Raksha Bandhan 2022: भस्म आरती के समय सबसे पहले बाबा महाकाल को बांधी गई राखी

आध्यात्म
आईएएनएस
Updated Aug 11, 2022 | 14:25 IST

Baba mahakal raksha bandhan 2022: रक्षाबंधन के मौके पर लडडुओं का भोग लगाया गया। मान्यता है कि श्रावण माह में उपवास करने के बाद रक्षाबंधन के दिन महाकाल को अर्पित किए गए लड्डू का प्रसाद लेकर उपवास का समापन किया जाता है...

raksha bandhan 2022 first rakhi tied to baba mahakal at ujjain temple -
महाकालेश्वर ज्योतिलिंग 
मुख्य बातें
  • देशभर में रक्षाबंधन धूमधाम से मनाया जा रहा है।
  • इस मौके पर उज्जैन में बाबा महाकाल को ङी राखी बांधी गई।
  • बताया जा रहा है कि सबसे पहले बाबा महाकाल को ही राखी बांधी गई है।

उज्जैन, 11 अगस्त। भाई-बहन के स्नेह और प्रेम का पर्व रक्षाबंधन धूमधाम से मनाया जा रहा है। सबसे पहले उज्जैन में बाबा महाकाल को राखी बांधी गई। मान्यता है कि सबसे पहले हर पर्व बाबा महाकाल के दरबार में मनाया जाता है। उसी परंपरा का निर्वहन करते हुए रक्षाबंधन पर्व के मौके पर भस्म आरती के समय सबसे पहले बाबा महाकाल को राखी बांधी गई। यह राखी पुजारी परिवार की महिलाओं ने बांधी जो रत्न जड़ित मोरपंखी राखी है।

रक्षाबंधन के मौके पर लडडुओं का भोग लगाया गया। मान्यता है कि श्रावण माह में उपवास करने के बाद रक्षाबंधन के दिन महाकाल को अर्पित किए गए लड्डू का प्रसाद लेकर उपवास का समापन किया जाता है।

पढ़ें- Raksha Bandhan 2022: रक्षा बंधन के बाद मिले बहन की राखी तो इन दिन-तारीखों पर ना बांधें, पढ़ें ये अहम जानकारी

भव्य श्रृंगार कर बाबा महाकाल को बांधी गई सबसे पहली राखी, सवा लाख लड्डुओं का लगा भोग

ज्ञात हो कि पिछले दो साल से कोरोना महामारी के कारण महाकालेश्वर ज्योतिलिंग रक्षा बंधन पर्व प्रतीकात्मक रूप से मनाया जा रहा था। इस बार स्थितियां बदली हैं और संक्रमण बहुत कम है लिहाजा रक्षाबंधन का पर्व धूमधाम से मनाया जा रहा है।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर