Samved: गीत के रूप में लिखा गया है ये वेद, जानिए सामवेद से जुड़ी दिलचस्प बातें

सामवेद चार वेदों में से सबसे अहम वेद माना जाता है और खास बात ये है कि इसे पूरी तरह से काव्यात्मक रूप में लिखा गया है। यहां जानिए इससे जुड़ी कुछ खास बातें।

Vedas interesting facts
सामवेद की खासियत 

मुख्य बातें

  • देवताओं की स्तुति के लिए गाए जाते हैं सामवेद के मंत्र
  • 'साम' का अर्थ होता है 'गान'
  • काव्य के रूप में लिखा गया है पूरा सामवेद

सामवेद हिन्दू धर्म के प्रसिद्ध चार वेदों में से एक है।‘साम‘ शब्द का अर्थ है 'गान'  और अपने नाम के ही अनुरूप यह पूरा का पूरा वेद गीत के रूप में लिखा गया है। सामवेद में संकलित मंत्रों को देवताओं की स्तुति के समय गाया जाता था। सामवेद में कुल 1875 ऋचायें हैं, जिनमें 75 से अतिरिक्त शेष ऋग्वेद से ली गई हैं। इन ऋचाओं का गान सोमयज्ञ के समय 'उदगाता' करते थे। सामदेव की तीन महत्त्वपूर्ण शाखायें हैं- कौथुमीय, जैमिनीय एवं राणायनीय।

देवता विषयक विवेचन की दृष्ठि से सामवेद का प्रमुख देवता ‘सविता‘ या ‘सूर्य‘ है, इसमें मुख्यतः सूर्य की स्तुति के मंत्र हैं किन्तु इंद्र सोम का भी इसमें पर्याप्त वर्णन है। भारतीय संगीत के इतिहास के क्षेत्र में सामवेद का महत्त्वपूर्ण योगदान रहा है। इसे भारतीय संगीत का मूल कहा जा सकता है। सामवेद का प्रथम द्रष्टा वेदव्यास के शिष्य जैमिनि को माना जाता है।वे

 क्या हैं वेद? पुरातन मान्यता के अनुसार वेद दुनिया के प्रथम धर्मग्रंथ है। इसी के आधार पर दुनिया के अन्य मजहबों की उत्पत्ति हुई जिन्होंने वेदों के ज्ञान को अपने अपने तरीके से भिन्न भिन्न भाषा में प्रचारित किया। वेद ईश्वर द्वारा ऋषियों को सुनाए गए ज्ञान पर आधारित है इसीलिए इसे श्रुति कहा गया है।

सामान्य भाषा में वेद का अर्थ होता है ज्ञान। वेद पुरातन ज्ञान विज्ञान का अथाह भंडार है। इसमें मानव की हर समस्या का समाधान है। वेदों में ब्रह्म (ईश्वर), देवता, ब्रह्मांड, ज्योतिष, गणित, रसायन, औषधि, प्रकृति, खगोल, भूगोल, धार्मिक नियम, इतिहास, रीति-रिवाज आदि लगभग सभी विषयों से संबंधित ज्ञान भरा पड़ा है।

सामवेद : साम का अर्थ रूपांतरण और संगीत। सौम्यता और उपासना। इस वेद में ऋग्वेद की ऋचाओं का संगीतमय रूप है। सामवेद गीतात्मक यानी गीत के रूप में है। इस वेद को संगीत शास्त्र का मूल माना जाता है। 1824 मंत्रों के इस वेद में 75 मंत्रों को छोड़कर शेष सब मंत्र ऋग्वेद से ही लिए गए हैं।इसमें सविता, अग्नि और इंद्र देवताओं के बारे में जिक्र मिलता है। इसमें मुख्य रूप से 3 शाखाएं हैं, 75 ऋचाएं हैं।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर