Chanakya Niti: अगर आपमें भी हैं ये खास गुण तो नौकरी में तरक्की पक्‍की, चाणक्‍य ने बताया कामयाबी का रहस्‍य

Chanakya Niti in hindi: चाणक्य कहते हैं कि नौकरी में सफलता पाने के लिए व्‍यक्ति में कई गुणों की जरूरत पड़ती है। व्‍यक्ति को जब हर तरफ से असफलता मिलने लगे तो इस निराशा से उबरने में चाणक्य की ये नीतियां एक उम्‍मीद की तरह मार्गदर्शन करती हैं।

Chanakya Niti
चाणक्‍य ने बताया नौकरी में कामयाबी के उपाय   |  तस्वीर साभार: Representative Image
मुख्य बातें
  • निर्धारित लक्ष्य के साथ आगे बढ़ना दिलाता है सफलता
  • अनुशासन और मेहनत से किया गया कार्य होता है पूरा
  • वफादारी के साथ सही समय पर सही निर्णय लेना जरूरी

Chanakya Niti in hindi: आचार्य चाणक्य को राजनीति और अर्थशास्‍त्र का सर्वश्रेष्ठ विद्वान माना जाता है। आचार्य चाणक्य की नीतियां सदियों से लोगों का मार्गदर्शन करती आ रही है। चाणक्य की इन नीतियों के बल पर ही कई राजा महाराजाओं ने अपने शत्रु पर सफलता पाई और वर्षों तक सफलता पूर्वक शासन किया। आचार्य ने अपने नीतिशास्‍त्र में अनेकों विषयों की विस्तार से जानकारी दी है। फिर वह चाहे जीवन जीने का तरीका हो या फिर शिक्षा व नौकरी में सफलता। जब व्‍यक्ति को हर तरफ से असफलता मिलने लगे तो इस निराशा से उबरने में चाणक्य की नीतियां एक उम्‍मीद की तरह मार्गदर्शन करती हैं। आचार्य चाणक्य ने नौकरी में सफलता पाने के चार खास गुण बताए हैं।

निर्धारित लक्ष्य

आचार्य चाणक्‍य कहते हैं कि नौकरी में व्‍यक्ति को कामयाबी तभी मिलती जब उसका लक्ष्य पहले से ही निर्धारित होता है। क्‍योंकि वर्क प्लानिंग के अनुसार किसी भी कार्य को समय से पूरा करना आसान हो जाता है। वहीं, जो लोग बगैर प्‍लानिंग के साथ आगे बढ़ते हैं, वे रास्‍ते में ही भटक जाते हैं।

अनुशासन और मेहनत

आचार्य के अनुसार किसी निर्धारित लक्ष्य को पूरा करने के लिए सबसे ज्‍यादा जरूरत मेहनत और अनुशासन की पड़ती है। इन दोनों चीजों से कठिन से कठिन लक्ष्‍य को भी हासिल किया जा सकता है। लक्ष्य प्राप्ति के लिए दूसरों के भरोसे कभी नहीं बैठना चाहिए। चाणक्य कहते है कि अगर व्‍यक्ति अनुशासन के साथ मेहनत करना छोड़ दे तो उसे कभी सफलता नहीं मिल सकती।

वफादारी जरूरी

चाणक्‍य कामनना है कि सफलता पाने के लिए अपने काम के प्रति वफादार होना भी जरूरी है। जो लोग अपने काम में लापरवाही करते हैं उन्‍हें नुकसान उठाना पड़ता है और सफलता उनसे दूर होती जाती है। अगर व्‍यक्ति अपने काम के प्रति वफादार रहे तो उसे भविष्य में सफलता जरूर हासिल होती है।

जोखिम से न डरें

चाणक्‍य कहते हैं कि व्‍यक्ति को कभी जोखिम लेने से नहीं डरना चाहिए। सही समय पर लिया गया फैसला अगर जोखिम भरा है तब भी वह सफलता दिलाता है। अगर जोखिम से डर कर पीछे लौट गए तो कभी सफलता नहीं मिल पाती। आचार्य के अनुसार, वही व्यक्ति सफल होता है जो असफलता से नहीं डरता है, इसलिए निर्णय लेने से कभी न डरें।

(डिस्क्लेमर : यह पाठ्य सामग्री आम धारणाओं और इंटरनेट पर मौजूद सामग्री के आधार पर लिखी गई है। टाइम्स नाउ नवभारत इसकी पुष्टि नहीं करता है।)

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर