Makar Sankranti 2022 Date, Puja Muhurat: साल 2022 में मकर संक्रांति कब मनाई जाएगी, जानें शुभ मुहूर्त और महत्व

Makar Sankranti 2022 Date, Puja Muhurat, Time in India (मकर संक्रांति 2022 में कब है): मकर संक्रांति हिंदुओं का खास पर्व है। शास्त्रों के अनुसार मकर संक्रांति के बाद से ही सभी शुभ कार्य प्रारंभ किए जाते हैं।

Makar Sankranti 2022 Date, Puja Muhurat
Makar Sankranti 2022 Date, Puja Muhurat 
मुख्य बातें
  • मकर संक्रांति हिंदुओं का मुख्य पर्व है
  • इस दिन दान पूण्‍य करने का विशेष महत्व है
  • मकर संक्रांति के बाद से ही सभी शुभ कार्य प्रांरभ होते है

Makar Sankranti 2022 Date, Puja Muhurat: हिंदू धर्म में मकर संक्रांति का विशेष महत्व है। इस दिन लोग भगवान सूर्य की उपासना पूरी श्रद्धा के साथ करते हैं। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार पौष माह में जिस दिन सूर्य मकर राशि में प्रवेश करता है, उस दिन ही मकर संक्रांति मनाई जाती हैं। यह हर साल 14 जनवरी को मनाया जाता है। कभी-कभी तिथि के उलटफेर होने के कारण यह पर्व पर 15 जनवरी को भी मनाया जाता है।

मकर संक्रांति को भारत के अलग-अलग राज्यों में अलग नामों से जाना जाता हैं। ऐसी मान्यता है कि मकर संक्रांति के दिन से ही वसंत ऋतु का आगमन शुरू हो जाता है। मकर संक्रांति कब मनाई जाएगी यदि आप इस बात को लेकर परेशान हैं, तो इस आर्टिकल को पढ़कर आप मकर संक्रांति का डेट, शुभ मुहूर्त और महत्व जान सकते हैं।

मकर संक्रांति का डेट

हिंदू शास्त्र के अनुसार पौष माह में जिस दिन सूर्य मकर राशि में प्रवेश करता है, उसी दिन मकर संक्रांति मनाई जाती हैं। 2022 में मकर संक्रांति 14 जनवरी को ही मनाई जाएगी।

मकर संक्रांति का शुभ मुहूर्त 

दिन- 14 जनवरी पुण्य काल समय: 2 बजकर 12 मिनट से शुरू होकर शाम 5 बजकर 45 मिनट तक

महापुण्य काल का समय : 2 बजकर 12 मिनट से शुरू होकर 2 बजकर 36 मिनट तक  (कुल अवधि 24 मिनट)

मकर संक्रांति का महत्व

शास्त्रों के अनुसार मकर संक्रांति के दिन सूर्य देव अपने पुत्र शनि के घर उनसे मिलने जाते हैं। शनि मकर और कुंभ राशि का स्वामी हैं, इसलिए इस पर्व को पिता पुत्र के मिलन का पर्व माना जाता हैं। पौराणिक कथा के अनुसार इसी दिन भगवान विष्णु ने पृथ्वी लोक पर असुरों का संहार कर उनके सिर को काट कर मंदार पर्वत पर गाड़ दिया था। भारत में मकर संक्रांति को  कुछ जगहों पर उत्तरायण किया जाता है।

इस दिन नदी में स्नान करना, व्रत करना, दान पुण्य या भगवान सूर्य की उपासना करना बेहद शुभ होता हैं। इस दिन यदि व्यक्ति शनि देव के लिए प्रकाश का दान करें, तो बेहद लाभ हो सकता हैं। यूपी, पंजाब, बिहार और तमिलनाडु में यह दिन नई फसल काटने के तौर पर मनाया जाता हैं। मकर संक्रांति के दिन तिल और गुड़ खाने का विशेष महत्व होता हैं। मकर संक्रांति के दिन पतंग उड़ाने की भी परंपरा है।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर