भारत में 21 दिन का लॉकडाउन, फ्लिपकार्ट ने उठाया ये बड़ा कदम

कोरोना वायरस के प्रकोप को रोकने के लिए भारत में 21 दिन के लॉकडाउन का ऐलान किया गया है। इसी क्रम में ई-कॉमर्स वेबसाइट फ्लिपकार्ट ने अपनी सेवाएं अस्थायी रूप से निलंबित कर ली हैं।

Flipkart
फ्लिपकार्ट ने रोकीं सेवाएं 

नई दिल्ली: ई-कॉमर्स वेबसाइट फ्लिपकार्ट ने कोरोना वायरस के प्रकोप के कारण भारत में अपनी सेवाओं को अस्थायी रूप से निलंबित करने की घोषणा की है। कंपनी ने अपने ऐप पर इसकी जानकारी दी और इसके साथ एक संदेश भी दिया है।

मैसेज में कहा गया है, 'नमस्कार भारतीयों, हम अस्थायी रूप से हमारी सेवाओं को निलंबित कर रहे हैं। ये मुश्किल समय हैं, अन्य समय की तरह नहीं। पहले कभी भी समुदायों को सुरक्षित रहने के लिए अलग रहना पड़ा। पहले कभी भी घर पर रहने का मतलब राष्ट्र की मदद करना नहीं था। हम आपसे सुरक्षित रहने के लिए घर रहने का आग्रह करते हैं।'

भारत में 21 दिन का लॉकडाउन
इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार यानी 24 मार्च को रात 8 बजे राष्ट्र को संबोधित करते हुए पूरे देश में 21 दिनों के लिए राष्ट्रव्यापी लॉकहाउन की घोषणा की। इसके बाद गृह मंत्रालय ने लॉकडाउन को लेकर दिशा-निर्देश जारी किए। इसमें बताया गया कि इन 21 दिनों में क्या कुछ मिलेगा, क्या नहीं। क्या खुलेगा, क्या नहीं। 

ये सेवाएं रहेंगी जारी
इनमें कहा गया है कि उचित मूल्य की दुकानें और भोजन, किराने का सामान, फल, सब्जियां, डेयरी, मांस, मछली, पशु चारे से संबंधित दुकानें खुली रहेंगी। दिशा निर्देशों के अनुसार बैंक, बीमा कार्यालय, प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया खुले रहेंगे। इसमें ई-कॉमर्स के जरिए खाद्य पदार्थ, दवाईयां, चिकित्सीय उपकरण मुहैया कराने को भी बंद से छूट है। 

लॉकडाउन से बिजनेस पर पड़ा असर
वॉलमार्ट के स्वामित्व वाली फ्लिपकार्ट पिछले कुछ दिनों में अपने कारोबार को लेकर संघर्ष कर रहा है क्योंकि विभिन्न राज्यों में लोगों और सामानों की आवाजाही पर प्रतिबंध लागू था। अमेजन, स्नैपडील, बिगबास्केट और ग्रोफर्स जैसे अन्य ईकॉमर्स पोर्टल्स को भी इसी तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ा है। 

अगली खबर
loadingLoading...
loadingLoading...
loadingLoading...