Bhuvneshwari Jayanti 2022 Date: ये 5 चीजें अर्पित करने से प्रसन्न होती हैं ब्राह्मांड की रानी मां भुवनेश्वरी

Bhuvneshwari Jayanti 2022: पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, प्रकृति का नियमित संचालन इन्हीं के हाथों में होता है। ऐसा कहते हैं कि देवी भुवनेश्वरी ने ही धरती से दानवों का सर्वनाश किया था पृथ्वी की चरना की थी। इसलिए इन्हें भगवान शिव की अभिव्यक्ति भी कहा जाता है। इनके मस्तक पर भगवान शिव की तरह चंद्रमा भी सजा हुआ है।

Bhuvneshwari Jayanti 2022
देवी भुवनेश्वरी 
मुख्य बातें
  • ब्रह्मांड की रानी हैं देवी भुवनेश्वरी
  • इनकी पूजा से मिटेंगे पाप
  • जानें, भुवनेश्वरी जयंती की पूजन विधि

Bhuvneshwari Jayanti 2022 Date:भाद्रपद महीने के शुक्ल पक्ष की द्वादशी तिथि को भुवनेश्वरी जयंती का त्योहार मनाया जाता है। ये आदि शक्ति का ही एक अवतार है। इन्हें ब्रह्मांड की रानी और ओम शक्ति भी कहा जाता है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, प्रकृति का नियमित संचालन इन्हीं के हाथों में होता है। ऐसा कहते हैं कि देवी भुवनेश्वरी ने ही धरती से दानवों का सर्वनाश किया था पृथ्वी की चरना की थी। इसलिए इन्हें भगवान शिव की अभिव्यक्ति भी कहा जाता है। इनके मस्तक पर भगवान शिव की तरह चंद्रमा भी सजा हुआ है। इस साल भुवनेश्वरी जयंती बुधवार, 07, सितंबर को मनाई जाएगी।

भुवनेश्वरी जयंती के दिन आदि शक्ति के सभी मंदिरों में देवी भुवनेश्वरी की पूजा की  जाती है। ऐसा कहते हैं कि इनकी विधिवत पूजा करने से धरती पर रहने वाले प्राणियों को शक्ति प्रदान होती है। पूरा ब्रह्मांड उनके शरीर का हिस्सा है और इसके प्राणियों को इन्होंने गहने के रूप में धारण किया हुआ है। कई जगहों पर इनकी जयंती बड़ी ही धूमधाम से मनाई जाती है। इनकी उपासना इंसान के से सारे पाप मिट जाते हैं। 

Also Read: कुंडली में कब और कैसे बनता है दरिद्र योग? जानें इससे बचने के उपाय

पूजन विधि
भुवनेश्वरी जयंती के दिन स्नानादि के बाद साफ-सुथरे वस्त्र धारण करें। इसके बाद आदि शक्ति या भगवान शिव के किसी भी मंदिर में जाकर इनकी पूजा करें। माता को पांच चीजें बहुत प्रिय होती हैं। इनकी पूजा में सफेद रंग के फूल, चावल, चंदन, दूध और शहद का इस्तेमाल किया जाता है। कुछ लोग देवी भुवनेश्वरी को इत्र भी अर्पित करते हैं। इसके बाद इन्हें मिठाई और फल का भोग लगाएं। इस भोग को प्रसाद के रूप में वितरित करें।

Also Read: मंगलवार को इस तरह से करें हनुमान जी की पूजा, सभी संकट होंगे दूर- बनेंगे बिगड़े काम

देवी भुवनेश्वरी के महामंत्र
भुवनेश्वरी जयंती के दिन देवी भुवनेश्वरी के मंत्रों का जाप करने से आपकी हर छोटी-बड़ी समस्या का निवारण हो सकता है। आइए भुवनेश्वरी जयंती के दिन आप एक माला का मंत्र जाप कर सकते हैं।

1.  "ऊं ऎं ह्रीं श्रीं नम:”  

2. "हृं ऊं क्रीं” त्रयक्षरी मंत्र

2। "ऐं हृं श्रीं ऐं हृं

(डिस्क्लेमर : यह पाठ्य सामग्री आम धारणाओं और इंटरनेट पर मौजूद सामग्री के आधार पर लिखी गई है। टाइम्स नाउ नवभारत इसकी पुष्टि नहीं करता है।)

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर