Coronavirus: मैदान के बाहर लगा 'कोरोना विनाशक गेट', खूबियां जानकर दंग रह जाएंगे आप

Coronavirus, Italy, Feel Safe, 23 July: कोरोना वायरस ने निपटने के दुनिया भर में अलग-अलग तरीके खोजे व अपनाए जा रहे हैं। इसी बीच इटली के एक फुटबॉल मैदान के बाहर खास दरवाजे का परीक्षण हुआ।

Feel Safe Gate
Feel Safe Gate, फील सेफ गेट  |  तस्वीर साभार: AP

मुख्य बातें

  • कोरोनावायरस ने निपटने के अलग-अलग तरीके
  • इटली में फुटबॉल मैदान के बाहर लगाया खास गेट, नाम है 'फील सेफ'
  • विषाणु रोधी दरवाजे में हैं कई तरह की खूबियां

तूरिन (इटली): कोविड-19 महामारी ने पूरी दुनिया में कहर बरपाया है और ये अभी थमने का नाम नहीं ले रहा है। कोरोना वायरस (Coronavirus) ने किसी को नहीं छोड़ा है, फिर चाहे वो आम हो या खास। खेल जगत पर भी इसका गहरा असर पड़ा है लेकिन चार महीने तक बैठे रहने के बाद खेलों की दुनिया सक्रिय हो चुकी है। ऐसे में खिलाड़ियों व आम लोगों को संक्रमित होने से बचाने के लिए अलग-अलग तरीकों को अपनाया जा रहा है। इटली में एक फुटबॉल मैदान के बाहर एक खास तरह के गेट का परीक्षण किया गया।

ऑटोमैटिक विषाणु रोधी गेट

टोरिनो ने इटली की शीर्ष फुटबॉल डिवीजन में हेलास वेरोना के खिलाफ अपने मैच से पहले स्वचालित विषाणु रोधी गेट (Automatic Anti-virus gate) का परीक्षण किया। इस उपकरण को ‘फील सेफ’ नाम दिया गया है और ये कई तरह की चीजें खुद ब खुद करने में माहिर है जिससे वायरस के संक्रमण को रोका जा सके।

Feel Safe Gate Turin

क्या-क्या है खूबियां

ये ऑटोमैटिक दरवाजा व उपकरण बेहद खास है। ये गेट मैच के लिए आने वाले लोगों के शरीर का तापमान मापेगा और चेहरे पहचानने वाले सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करके देखेगा कि मास्क सही तरह से पहना गया है या नहीं। इसके अलावा यह लोगों पर विषाणुनाशक का भी छिड़काव करेगा। इसमें सुरक्षा के तीन अलग-अलग स्तर तय किए जा सकते हैं और अगर कोई व्यक्ति सुरक्षा मापदंडों पर खरा नहीं उतरेगा तो यह प्रणाली स्टेडियम के कर्मचारियों को सतर्क करेगी।

दर्शकों को वापस लाने से पहले की तैयारी

इस गेट को स्टेडियम में प्रशंसकों के प्रवेश में तेजी लाने के लिए डिजाइन किया गया है। प्रशंसकों को हालांकि अब भी इटली में स्टेडियमों में आने की इजाजत नहीं है और इसलिए इसका परीक्षण पत्रकारों और स्टेडियम कर्मियों पर किया गया। इस उपकरण को मिलान के वर्ल्डवाइड एग्जीबिशन सिस्टम ने तैयार किया है। गौरतलब है कि यूरोपीय फुटबॉल में खिलाड़ियों को सुरक्षित रखने के लिए तमाम कदम उठाए जा रहे हैं जिसके नतीजे भी दिखने लगे हैं और शुरुआत में खिलाड़ियों व स्टाफ के संक्रमण के जो मामले आए उनको रोका जा सका है।

अगली खबर