Sawan 4th Somwar 2022 Date: जानिए, कब है सावन का चौथा और आखिरी सोमवार, इस दिन बन रहे हैं बेहद खास संयोग

Sawan Last Somwar Shubh Muhurat: सावन महीने का आखिरी व चौथा सोमवार 8 अगस्त को पड़ेगा। सावन का आखिरी सोमवार कई मायनों में बेहद खास है। इस दिन तीन संयोग बन रहे हैं। जिससे इस दिन के मायने तीन गुनी बढ़ जाएंगे। इस दिन भगवान शिव के साथ भगवान विष्णु जी की पूजा अवश्य करें।

Sawan ka Akhiri Somwar
sawan 2022  |  तस्वीर साभार: Instagram
मुख्य बातें
  •  सावन के महीने में भक्त भगवान शिव की भक्ति में लीन हो जाते हैं
  • सावन की समाप्ति 12 अगस्त को हो रही है
  •  इस साल सावन के महीने में चार सोमवार पड़े हैं

Sawan 4th Somwar Shubh Sanyog: इस साल 14 जुलाई से सावन का सोमवार शुरू हो चुका है। सावन का पावन महीना भगवान शिव को सबसे प्रिय होता है। सावन के महीने में भगवान शिव की पूजा की जाती है। सावन के महीने में भक्त भगवान शिव की भक्ति में लीन हो जाते हैं। मंदिरों में भी भक्तों की भीड़ उमड़ती है। सावन की समाप्ति 12 अगस्त को हो रही है। इस साल सावन के महीने में चार सोमवार पड़े हैं। इसमें से तीन सोमवार बीत चुके हैं। सावन का आखिरी व चौथा सोमवार 8 अगस्त को पड़ेगा। सावन का चौथा व आखिरी सोमवार  के कई मायनों में खास है। इस दिन बेहद खास और अद्भुत संयोग बन रहे हैं। इस दिन भगवान शिव की पूजा के साथ भगवान विष्णु जी की पूजा का विशेष महत्व है। आइए जानते हैं सावन के चौथे सोमवार में शुभ मुहूर्त व कौन सा शुभ संयोग बन रहा है।

Also Read- Shukra Grah Gochar 2022: 7 अगस्त को शुक्र का कर्क राशि में गोचर, जानिए किन राशियों को मिलने वाला है लाभ

जानिए, शुभ मुहूर्त

सावन का आखिरी सोमवार 8 अगस्त 2022 को पड़ेगा। यह सुबह 05 बजकर 46 मिनट- दोपहर 02 बजकर 37 मिनट तक। श्रावण मास पुत्रदा एकादशी तिथि आरंभ- 7 अगस्त 2022, रात 11 बजकर 50 मिनट से। श्रावण मास पुत्रदा एकादशी तिथि समाप्त- 8 अगस्त 2022, रात 9:00 बजे तक।

Also Read- Rakshabandhan 2022: भाई को बांध रही हैं राखी तो जरूर जान लें ये नियम, बांधते समय तीन गांठ जरूर लगाएं

बन रहा है विशेष संयोग

सावन का चौथा और अंतिम सोमवार 8 अगस्त को है। इस दिन सावन शुक्ल पक्ष की एकादशी यानी सावन पुत्रदा एकादशी भी है। सावन के आखिरी सोमवार पर काफी अद्भुत योग बन रहा है। इसे रवि योग कहते हैं।

इस दिन एक साथ तीन संयोग होने से इस दिन का महत्व तीन गुना बढ़ गया है। इस दिन देवों के देव महादेव और भगवान श्री विष्णु जी की पूजा करने से विशेष लाभ की प्राप्ति होती है। इस दिन एकादशी का व्रत भी पड़ रहा है, तो भगवान शिव के साथ विष्णु जी की पूजा जरूर करें।

(डिस्क्लेमर : यह पाठ्य सामग्री आम धारणाओं और इंटरनेट पर मौजूद सामग्री के आधार पर लिखी गई है। टाइम्स नाउ नवभारत इसकी पुष्टि नहीं करता है।)

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर