टोक्यो ओलंपिक में सिल्वर मेडल जीतने के बाद रवि दहिया ने कहा- इससे मुझे संतुष्टि नहीं मिलेगी

स्पोर्ट्स
भाषा
Updated Aug 05, 2021 | 23:12 IST

पहलवान रवि दहिया ने टोक्यो ओलंपिक में रजत पदक जीतने के बाद कहा कि यह मुझे कभी संतोष नहीं देगा। पेरिस ओलंपिक में गोल्ड पर निशाना होगा।

After winning silver medal in Tokyo Olympics, Ravi Dahiya said – this will not give me satisfaction
सिल्वर मेडल जीतने वाले पहलवान रवि दहिया  |  तस्वीर साभार: AP

मुख्य बातें

  • दहिया ने कहा कि मैं सिल्वर मेडल के लिए टोक्यो नहीं आया था।
  • शायद रजत पदक जीतने का ही हकदार था।
  • पेरिस ओलंपिक में गोल्ड मेडल जीतने की कोशिश करूंगा।

नई दिल्ली : युवा भारतीय पहलवान रवि दहिया ने गुरुवार को कहा कि टोक्यो ओलंपिक में वह शायद रजत पदक जीतने के ही हकदार थे लेकिन वह पेरिस ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतने का अपना सपना पूरा करने की कोशिश करेंगे। इस 23 वर्षीय खिलाड़ी ने पुरुष वर्ग के 57 किग्रा फाइनल के बाद पीटीआई से कहा कि यह रजत पदक उन्हें कभी संतोष नहीं देगा हालांकि उनका प्रदर्शन भारतीय कुश्ती के लिये काफी मायने रखता है।

दहिया ने जापान की राजधानी से फोन पर कहा कि मैं रजत पदक के लिए टोक्यो नहीं आया था। इससे मुझे संतुष्टि नहीं मिलेगी। शायद इस बार मैं रजत पदक का ही हकदार था क्योंकि युगुएव आज बेहतर पहलवान था। उन्होंने कहा कि मैं जो चाहता था, वह हासिल नहीं कर पाया।  दहिया ने विश्व चैंपियन युगुएव के रक्षण को तोड़ने के लिए अपनी तरफ से भरसक प्रयास किया लेकिन रूसी पहलवान ने उन्हें कोई मौका नहीं दिया। दो बार के मौजूदा एशियाई चैंपियन ने कहा कि उसकी शैली बहुत अच्छी थी। मैं अपने हिसाब से कुश्ती नहीं लड़ पाया। मेरी समझ में नहीं आ रहा था कि मैं क्या कर सकता हूं। उसने बहुत चतुरता से कुश्ती लड़ी।

रजत पदक लेकर चुप नहीं बैठ सकता

दहिया से जब पूछा गया कि उनका रजत पदक भारतीय कुश्ती के लिए क्या मायने रखता है तो वह उत्साहित हो गए। उन्होंने कहा कि वो तो ठीक है लेकिन रजत पदक लेकर चुप नहीं बैठ सकता। मुझे अपनी एकाग्रता बनाये रखनी होगी और अपनी तकनीक पर काम करना होगा तथा अगले ओलंपिक खेलों के लिये तैयार रहना होगा।

पिता दिए काफी बलिदान

रवि के पिता राकेश ने उन्हें यहां तक पहुंचाने के लिए काफी बलिदान दिए। वह अब भी परिवार को चलाने के लिए पट्टे पर लिए गए खेतों पर काम करते हैं। हरियाणा सरकार ने उनके लिये 4 करोड़ रुपए के नकद पुरस्कार की घोषणा की है और दहिया ने कहा कि वह केवल पैसे के बारे में नहीं सोच रहे थे और उनका ध्यान केवल ओलंपिक स्वर्ण पदक जीतने पर था। उन्होंने इसके साथ ही कहा कि वह अपने पिता पर खेतों में काम नहीं करने के लिए दबाव नहीं बनाएंगे।

मेरे गांव ने दिए 3 ओलंपियन - दहिया 

दहिया ने कहा कि उन्हें काम करने में खुशी मिलती है। यह उन पर निर्भर है कि वह आराम चाहते हैं या नहीं। मैं उन पर किसी तरह का दबाव नहीं बनाऊंगा। उन्होंने कहा कि मेरे गांव ने तीन ओलंपियन दिए हैं और वह मूलभूत सुविधाओं का हकदार है। मैं नहीं बता सकता कि पहले क्या चाहिए। गांव को हर चीज की आवश्यकता है। हर चीज महत्वपूर्ण है चाहे वह अच्छे स्कूल हों या खेल सुविधाएं। दहिया का गांव नाहरी दिल्ली से 65 किमी दूर है लेकिन वहां अब भी मूलभूत सुविधाओं का अभाव है।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर