Sawan 2020: सोमनाथ मंदिर के बारे में कम ही लोग जानते हैं ये बातें, सावन में जाने ज्योतिर्लिंग तीर्थ का महत्व

Facts about Somnath Temple: सोमनाथ मंदिर भगवान शिव को समर्पित सबसे पुराने मंदिरों में से एक है। यह एक ज्योतिर्लिंग स्थल है। सावन के शुभ महीने के बीच जानें शिव मंदिर के बारे में कुछ रोचक तथ्य।

Important facts about Somnath temple
सोमनाथ मंदिर के बारे में महत्वपूर्ण तथ्य 

मुख्य बातें

  • 12 ज्योतिर्लिंग मंदिरों में शामिल है श्री सोमनाथ धाम का नाम
  • सावन महीने में होती है शिव की विशेष पूजा और आराधना
  • यहां जानिए सोमनाथ मंदिर का इतिहास और कुछ दिलचस्प तथ्य

मुंबई: भगवान शिव के भक्तों के बीच श्रावण (सावन) के महीने को बहुत शुभ माना जाता है। इस दौरान ज्योतिर्लिंग मंदिरों में श्रद्धालु दर्शनों के लिए पहुंचते हैं जिसमें गुजरात में सौराष्ट्र क्षेत्र स्थित सोमनाथ मंदिर भी शामिल है। आइए एक नजर डालते हैं वेरावल के पास स्थित शिव को समर्पित वास्तु के शानदार नमूने और सबसे पवित्र तीर्थ स्थलों में से एक सोमनाथ मंदिर जुड़े कुछ रोचक तथ्यों पर।

  1. पुरातन कहानियों के अनुसार मुस्लिम आक्रमणकारियों ने सोमनाथ मंदिर को कई बार नष्ट किया और इस क्षेत्र के स्वदेशी शासकों द्वारा इसे फिर से बनाया गया। मंदिर की वर्तमान संरचना को 5 वर्षों में बनाया गया था और इसे 1951 में पूरा किया गया था। सरदार वल्लभभाई पटेल ने मंदिर के पुनर्निर्माण का आदेश दिया था, जिसका उद्घाटन भारत के पहले राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद ने किया था।
  2. सोमनाथ बारह मुख्य ज्योतिर्लिंगों में से एक है। इस लिंग को स्वयंभू कहा जाता है। दिलचस्प बात यह है कि द्वादश ज्योतिर्लिंग यात्रा सोमनाथ से शुरू होती है।
  3. मौजूदा समय के मंदिर की वास्तुकला चौलुक्य शैली (जिसे कैलाश महामेरु प्रसाद भी कहा जाता है) को दर्शाती है।
  4. बाण स्तम्भ या बाण वाला एक स्तंभ मुख्य मंदिर परिसर का एक हिस्सा है। तीर दक्षिण ध्रुव की ओर इशारा करता है, जिससे यह पता चलता है कि मंदिर और अंटार्कटिका के बीच कोई भूखंड नहीं है। पानी में दक्षिण ध्रुव की ओर जाने वाले मार्ग को अभादित समुद्र मार्ग कहा जाता है, जिसका अर्थ है ऐसा मार्ग जहां कोई अवरोध न हो।
  5. मुख्य मंदिर की संरचना में गर्भगृह है जिसमें ज्योतिर्लिंग, सभा मंडपम और नृत्य मंडपम हैं। मुख्य शिखर या टॉवर 150 फीट की ऊंचाई तक है। शिखर के ऊपर कलश है जिसका वजन लगभग 10 टन है और ध्वाजदंड (ध्वज पोल) 27 फीट ऊंचाई और 1 फीट परिधि की है।
  6. सोमनाथ मंदिर का ऋग्वेद, शिव पुराण, स्कंद पुराण और श्रीमद्भागवत में एक उल्लेख मिलता है। इसी से अनुमान लगाया जा सकता है कि मूल मंदिर कितना पुराना था।
  7. चंद्र देव (जिन्हें सोम के नाम से भी जाना जाता है) के बारे में माना जाता है कि उन्होंने सोने से मंदिर का निर्माण किया था। उन्होंने अपनी 26 कन्याओं के साथ अन्याय करने के लिए राजा दक्ष द्वारा शापित होने के बाद भगवान शिव का आशीर्वाद मांगा था। इस स्थल पर तपस्या करने से पहले चंद्र देव ने त्रिवेणी संगम (कपिला, हिरण और सरस्वती नदियों के संगम पर) पर स्नान किया था। मंदिर को चार चरणों में बनाया गया था।
  8. पुरातन मंदिर में सुनहरे हिस्से का निर्माण चंद्रमा भगवान ने किया था।
  9. चांदी खंड को सूर्य देव द्वारा बनाया गया था।
  10. चंदन से बना लकड़ी का हिस्सा, श्रीकृष्ण द्वारा योगदान दिया गया था।
  11. पत्थर की संरचना का निर्माण भीमदेव नामक एक राजा ने किया था।

सोमनाथ क्षेत्र भगवान कृष्ण के भक्तों के लिए डरावनी याद वाली जगह है। यहां श्री कृष्ण को भालका तीर्थ स्थल पर पैर में तीर मारा गया था और कथाओं के अनुसार इसी के साथ भगवान ने अपनी देह त्याग दी थी।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर