Chhath Puja 2021 Aarti & Puja Mantra: सूर्य देवता को अर्घ्य देते समय इन मंत्रों का करें जाप, जानिए छठी मैया की आरती के लिरिक्स

Chhath Puja 2021Aarti & Puja Mantra Lyrics In Hindi: छठ पूजा के त्योहार का आज (11 नवंबर) आखिरी दिन है। इस दिन उगते हुए सूर्य को अर्घ्य दिया जाता है। जानिए छठ पूजा की आरती और मंत्र।

 Chhath Puja, Puja mantra
Chhath Puja 2021 Puja mantra 
मुख्य बातें
  • छठ पूजा का त्योहार षष्ठी तिथि को मनाया जाता है।
  • छठ पूजा को करने से छठी मईया हर मनोकामना को शीघ्र पूर्ण कर देती है। 
  • छठ त्योहार में सूर्य देवता का विधिवत व्रत रखा जाता है।

Chhath Puja 2021 Chhath Puja Ki Aarti & Puja Mantra Lyrics In Hindi: उत्तर भारत के पूर्वी यूपी, झारखंड और बिहार का लोकपर्व छठ का आज (11 नवंबर) आखिरी दिन है। चार दिन तक चलने वाले इस त्योहार में सूर्य देवता का विधिवत व्रत रखा जाता है। इसके बाद सूर्य भगवान की पूजा-अर्चना की जाती है। छठ पूजा का त्योहार षष्ठी तिथि को मनाया जाता है। कार्तिक शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि को नहाय खाय से शुरू होता है।

पंचम तिथि पर खरना और षष्ठी पर छठ पूजा और सप्तमी तिथि पर उषा अर्घ्य होता है। छठ पूजा संतान प्राप्ति, संतान की सुरक्षा और सुखमय जीवन के लिए भक्त पूरी श्रद्धा के साथ करते हैं। हिंदू धर्म की मान्यता के अनुसार छठ पूजा को करने से छठी मईया हर मनोकामना को शीघ्र पूर्ण कर देती है। 

छठ पूजा मंत्र (Chhath Puja mantra)

ॐ मित्राय नम:

ॐ रवये नम:

ॐ सूर्याय नम:

ॐ भानवे नम:

ॐ खगाय नम:

ॐ घृणि सूर्याय नम:

ॐ पूष्णे नम:

ॐ हिरण्यगर्भाय नम:

ॐ मरीचये नम:

ॐ आदित्याय नम:

ॐ सवित्रे नम:

ॐ अर्काय नम:

ॐ भास्कराय नम:

ॐ श्री सवितृ सूर्यनारायणाय नम:

Also Read: Chhath Puja Holiday: छठ पूजा पर 10 नवंबर को यूपी में 'सार्वजनिक अवकाश', CM योगी ने किया एलान

सूर्यदेव मंत्र (Chhath Puja Surya Dev mantra)

आदिदेव नमस्तुभ्यं प्रसीदमम् भास्कर।
दिवाकर नमस्तुभ्यं प्रभाकर नमोऽस्तु ते।।

अर्घ्य देते समय सूर्य अर्घ्य मंत्र (Chhath Puja Surya Arghya mantra) 
ऊँ ऐही सूर्यदेव सहस्त्रांशो तेजो राशि जगत्पते।
अनुकम्पय मां भक्त्या गृहणार्ध्य दिवाकर:।।
ऊँ सूर्याय नम:, ऊँ आदित्याय नम:, ऊँ नमो भास्कराय नम:। अर्घ्य समर्पयामि।।

छठ पूजा आरती (Chatth Puja Aarti)

जय छठी मैया ऊ जे केरवा जे फरेला खबद से, ओह पर सुगा मंडराए।
मारबो रे सुगवा धनुख से, सुगा गिरे मुरझाए।। जय।।

ऊ जे सुगनी जे रोएली वियोग से, आदिति होई ना सहाय।
ऊ जे नारियर जे फरेला खबद से, ओह पर सुगा मंडराए।। जय।।

मारबो रे सुगवा धनुख से, सुगा गिरे मुरझाए।
ऊ जे सुगनी जे रोएली वियोग से, आदित होई ना सहाय।। जय।।

अमरुदवा जे फरेला खबद से, ओह पर सुगा मंडरराए।
मारबो रे सुगवा धनुख से, सुगा गिरे मुरझाए।।जय।।

ऊ जे सुहनी जे रोएली वियोग से, आदित होई ना सहाय।
शरीफवा जे फरेला खबद से, ओह पर सुगा मंडराए।। जय।।

मारबो रे सुगवा धनुख से, सुगा गिरे मुरझाए।
ऊ जे सुगनी जे रोएली वियोग से, आदित होई ना सहाय।।जय।।

ऊ जे सेववा जे फरेला खबद से, ओह पर सुगा मंडराए।
मारबो रे सुगवा धनुख से, सुगा गिरे मुरझाए।।जय।।

ऊ जे सुगनी जे रोएली वियोग से, आदित होई ना सहाय।
सभे फलवा जे फरेला खबद से, ओह पर सुगा मंडराए।।जय।।

मारबो रे सुगवा धनुख से, सुगा गिरे मुरझाए।
ऊ जे सुगनी जे रोएली वियोग से, आदित होई ना सहाय।।जय।।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर