पूर्व ओलंपियन का खुलासा- ओलंपिक विलेज में अनिवार्य है सेक्स, लोग रहते हैं बेताब

ओलंपिक के दौरान सेक्स हमेशा से ही एक मुद्दा रहा है। अब इस मसले पर पूर्व ओलंपियन सुसेन टीड़त्के (Susen Tiedtke) ने कहा है कि ओलंपिक विलेज में सेक्स पर प्रतिबंध लगाना बेइमानी है।

Sex Inevitable at The Games Village, Reveal Former Olympians Susen Tiedtke
पूर्व ओलंपियन का खुलासा:ओलंपिक विलेज मेंअनिवार्य है सेक्स 
मुख्य बातें
  • पूर्व ओलंपियन होप सोलो ने कहा था,. मैंने लोगों को खेल गांव में सार्वजनिक रूप से सेक्स करते देखा है
  • सेक्स प्रतिबंध मेरे लिए एक बड़ी हंसी का पात्र है: सुसेन टीड़त्के
  • हाल ही में टोक्यो ओलंपिक विलेज के बेड्स को लेकर हुई थी काफी चर्चा

नई दिल्ली: कुछ समय पहले टोक्यो ओलंपिक विलेज (Tokyo Olympics) के गद्दों को लेकर काफी चर्चा हुई थी और एक रिपोर्ट में दावा किया गया कि ये बेड सेक्स के लिए मजबूत नहीं हैं। हालांकि आयरिश जिमनास्ट रिस मैकलेगन ने पलंग के ऊपर कूदकर इसे गलत साबित किया था। रिपोर्ट में दावा किया गया था कि पलंग जानबूझकर कमजोर बनाए गए हैं ताकि कोविड महामारी के दौर में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जा सके। अब पूर्व जर्मन लॉन्ग जम्पर सुसेन टीड़त्के (Susen Tiedtke) ने कहा है कि  भले ही आयोजक कुछ भी कहें लेकिन ओलंपिक गांव में सेक्स अनिवार्य है।

प्रतिबंध लगाना मजाक

सुसेन टीड़त्के  ने कहा, '(सेक्स) प्रतिबंध मेरे लिए एक बड़ी हंसी का पात्र है, यह बिल्कुल भी काम नहीं करता है।' दरअसल ओलंपकि विलेज में सेक्स हमेशा एक मुद्दा है। इस बार भी बहुत हंगामे के बाद, ओलंपिक अधिकारियों को यह स्पष्ट करने के लिए मजबूर होना पड़ा कि बिस्तर उनकी स्थिरता और मजबूती के कारण प्रदान किए गए थे।

रूममेट्स करते हैं मदद

1992 और 2000 के ओलंपिक में भाग लेने वाली टिडके ने आगे कहा कि ये उपाय वास्तव में काम नहीं करते हैं क्योंकि लोग सेक्स के लिए बेताब हैं क्योंकि बहुत सारी पार्टियां होती हैं जहां शराब बहुतायत में परोसी जाती है है और एथलीट ठीक से नहीं सो पाते हैं और ऐसे लोग भी हैं जो सुबह में सेक्स करते हैं।  सुसेन टीड़त्के बताती हैं, 'जब आप सेक्स करते हैं, तो आपका शरीर रिचार्ज होता है और ऊर्जा अंदर से आती है। ओलंपिक रूममेट्स भी बहुत मदद करते हैं। वे मामले को समझते हैं और सेक्स करने के लिए रूममेट को दूसरे रूममेट के पास छोड़ देते हैं।'

मैंने सार्वजनिक रूप से लोगों को सेक्स करते देखा है- सोलो

 उन्होंने कहा कि इसमें कुछ भी गलत नहीं है। कोई जबरदस्ती कुछ नहीं करता, यही नियम है। वास्तव में, ओलंपिक के दौरान, एथलीट अपनी शारीरिक शक्ति की सीमा पर होते हैं और इसलिए, सेक्स उनकी ऊर्जा को मुक्त करने का एक तरीका है। दो बार के यूएस गोल्ड मेडलिस्ट होप सोलो ने भी ओलंपिक विलेज के अपने अनुभव साझा किए। 2012 में ईएसपीएन के साथ एक साक्षात्कार में, उन्होंने कहा, 'ओलंपिक में बहुत अधिक सेक्स है। मैंने लोगों को सार्वजनिक रूप से सेक्स करते देखा है। कोई घास पर लेटा हुआ है तो कोई दोनों इमारतों के बीच सेक्स कर रहा है।' 

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर