्वपूर्ण रूप से, कोड पार्टियों को नियमों के बाहर व्यावसायिक वार्ता करने के लिए प्रोत्साहित करता है। सरकार गूगल और फेसबुक दोनों को ऑस्ट्रेलियाई समाचार मीडिया व्यवसायों के साथ वाणिज्यिक व्यवस्था तक पहुंचाने को लेकर लिए खुश है।'' फेसबुक जो समाचार सामग्री पर बहुत कम निर्भर है, उनसे शुरूआत में कहा था कि समाचार के लिए भुगतान करने के लिए मजबूर किया जा रहा है जबकि वह इस लायक नहीं है।  

फेसबुक ने ऑस्ट्रेलिया के लोगों पर समाचार लेख आदि साझा करने पर रोक लगा दी थी। इसके चलते कई सरकारी पेज और घोषणाएं और कोविड-19 पर अलर्ट को भी ब्लॉक कर दिया गया था। इस कदम के बाद फेसबुक को काफी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा था।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर