Sai Mantras: साईं के 12 मंत्रों का करें जाप, जीवन की सभी दुख और परेशानियां होंगी दूर

Sai Kripa Part 8, Sai Mantras : गुरुवार के दिन साईं बाबा के 12 मंत्र आपके जीवन के हर संकट को दूर कर सकते हैं। साईं की पूजा के साथ इस दिन इन 12 मंत्रों को जरूर जपना चाहिए।

Sai Mantras,साईं मंत्र जाप
Sai Mantras,साईं मंत्र जाप 

मुख्य बातें

  • साईं के 12 मंत्र जपने से दूर होंगे सारे कष्ट
  • गुरुवार के दिन साईं की पूजा जरूर करनी चाहिए
  • प्रसाद में बनाएं साईं का प्रिय खिचड़ी और करें दान

शिर्डी वाले साईं बाबा को मन से याद कर लेना ही उनके कृपा का पात्र आपको बना सकता है। यदि जीवन में आपके कष्ट हो या संकट दूर न हो रहे हों तो गुरुवार के दिन साईं बाबा की पूजा जरूर करें। इस दिन बाबा के प्रिय प्रसाद खिचड़ी का दान करना भी बहुत कल्याणकारी होता है। बाबा के आशीर्वाद में चमत्मकार होता है। ऐसे कई कष्ट या समस्या बाबा चुटकियों में दूर कर सकते हैं। इसलिए बाबा कि विशेष पूजा के लिए उनके 12 मंत्रों का जाप जरूर करें।

कम से कम 9 गुरुवार करें ये जाप

शिर्डी के साईं बाबा की पूजा के लिए 12 मंत्रों का जाप करना बहुत ही फलदायी होता है। यदि आपकी कोई ऐसी मनोकामना है जो पूरी नहीं हो पा रही अथवा कोई कष्ट या बीमारी हो तो आपको बाबा के इन 12 मंत्रों का जाप कम से कम 9 गुरुवार जरूर करना चाहिए। इस मंत्र के जाप से नौकरी, शादी, व्यापार वृद्धि, प्रमोशन या आर्थिक किसी भी तरह के संकट को दूर किया जा सकता है।

खिचड़ी का प्रसाद गरीबों में बांटे

साईं बाबा की प्रिय प्रसाद खिचड़ी बना कर गरीबों को इस दिन जरूर खिलाएं। इससे बाबा भी प्रसन्न होते हैं और आपके जीवन के कष्ट भी दूर होते हैं। यदि आप किसी मनोकामना की पूर्ति के लिए पूजा कर रहे तो आपको ये प्रसाद अधिक से अधिक लोगों को खिलाना चाहिए और कोशिश करें की गरीब कन्या का खर्च उठाने संकल्प लें। इससे कन्यादान जितना पुण्य की प्राप्ति होती है।

आइए जानें साईंबाबा का प्रिय विशेष मंत्र

1. ॐ साईं राम

2. ॐ साईं गुरुवाय नम:

3. सबका मालिक एक है

4. ॐ साईं देवाय नम:

5. ॐ शिर्डी देवाय नम:

6. ॐ समाधिदेवाय नम:

7. ॐ सर्वदेवाय रूपाय नम:

8. ॐ सर्वज्ञा सर्व देवता स्वरूप अवतारा

9. ॐ अजर अमराय नम:

10. ॐ मालिकाय नम:

11. जय-जय साईं राम

12. ॐ शिर्डी वासाय विद्महे सच्चिदानंदाय धीमहि तनो साईं प्रचोदयात।

इन विशेष मंत्रों से साईं की आराधना प्रतिदिन या हर गुरुवार को जरूर करें।

अगली खबर